ताज़ा खबर
 

केरल में दलितों व वंचित तबके को भाजपा से जोड़ें : शाह

केरल विधानसभा चुनाव में राजग के प्रदर्शन के आधार पर 2019 के लोकसभा चुनावों में गठबंधन को मजबूती देने के उद्देश्य से भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को नेताओं से कहा कि दलितों और अन्य वंचित तबके को पार्टी से जोड़ें और वोट को ज्यादा से ज्यादा सीट में तब्दील करने पर ध्यान केंद्रित करें।

Author तिरुवनंतपुरम | June 24, 2016 04:24 am
BJP अध्यक्ष अमित शाह

केरल विधानसभा चुनाव में राजग के प्रदर्शन के आधार पर 2019 के लोकसभा चुनावों में गठबंधन को मजबूती देने के उद्देश्य से भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को नेताओं से कहा कि दलितों और अन्य वंचित तबके को पार्टी से जोड़ें और वोट को ज्यादा से ज्यादा सीट में तब्दील करने पर ध्यान केंद्रित करें।

पार्टी सूत्रों ने कहा कि शाह यहां राजग की संचालन समिति की बैठक में बोल रहे थे, जिसका आयोजन 16 मई के चुनावों में प्रदर्शन की समीक्षा के लिए किया गया था। इस चुनाव में राजग को 15 फीसद वोट हासिल हुए और राज्य विधानसभा में भाजपा का एक विधायक भी निर्वाचित हुआ। बैठक में राजग के सहयोगी दलों के नेताओं ने भी हिस्सा लिया जिनमें भारत धर्म जनसेना के अध्यक्ष तुषार वेल्लापल्ली, जनाधिपत्य राष्ट्रीय सभा के प्रमुख सीके जानू और केरल कांग्रेस (थॉमस) के नेता पीसी थॉमस शामिल हैं। चुनाव परिणामों और चुनाव बाद स्थिति की समीक्षा के बाद शाह ने सुझाव दिया कि विशेष कार्ययोजना बनाई जाए ताकि लोकसभा चुनावों में राज्य से अधिकतम परिणाम हासिल हो सके। बंद कमरे में हुई बैठक में उन्होंने नेताओं से कहा कि अल्पसंख्यकों, दलितों और समाज के वंचित तबके के लोगों को पार्टी से जोड़ें और आगामी दिनों में उनका समर्थन सुनिश्चित करें।

सूत्रों ने कहा कि चुनाव में 15 फीसद वोट पर खुशी जाहिर करते हुए शाह ने कहा कि कुल मत प्रतिशत के मुताबिक सीटों की संख्या भी बढ़नी चाहिए। शाह ने बाद में भाजपा राज्य समिति की बैठक में भी हिस्सा लिया। भाजपा ने 16 मई के चुनाव में बीडीजेएस के साथ मिल कर चुनाव लड़ा था। बीडीजेएस राजनीतिक पार्टी है जिसे श्री नारायण धर्म परिपालन योगम ने शुरू किया। यह संगठन पिछड़े इझावा समुदाय से जुड़ा हुआ है। नेमोम सीट पर पार्टी के वरिष्ठ नेता ओ. राजगोपाल ने जीत दर्ज कर राज्य में पहली बार विधानसभा में कमल खिलाया। राज्य में अभी तक मुख्यत: कांग्रेस नीत यूडीएफ और माकपा नीत एलडीएफ की द्विधु्रवीय राजनीति रही है।

शाह ने वरकला में शिवगिरि मठ का भी दौरा किया। इस मठ को केरल के 20वीं शताब्दी के प्रख्यात संत एवं समाज सुधारक श्री नारायण गुरु द्वारा स्थापित किया गया था। यह पिछड़े एझावा समुदाय का प्रमुख आध्यात्मिक केंद्र है। इस मठ में महात्मा गांधी और रबीन्द्रनाथ टैगोर ने गुरु से भेंट की थी। भाजपा अध्यक्ष पास के सारदा मठ में भी गए। बाद में उन्होंने संन्यासियों के साथ दोपहर का भोजन लिया और उनके साथ बातचीत की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App