ताज़ा खबर
 

कोरोना के बीच योग उम्मीद की किरण- PM; राष्ट्रपति से लेकर मंत्रियों-CMs ने यूं किए आसन

इसी बीच, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ.हर्षवर्धन ने कहा, "हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण है हमारा स्वास्थ्य और हमारा चरित्र। हमारे लिए अपने स्वास्थ्य की रक्षा योग के माध्यम से करने का प्रयास करना कोविड के काल में और उपयोगी, प्रासंगिक और महत्वपूर्ण हो गया है।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर वर्चुअल कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम व दिल्ली में अलग-अलग जगह योग करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ.हर्षवर्धन। (फोटोः ANI)

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जब पूरी दुनिया कोरोना वायरस महामारी का मुकाबला कर रही है, तब योग उम्मीद की किरण बना है।

‘कठिन वक्त में बना आत्मबल का माध्यम’: सोमवार (21 जून, 2021) को सातवें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर ऑनलाइन माध्यम से कहा कि कोरोना महामारी के बावजूद इस बार की योग दिवस की थीम ‘योग फॉर वेलनेस’ ने करोड़ो लोगों में योग के प्रति उत्साह को और बढ़ाया। जब कोरोना के अदृष्य वायरस ने दुनिया में दस्तक दी थी, तब कोई भी देश, साधनों से, सामर्थ्य से और मानसिक अवस्था से, इसके लिए तैयार नहीं था। हम सभी ने देखा है कि ऐसे कठिन समय में, योग आत्मबल का एक बड़ा माध्यम बना। आज मेडिकल साइंस भी उपचार से साथ-साथ हीलिंग पर भी उतना ही बल देता है और योग हीलिंग प्रोसेस में उपकारक है। हमें संतोष है कि आज योग के इस पहलू पर दुनियाभर के विशेषज्ञ अनेक प्रकार के साइंटिफिक रिसर्च भी कर रहे हैं।

योग से बढ़ा है प्रेमः पीएम ने कहा, ‘‘दो वर्ष से दुनिया भर के देशों में और भारत में भले ही बड़ा सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित नहीं हुआ हो लेकिन योग दिवस के प्रति उत्साह कम नहीं हुआ है। इस मुश्किल समय में, इतनी परेशानी में लोग इसे भूल सकते थे, इसकी उपेक्षा कर सकते थे। लेकिन इसके विपरीत, लोगों में योग का उत्साह बढ़ा है, योग से प्रेम बढ़ा है।’’ पीएम ने कहा कि योग हमें तनाव से शक्ति का और नकारात्मकता से रचनात्मकता का रास्ता दिखाता है। उन्होंने विश्वास जताया कि योग जनता के स्वास्थ्य की देखभाल में निवारक एवं प्रेरक भूमिका निभाता रहेगा।

M-Yoga ऐप के बारे में PM ने बतायाः प्रधानमंत्री ने इस मौके पर योग संबंधी एक ऐप शुरू करने की जानकारी दी। उन्होंने कहा, ‘‘अब विश्व को ‘एम-योग’ ऐप की शक्ति मिलने जा रही है। इस ऐप पर योग संबंधी सामान्य नियमों के आधार पर योग प्रशिक्षण के कई वीडियो दुनिया की अलग-अलग भाषाओं में उपलब्ध होंगे।’’

‘स्वास्थ्य और चरित्र है महत्वपूर्ण’: इसी बीच, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ.हर्षवर्धन ने कहा, “हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण है हमारा स्वास्थ्य और हमारा चरित्र। हमारे लिए अपने स्वास्थ्य की रक्षा योग के माध्यम से करने का प्रयास करना कोविड के काल में और उपयोगी, प्रासंगिक और महत्वपूर्ण हो गया है।

केंद्रीय मंत्रियों से लेकर CMs ने किए आसनः योग दिवस पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ.हर्षवर्धन (दिल्ली में), केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी (नागपुर में), केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद (पटना में), केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (चंडीगढ़ में) ने योग के विभिन्न आसन किए। इस दौरान लद्दाख में भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) ने भी पैंगोंग त्सो झील के किनारे योग किया।

छह साल पहले इतिहास में यूं दर्ज हुआ योग दिवसः 21 जून की तारीख ने पिछले कुछ ही बरस में इतिहास में एक महत्वपूर्ण स्थान हासिल कर लिया है। अन्य तमाम घटनाओं के अलावा यह तारीख छह वर्ष पहले अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में इतिहास में दर्ज हुई जब भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की पहल पर संयुक्त राष्ट्र ने 21 जून को अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने का आह्वान किया और देखते ही देखते दुनिया के तमाम देश इस मुहिम में शामिल हो गए।

भारत सहित दुनिया भर में 21 जून को योग दिवस का त्यौहार मनाया जाता है और सभी इसमें बढ़ चढ़कर शिरकत करते हैं। 21 जून के दिन की एक खासियत है कि यह वर्ष के 365 दिन में सबसे लंबा दिन होता है और योग के निरंतर अभ्यास से व्यक्ति को लंबा जीवन मिलता है इसलिए इस दिन को योग दिवस के रूप में मनाने का निर्णय किया गया।

Next Stories
1 समर सोलस्टाइसः दिल्ली में 21 जून को दिन होगा 13 घंटे 58 मिनट का, जानिए क्यों
2 सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार का हलफनामा, कोरोना से हुई मौत को छिपाने वाले डॉक्टरों के खिलाफ होगी कार्रवाई
3 मिल्खा सिंह का निधन मेरे परिवार और पाकिस्तान के लिए भी बड़ा नुकसान-बोले अब्दुल खालिक के बेटे
ये पढ़ा क्या?
X