ताज़ा खबर
 

नोटबंदी के एक महीने बाद जनधन खातों से निकाले गए 5000 करोड़ से ज्यादा रुपए, वित्त मंत्रालय ने जारी किए आंकड़े

7 दिसंबर को जनधन खातों में कुल जमा 74,610 करोड़ रुपए के रिकार्ड उच्चस्तर पर पहुंच गई थी

Author Updated: January 30, 2017 9:58 AM
1 जुलाई 2014 से 31 अगस्त 2015 के बीच खुले खातों में जमा करने होंगे दस्तावेज। (Representative Image)

जनधन खातों से नोटबंदी के एक महीने बाद यानी 7 दिसंबर से 5,582.83 करोड़ रुपए की निकासी हुई है। 7 दिसंबर को जनधन खातों में कुल जमा 74,610 करोड़ रुपए के रिकार्ड उच्चस्तर पर पहुंच गई थी। बाद में इसमें गिरावट आनी शुरू हुई। वित्त मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार 11 जनवरी को यह घटकर 69,027.17 करोड़ रुपए पर आ गई। 7 दिसंबर से 11 जनवरी की अवधि में जनधन खातों से कुल जमा में 5,582.83 करोड़ रुपए की कमी आई। जनधन खातों की संख्या 26.68 करोड़ है।

इन खातों का दुरुपयोग रोकने के लिए निकासी की मासिक सीमा 30 नवंबर से 10,000 रुपए तय की गई है। जनधन खातों में जमा की अधिकतम सीमा 50,000 रुपए है। 9 नवंबर को 500 और 1,000 का नोट बंद करने के दौरान 25.5 करोड़ जनधन खातों में 45,636.61 करोड़ रुपए की राशि जमा थी। नोटबंदी की घोषणा के एक महीने के भीतर जनधन खातों में जमा में 28,973 करोड़ रुपए का इजाफा हुआ था। इस बीच, आधार से जुड़े जनधन खातों की संख्या 11 जनवरी को समाप्त सप्ताह में बढ़कर 15.36 करोड़ हो गई है जो नोटबंदी के दिन 13.68 करोड़ थी।

जन धन खातों की जमा राशि में अचानक हुई वृद्धि को लेकर सरकार नेचेतावनी दी थी कि गत 8 नवंबर को हुई नोटबंदी के मद्देनजर उनके खातों में जमा राशि के दुरुपयोग की इजाजत उन्हें नहीं दी जाएगी। बता दें कि देश में बैंकिंग प्रवेश और वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने के लिए अगस्त 2014 में प्रधानमंत्री जनधन योजना को लॉन्च किया गया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 उम्मीदवारों की कैश लिमिट ना बढ़ाने पर RBI से नाराज हुआ चुनाव आयोग, उर्जित पटेल को लिखा- मानना ही होगा निर्देश
2 चुनाव आयोग ने 4 फरवरी से 8 मार्च तक एग्जिट पोल पर लगाया बैन
3 सांसदों की पीएमओ से शिकायत : सरकारी विभाग समय पर जवाब नहीं देते