बिहारः अस्पतालों की धांधली उजागर करने वाले पत्रकार की हत्या, सड़क किनारे फेंक दिया गया अधजला शव

मधुबनी के एक युवा पत्रकार की हत्या कर अधजला शव गांव किनारे सड़क के पास फेंक दिया गया। बीते दिनों वह अस्पताल की धांधली पर लिख रहे थे।

पत्रकार बुद्धिनाथ उर्फ अविनाश झा। फोटो- ट्विटर @Mithileshdhar

बिहार के मधुबनी में पत्रकार की हत्या के बाद सनसनी फैल गई है। शुक्रवार शाम एक 22 साल के पत्रकार औऱ आरटीआई कार्यकर्ता का शव सड़क के किनारे पाया गया। शव को जलाकर फेंका गया था। पत्रकार का नाम अविनाश झा था जो कि एक लोकल न्यूज पोर्टल में काम करते थे। बीते दिनों उन्होंने एक निजी अस्पताल में धांधली को लेकर पोस्ट अपलोड की थी। इसके बाद से ही वह गायब थे।

स्थानीय लोगों के मुताबिक अविनाश की रिपोर्टिंग की वजह से कई क्लीनिक और निजी अस्पतालों पर कार्रवाई हुई थी। उनमें से कई अस्पताल बंद हो गए थे तो कुछ को जुर्माना भरना पड़ा था। बताया जाता है कि रिपोर्ट्स को रोकने के लिए उन्हें न सिर्फ धमकियां मिलती रहती थीं बल्कि कई बार मोटी रकम का ऑफर भी दिया जाता था।

बेनिपट्टी में लोहिया चौक के पास उनका मकान है। घर पर लगे सीसीटीवी के मुताबिक उन्हें आखिरी बार मंगलवार को रात में देखा गया था। रात में 9 बजे के करीब वह घर के पास ही टहल रहे थे और मोबाइल पर बात कर रहे थे। सीसीटीवी फुटेज में यह भी देखा गया कि वह कई बार अपनी क्लीनिक में भी गए जो कि उसी लेन पर है।

आखिरी बार उन्हें रात 10 बजे के करीब देखा गया जब वह गले में पीले रंग का मफलर डालकर पैदल ही लोहिया चौक के पास टहल रहे थे। वह बेनीपट्टी पुलिस स्टेशन के पास से गुजरे थे। उनकी मोटरसाइकल घर पर ही थी। हालांकि क्लीनिक खुला हुआ था और लैपटॉप भी खुला था। सुबह हुई तो घर वाले यही सोच रहे थे कि वह किसी काम से गए होंगे औऱ शाम तक घर आ जाएंगे। लेकिन जब एक दिन बीत गया और वह वापस नहीं लौटे तो घर वालों ने पुलिस में शिकायत की और उनका मोबाइल फोन ट्रैक करने की कोशिश की गई।

बुधवार सुबह 9 बजे तक ही उनका फोन पांच किलोमीटर दूर एक गांव में स्विच ऑफ हो गया। पुलिस वहां पहुंची लेकिन आगे का कोई सुराग नहीं मिल सका। एक और दिन बीत गया और पुलिस पत्रकार को नहीं ढूंढ पाई। शुक्रवार को अविनाश के चचेरे भाई को पता चला कि उनका शव सड़क पर पाया गया है। घऱ-परिवार के लोग वहां पहुंचे लेकिन शव बुरी तरह जला हुआ था। उंगली की अंगूठी से उनकी पहचान की जा सकी। उनकी गर्दन और पैर पर चेन से बांधने का निशान भी पाया गया।

शव को पोस्टमॉर्टम के बाद परिवार को सौंप दिया गया। अब लोग यह भी सवाल उठा रहे हैं कि घर से 100 मीटर की दूरी पर थाना होने के बावजूद किसी को कैसे किडनैप कर लिया गया और हत्या भी कर दी गई।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट