ताज़ा खबर
 

योगी आदित्य नाथ मेरे ‘अभिभावक’, अगर उनकी ‘कृपा’ हुई तो ज्वाइन करूंगा बीजेपी- पत्नी के कत्ल के आरोपी अमनमणि त्रिपाठी का बयान

शनिवार (29 अप्रैल) को गोरखपुर विश्वविद्यालय से एक कार्यक्रम में सीएम योगी जब राज्य की कानून व्यवस्था पर नकेल कसने का वादा कर रहे थे उसी दौरान उनके साथ मंच पर अमनमणि त्रिपाठी मौजूद थे।

शनिवार (29 अप्रैल) को गोरखपुर में सीएम योगी आदित्य नाथ के साथ बातचीत करते हत्यारोपी अमनमणि त्रिपाठी (Source-Jansatta online)

नौतनवां के निर्दलीय विधायक और पत्नी सारा के कत्ल के आरोपी अमनमणि त्रिपाठी निकट भविष्य में बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। शनिवार (29 अप्रैल) को गोरखपुर में सीएम योगी आदित्य नाथ के साथ मंच साझा करने के बाद अमनमणि त्रिपाठी ने यूपी की सियासत में कई अटकलों को जन्म दे दिया है। रविवार (30 अप्रैल) को अमनमणि त्रिपाठी ने एक बार फिर से गोरखपुर में योगी आदित्य नाथ से मुलाकात की। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक बाहुबली अमरमणि के बेटे अमनमणि ने एएनआई को बताया कि योगी आदित्य नाथ उनके अभिभावक जैसे हैं और अगर उन्हें भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन करने के लिए कहा जाता है तो वे ऐसा ही करेंगे। पत्नी की हत्या के आरोप में सीबीआई जांच का सामना कर रहे अमनमणि ने कहा कि वे इस केस में अभी तक मात्र एक आरोपी हैं और अदालत ने उन्हें अबतक दोषी करार नहीं दिया है।

सीएम योगी आदित्‍य नाथ के कार्यक्रम में मुस्‍कुराता नजर आया अमनमणि त्रिपाठी। (लाल घेरे में) (PTI Photo)

बता दें कि शनिवार को गोरखपुर विश्वविद्यालय से एक कार्यक्रम में सीएम योगी जब राज्य की कानून व्यवस्था पर नकेल कसने का वादा कर रहे थे उसी दौरान उनके साथ मंच पर अमनमणि त्रिपाठी मौजूद थे। दो दिनों के गोरखपुर प्रवास पर पहुंचे सीएम योगी आदित्य नाथ ने 29 अप्रैल को कहा था कि जन्हें कानून व्यवस्था में यकीन नहीं है वे राज्य छोड़कर चले जाएं। लेकिन इसी दौरान उनके साथ मंच पर अमनमणि त्रिपाठी की मौजूदगी ने कई सवाल खड़े कर दिये थे। यूपी की सियासत में शनिवार से ही ये कयास लगाया जा रहा है कि अमनमणि त्रिपाठी बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। बाहुबली अमरमणि और उनके बेटे अमनमणि त्रिपाठी की ओर से गोरखपुर में सीएम के स्वागत में पोस्टर भी लगाये गये थे।

अमनमणि ने दावा किया था कि उनकी पत्नी सारा की मौत लखनऊ से दिल्ली आते वक्त एक सड़क दुर्घटना में दिनांक 9 जुलाई 2015 को हो गई थी। लेकिन सारा के परिवार वालों ने इस थ्योरी पर विश्वास नहीं किया था। बाद में सीबीआई ने इस केस की जांच शुरू की। गाजियाबाद की विशेष सीबीआई अदालत में दायर चार्जशीट में सीबीआई ने अमनमणि त्रिपाठी पर धारा 302 (हत्या), धारा-498-A (पति द्वारा पत्नी पर अत्याचार ढाना), धारा-201 (अपराध के सबूतों को गायब करना) और धारा 120-B (आपराधिक षड़यंत्र) के तहत आरोप लगाया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App