ताज़ा खबर
 

”बुलेट ट्रेन की बात करने वाली सरकार में ट्रेनों में महिलाएं सुरक्ष‍ित नहीं”

अखिल भारतीय महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुष्मिता देव ने असम में दो दिनों के भीतर ट्रेन में दो महिलाओं की कथित हत्या के मामलों को लेकर आज केंद्र सरकार पर निशाना साधा और कहा कि बुलेट ट्रेन की बात करने वाली सरकार में ट्रेनों के भीतर महिलाएं सुरक्षित नहीं है।

Author नई दिल्ली | July 12, 2018 7:33 PM
कांग्रेस ने कहा रेल मंत्रालय महिलाओं की सुरक्षा के लिए जरूरी कदम उठाए और रेलवे पुलिस में महिलाओं की और भर्ती करे। सुष्मिता ने एक बयान में कहा, ‘‘यह सरकार बुलेट ट्रेन की बात कर रही है, लेकिन अब ट्रेनों में महिलाओं की सुरक्षा पर ध्यान नहीं दे रही है।

अखिल भारतीय महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुष्मिता देव ने असम में दो दिनों के भीतर ट्रेन में दो महिलाओं की कथित हत्या के मामलों को लेकर आज केंद्र सरकार पर निशाना साधा और कहा कि बुलेट ट्रेन की बात करने वाली सरकार में ट्रेनों के भीतर महिलाएं सुरक्षित नहीं है। उन्होंने कहा कि रेल मंत्रालय महिलाओं की सुरक्षा के लिए जरूरी कदम उठाए और रेलवे पुलिस में महिलाओं की और भर्ती करे। सुष्मिता ने एक बयान में कहा, ‘‘यह सरकार बुलेट ट्रेन की बात कर रही है, लेकिन अब ट्रेनों में महिलाओं की सुरक्षा पर ध्यान नहीं दे रही है। असम में दो दिन के भीतर ट्रेनों में दो महिलाओं की हत्या हुई है। यह दिखाता है कि ट्रेनों में सुरक्षा के क्या प्रबंध हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अगर सार्वजनिक परिवहन सेवाओं में महिलाएं सुरक्षित नहीं होंगी तो इसका आर्थिक रूप से विपरीत प्रभाव पड़ेगा।

रेल मंत्रालय को महिलाओं की सुरक्षा बढ़ाने के लिए कदम उठाने चाहिए। रेलवे पुलिस में महिलाओं की और भर्ती होनी चाहिए।’’ असम में कानून-व्यवस्था की स्थिति खराब होने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘मुख्यमंत्री खुद गृह मंत्री हैं, लेकिन कानून-व्यवस्था की स्थिति खराब होती जा रही है।

असम की इन घटनाओं के विरोध में और न्याय की मांग करते हुए भारतीय युवा कांग्रेस और महिला कांग्रेस ने ‘#जस्टिस फॉर राधा’ से सोशल मीडिया में अभियान शुरू किया है।
बीते 10 जुलाई को कामख्या एक्सप्रेस के शौचालय में एक छात्रा मृत पाई गई थी। इसके अगले दिन अवध असम एक्सप्रेस के शौचालय में एक बुजुर्ग महिला मृत मिली थी। पहली घटना की जांच के लिए राज्य सरकार ने एसआईटी का गठन किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App