ताज़ा खबर
 

अपने आका के कहे पर चलने वाले पशु बन चुके हैं हम- अटल सरकार में मंत्री रहे यशवंत सिन्हा का बिना नाम लिए मोदी सरकार पर तंज

सिन्हा ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा है कि तर्कशील भारत मर चुका है। हम अब अपने आका के कहे पर चलने वाले पशु बन चुके हैं। अपने इस ट्वीट में सिन्हा ने पीएम मोदी का एक बार भी नाम नहीं लिया। लेकिन इशारों ही इशारों में बहुत कुछ कह दिया।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Published on: April 7, 2020 3:42 PM
पूर्व BJP नेता व तब की अटल सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे यशवंत सिन्हा। (एक्सप्रेस फाइल फोटोः पार्था पॉल)

पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने एक बार फिर बिना नाम लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसा है। अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में वित्त मंत्री रहे यशवंत सिन्हा मोदी सरकार के कटु आलोचक हैं। सिन्हा ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा है कि तर्कशील भारत मर चुका है। हम अब अपने आका के कहे पर चलने वाले पशु बन चुके हैं। अपने इस ट्वीट में सिन्हा ने पीएम मोदी का एक बार भी नाम नहीं लिया। लेकिन इशारों ही इशारों में बहुत कुछ कह दिया।

सिन्हा ने ट्वीट में लिखा ” तर्कशील भारतीय मर चुका है। हम सभी अपने मालिक या आका के कहे पर चलने वाले मवेशी बन गए हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि हम इसका आनंद ले रहे हैं। याद रखें कि इतिहास गैर-अनुरूपताओं द्वारा बनाया गया है, न कि उन लोगों द्वारा, जो आँख बंद करके पालन करते हैं।”

Coronavirus in India LIVE Updates: यहां पढ़ें कोरोना वायरस से जुड़ी सभी लाइव अपडेट 

सिन्हा की इस बात से बहुत से यूजर्स ने सहमत हैं। एक ने लिखा “आप बिलकुल ठीक कह रहे हैं। ऐसा ही कुछ नाजी शासन के दौरान जर्मनी में भी हुआ था अब मोदी के भाजपा राज में भारत में हो रहा है। वाजपेयी के समय भाजपा अलग थी अब एक इंसान पार्टी से भी बड़ा बन गया है और उसने राष्ट्रवाद की अपनी परिभाषा बनाई है जिस से वह लोगों को गुमराह करता है। यह फासीवाद है।”

एक अन्य उजर ने लिखा “सर ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि मीडिया आका के तलवे चाटने में लगा है। सरकार कोई भी गलती करती है मीडिया उसे छुपने आ जाता है।” एक अन्य ने लिखा “अगर टारगेट करके सही बात बताएंगे तो लोग सही बात पर ध्यान ना देकर उठी हुई उंगली पर ध्यान देंगे। फिर किसी का कोई भला ना हो पाएगा।”

बता दें इससे पहले सिन्हा ने दीया और मोमबत्ती जलाने वाली अपील पर भी कटाक्ष किया था। तब सिन्हा ने लिखा था कि हमारे प्रधानमंत्री का सारगर्भित संदेश का लाभ पूरे देश की जनता को मिलेगा। कोरोना के अंधेरे को हराने के लिए उनका यह संदेश भारत तक ही सीमित नहीं होना चाहिए। यशवंत सिन्हा ने कहा कि हम सबको मिलकर पूरी दुनिया में उनके इस संदेश को फैलाना चाहिए।

इसके ट्वीट के थोड़ी देर बाद सिन्हा ने एक और ट्वीट किया और लिखा “भारत के पीएम देश में अंधविश्वास को बढ़ावा देने के लिए अपने पद का दुरुपयोग नहीं कर सकते। सुबह 9 बजे, 9 मिनट, वह क्या कर रहे है? देश ने इसे क्यों बर्दाश्त किया? इससे पहले कि बहुत देर हो जागो। इससे पहले किए गए मेरे ट्वीट का उदय कई भक्तों को समझ नहीं आया।”

जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस? । इन वेबसाइट और ऐप्स से पाएं कोरोना वायरस के सटीक आंकड़ों की जानकारी, दुनिया और भारत के हर राज्य की मिलेगी डिटेल । कोरोना संक्रमण के बीच सुर्खियों में आए तबलीगी जमात और मरकज की कैसे हुई शुरुआत, जा

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Coronavirus से लड़ाई: 20 हजार करोड़ रुपए जुटाने के लिए सोनिया गांधी ने नरेंद्र मोदी को दिया ये आइडिया
2 देश में 43 महीने के उच्चतम स्तर पर पहुंची बेरोजगारी दर, विकास दर भी 2008 के बाद सबसे धीमी
3 corona Crisis: 14 अप्रैल के बाद चलेंगी ट्रेनें? Indian Railways IRCTC को COVID-19 के खौफ से नहीं मिल रहे यात्री! दोबारा Tejas की बुकिंग्स बंद