ताज़ा खबर
 

विश्व पर्यावरण दिवस 2017: गूगल ने बनाया डूडल, पीएम मोदी ने किया ट्वीट- प्रकृति से जुड़ना खुद से जुड़ना

World Environment Day 2017: यूएन हर साल पर्यावरण दिवस के लिए एक थीम निर्धारित करता है। इस साल लोगों को प्रकृति से जोड़ने का लक्ष्‍य रखा गया है।

5 जून 1973 से दुनिया भर में विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जा रहा है। (Photo: Google)

5 जून 2017 विश्व पर्यावरण दिवस। वर्ल्ड एनवायरनमेंट डे पर गूगल ने एक डूडल तैयार किया है। इस डूडल को गूगल ने अपने होम पेज पर लगाया है। जैसे ही गूगल डॉट कॉम खोलेंगे तुरंत गूगल एक नए अंदाज में लिखा हुआ आएगा। गूगल पूरी तरह से हरें रंग में लिखा हुआ आ रहा है। इसके साथ ही ‘l’ (एल) को ऐसे डिजाइन किया गया है कि उसमें से पेड़ की पत्तियां निकलती दिखाई दे रही हैं। वहीं पीएम मोदी ने ट्वीट किया है कि प्रकृति से जुडना खुद से जुड़ना है। प्रकृति को महसूस करने और उसमें आ रहे बदलावों को देखने के लिए हम सभी को प्रकृति के करीब जाना होगा। यही वजह है कि संयुक्‍त राष्‍ट्र ने पर्यावरण दिवस 2017 के लिए ‘कनेक्टिंग पीपल टू नेचर’ थीम रखी है। यूएन एनवायरनमेंट हर साल पर्यावरण दिवस के लिए एक थीम निर्धारित करता है। इस साल लोगों को प्रकृति से जोड़ने का लक्ष्‍य रखा गया है। वहीं 5 जून को एक वार्षि‍क आयोजन भी होता है। जो इस वर्ष कनाडा में होगा।

कब हुई शुरुआत: पर्यावरण प्रदूषण की समस्या पर सन 1972 में संयुक्त राष्ट्र संघ ने स्टॉकहोम (स्वीडन) में दुनिया के सभी देशों का पहला पर्यावरण सम्मेलन आयोजित किया था। अंतरराष्ट्रीय पर्यावरण चेतना और पर्यावरण आंदोलन की शुरुआत इसी सम्मेलन से मानी जाती है। इसमें 119 देशों ने भाग लिया और सभी ने एक ही धरती के सिद्धांत को मान्‍य करते हुए दस्तखत किए। इसके अगले साल यानि 5 जून 1973 से सभी देशों में विश्‍व पर्यावरण दिवस मनाया जाने लगा।

जब दुनिया में पर्यावरण प्रदूषण की समस्‍या बढ़ने लगी और संसाधनों के असमान वितरण के बावजूद सभी देशों पर इसका बुरा असर पड़ने लगा तो इन पर्यावरणीय समस्याओं को सुलझाने के लिए वैश्विक मंच तैयार किया गया। इस दिवस को मनाने का उद्देश्य पर्यावरण की समस्‍याओं को मानवीय चेहरा प्रदान करने के साथ ही लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करना था। साथ ही विभिन्न देशों, उद्योगों, संस्थाओं और व्यक्तियों की साझेदारी को बढ़ावा देना ताकि सभी देश, समुदाय और सभी पीढ़ियां सुरक्षित और उत्पादनशील पर्यावरण का आनंद उठा सकें।

Next Stories
1 बीजेपी, आरएसएस से लड़ने के लिए उपनिषद, गीता पढ़ रहे हैं राहुल गांधी, कहा- बीजेपी वालों को लगता है ब्रह्मांड का सारा ज्ञान नरेंद्र मोदी के पास ही है
2 कॉम्बिफ्लाम के टेस्ट में फेल होने के बाद सीडीएससीओ ने लिखी चिठी- इस दवा पर कड़ी नजर रखें, दुकानों तक पहुंचने न दें
3 सैन्य प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने माना- रक्षा उत्पादन में निजी भागीदारी बड़ा कदम
ये पढ़ा क्या?
X