ताज़ा खबर
 

मोदी सरकार पर यशवंत सिन्हा का हमला, कहा- राजनाथ, सुषमा और निर्मला सीतारमण को कुछ नहीं पता होता

सिन्हा ने कहा कि कैबिनेट में दूसरे नंबर के मंत्री, गृह मंत्री राजनाथ सिंह को जम्मू कश्मीर में गठबंधन तोड़ने के बीजेपी के फैसले की जानकारी नहीं थी, उन्हें भी इस कदम को लेकर अंधेरे में रखा गया था।

पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी (फोटो सोर्स- पीटीआई)

राफेल डील पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोलने के बाद अब पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने कैबिनेट को लेकर सवाल खड़े किए हैं। शुक्रवार को सिन्हा ने मुंबई में आयोजित राष्ट्र मंच कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी की सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि देश के सभी मंत्रालय प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के द्वारा चलाए जा रहे हैं और मोदी के मंत्रियों के पास कुछ काम नहीं है।

सिन्हा ने कहा, ‘सभी मंत्रालय प्रधानमंत्री कार्यालय से चल रहे हैं। मंत्रियों के पास कोई काम नहीं है। अगर कोई मंत्री यह कह रहा है कि वह बिजी है, तो वह झूठ बोल रहा है। यह केवल मोदी सरकार का मामला नहीं है, बल्कि यह सरकार चलाने का प्रसिद्ध गुजरात मॉडल है।’ इस कार्यक्रम में पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण शौरी ने भी शिरकत की थी। शौरी ने भी मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मोदी सरकार केवल दो लोगों की सरकार है, एक तो मोदी खुद और दूसरा बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह। उन्होंने आरोप लगाया कि सीबीआई भी सीधे तौर पर शाह को रिपोर्ट करता है।

इसके साथ ही यशवंत सिन्हा ने यह विवादित राफेल डील पर भी मोदी सरकार को घेरा। उन्होंने आरोप लगाया कि बोफोर्स घोटाला 64 करोड़ रुपए का था, लेकन राफेल डील घोटाला 35000 करोड़ रुपए का है। इसके अलावा सिन्हा ने कहा कि कैबिनेट में दूसरे नंबर के मंत्री, गृह मंत्री राजनाथ सिंह को जम्मू कश्मीर में गठबंधन तोड़ने के बीजेपी के फैसले की जानकारी नहीं थी, उन्हें भी इस कदम को लेकर अंधेरे में रखा गया था। इसके साथ ही यशवंत सिन्हा ने यह भी कहा कि राजनाथ सिंह को नागा पीस एकॉर्ड 2015 के बारे में भी जानकारी नहीं थी।

सिन्हा ने आगे कहा, ‘विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को फॉरेन पॉलिसी के मामलों में लूप में नहीं रखा जाता। वह अब ट्विटर मंत्री बन चुकी हैं। वित्त मंत्री अरुण जेटली को नोटबंदी का कोई आइडिया नहीं था। जब राफेल डील हुई उस वक्त रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण को भी कोई जानकारी नहीं थी।’ शौरी ने कहा कि विपक्षी दलों को 2019 के चुनाव के लिए एक होना ही होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App