ताज़ा खबर
 

अखिलेश यादव की महत्वाकांक्षी यश भारती सम्मान की जगह संस्कृति पुरस्कार देगी योगी सरकार, अटलजी के नाम पर दिए जाएंगे 6 लाख

यश भारती को खत्म कर इसकी जगह नया पुरस्कार शुरू करने का निर्णय गुरुवार को लिया गया। ये निर्णय पर्यटन मंत्री नीलकंठ तिवारी की अध्यक्षता में हुई बैठक में लिया गया।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: February 14, 2020 11:53 AM
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर एक राज्य संस्कृति पुरस्कार देने का फैसला किया है। योगी सरकार ने अखिलेश सरकार की महत्वाकांक्षी यश भारती पुरस्कार को बंद कर दिया है। इसी के साथ यश भारती से सम्मानित लोगों को दी जाने वाली मासिक पेंशन भी बंद कर दी गई है।

आज तक की रिपोर्ट के मुताबिक यश भारती को खत्म कर इसकी जगह नया पुरस्कार शुरू करने का निर्णय गुरुवार को लिया गया। ये निर्णय पर्यटन मंत्री नीलकंठ तिवारी की अध्यक्षता में हुई बैठक में लिया गया। नए पुरस्कार में कुछ नए क्षेत्रों को शामिल करने का निर्देश सरकार की ओर से दिया गया है। इसके अलावा यश भारती में शामिल कुछ क्षेत्र बाहर कर दिये गए हैं।

पूर्व प्रधानमंत्री के नाम पर दिये जाने वाले इस पुरस्कार की इनामी राशि 6 लाख रुपये होगी। इसके अलावा 23 अन्य पुरस्कार भी दिये जाएंगे। जिन्हें कई बड़ी शख्सियतों के नाम पर रखा गया है। रिपोर्ट के मुताबिक इन पुरस्कारों की इनामी राशि 2-2 लाख रुपये होगी।

अखिलेश सरकार द्वारा दिये जाने वाले यश भारती पुरस्कार के दायरे में फिल्म, आकाशवाणी, निर्देशन, साहित्य विज्ञान और खेल आदि विधाएं आती थीं। इन छेत्रों को योगी सरकार द्वारा दिये जाने वाले नए पुरस्कार से बाहर कर दिया गया है। इनकी जगह योगी सरकार ने लोक संगीत, शास्त्रीय संगीत, आधुनिक और परंपरागत कला, रामलीला, नौटंकी, मूर्तिकला, लोक बोलियां, लोक गायन, लोक नृत्य आदि को शामिल किया है।

बता दें यश भारती, मुलायम सिंह यादव सरकार के फ्लैगशिप प्रोग्राम में से एक था। ये पहली बार नहीं है जब इस पुरस्कार पर किसी सरकार ने कैंची चलाई हो। मुलायम सरकार के बाद मायावती ने सरकार बनाई थी। उस दौरान बहुजन समाज पार्टी की सरकार ने भी यश भारती पुरस्कार को बंद कर दिया था। हालांकि बाद में अखिलेश यादव के मुख्य मंत्री बनते ही ये पुरस्कार फिर शुरू कर दिया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 ‘पाकिस्तानी प्रेमिका को सुषमा स्वराज ने दिलाया था वीजा, तब भारतीय दूल्हे से हुई थी शादी’ जयंती पर दो संस्थानों का नाम बदल दी अनूठी श्रद्धांजलि
2 Aaj Ki Baat- 14 feb | पुलवामा हमले की पहली बरसी, लव आजकल 2 ने मारी पर्दे पर एंट्री हर खास खबर Jansatta के साथ
3 ‘…तो कांग्रेस के खिलाफ फूकेंगे बिगुल’, ज्योतिरादित्य सिंधिया ने लोगों से कही दिल की बात
ये पढ़ा क्या?
X