ताज़ा खबर
 

कुछ करिये या फिर जहर का इंजेक्शन देकर मार दीजिए, ऑक्सीजन की कतार में खड़े शख्स का दर्द

उत्तरप्रदेश में कई कोरोना संक्रमित हॉस्पिटल में प्रवेश ना पाने के कारण सड़क पर अपना दम तोड़ रहे हैं तो कईयों के परिजन सिलिंडर लेकर ऑक्सीजन दुकान के बाहर लंबी कतारों में खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं।

oxygen crisis, lucknow, delhiउत्तरप्रदेश में स्थिति दिन प्रतिदिन भयावह होती जा रही है। इन दिनों लखनऊ में ऑक्सीजन रिफिलिंग सेंटर के बाहर कोरोना संक्रमितों के परिजनों की लंबी कतारें लगी हुई है। (फोटो – पीटीआई)

कोरोना के बढ़ते संक्रमण की वजह से पूरे देश की स्वास्थ्य व्यवस्था फेल हो गई है। कोरोना संक्रमितों के परिजन बेड और ऑक्सीजन के लिए दर दर भटक रहे हैं। ऑक्सीजन की कमी की वजह से कई लोग दो दो दिन तक सिलेंडर लेकर गैस दुकानों के सामने अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं। लखनऊ में एक गैस दुकान के बाहर कोरोना संक्रमित के परिजन अपना दर्द बयां करते हुए कहने लगे कि कुछ करिए या फिर जहर का इंजेक्शन देकर हमें मार दीजिए।

उत्तरप्रदेश में स्थिति दिन प्रतिदिन भयावह होती जा रही है। कई कोरोना संक्रमित हॉस्पिटल में प्रवेश ना पाने के कारण सड़क पर अपना दम तोड़ रहे हैं तो कईयों के परिजन ऑक्सीजन सिलिंडर लेकर गैस दुकान के बाहर लंबी लंबी कतारों में खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं। लखनऊ के एक गैस रिफिलिंग सेंटर पर अपनी बारी का इंतजार कर रहे एक युवक अपना दर्द बताते हुए रोने लगे।

युवक ने रोते हुए कहा कि मेरी मां बीमार है और यहां सिर्फ सांसद और विधायकों की ही सुनी जा रही है। मैं पिछले दो दिन से अपनी बारी का इंतजार कर रहा हूं। यहां कई मरीज अपने एंबुलेंस में बैठकर ऑक्सीजन के आने का इंतजार कर रहे हैं. लेकिन उन्हें ऑक्सीजन नहीं मिल पा रहा है। इसलिए साहब कुछ करिए या फिर हमें इंजेक्शन देकर ख़त्म कर दीजिए। जितने भी लोग एडमिट है उन्हें भी जहर देकर मार दीजिए।

इसके अलावा लखनऊ के उसी रिफिलिंग सेंटर पर खड़े एक और युवक ने कहा “मैं कल से ही सिलिंडर का इंतजार कर रहा हूं। मैंने हरदोई, लखनऊ और कानपुर में भी जाकर पता कर लिया लेकिन मुझे सिलिंडर नहीं मिला। मेरे पिताजी अस्पताल में भर्ती हैं और उनका सिलिंडर ख़त्म हो गया है. उत्तरप्रदेश में सबसे ज्यादा बुरे हालात लखनऊ के हैं। लखनऊ में लोगों को दवाइयों, एम्बुलेंस और ऑक्सीजन के लिए जूझना पड़ रहा है।

बता दें कि शनिवार को दिल्ली के जयपुर गोल्डन हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की कमी से 25 मरीजों ने दम तोड़ दिया। इससे पहले दिल्ली के गंगा राम अस्पताल में भी 25 लोगों की मौत ऑक्सीजन की कमी की वजह से हो चुकी है। ऑक्सीजन की कमी को लेकर देश के कई अस्पतालों में मरीजों के ऊपर मौत का संकट मंडरा रहा है।

Next Stories
1 टीवी पर झूठ बोल रहे गौरव भाटिया, AAP प्रवक्ता बोलीं, ऑक्सीजन को लेकर लगाने लगे एक दूसरे पर आरोप
2 जब प्रशांत किशोर से अर्नब गोस्वामी ने की ओवैसी की बात, जवाब मिला- मुझे नहीं पता कि वो लड़ रहे हैं
3 कोरोना से मौत, परिजन का आरोप, शव को भी नहीं छोड़ा, निकाल ली किडनी, पकड़ा दी दूसरी लाश
यह पढ़ा क्या?
X