ताज़ा खबर
 

बालाकोट एयरस्ट्राइक: अब अभिनंदन के पिता रिटायर्ड एयर मार्शल सिम्हाकुट्टी वर्धमान ने लगाया हताहतों की संख्या का अंदाजा

विंग कमांडर अभिनंदन के पिता एयर मार्शल (रिटायर्ड) सिम्हाकुट्टी वर्धमान ने आईआईटी मद्रास के स्टूडेंट्स को बालाकोट एयरस्ट्राइक की पूरी कहानी बताई। इस दौरान उन्होंने बताया कि एयरस्ट्राइक में लेजर गाइडेड स्मार्ट बम का इस्तेमाल हुआ, जिसमें 250-300 आतंकी मारे गए होंगे।

विंग कमांडर अभिनंदन के पिता ने बताई एयरस्ट्राइक की पूरी कहानी। (फोटो सोर्स: द इंडियन एक्सप्रेस)

बालाकोट एयरस्ट्राइक में मारे गए आतंकियों की संख्या को लेकर अक्सर सवाल उठते रहे हैं। इस मसले पर विंग कमांडर अभिनंदन के पिता रिटायर्ड एयर मार्शल सिम्हाकुट्टी वर्धमान ने भी अनुमानित संख्या बताई है। अभिनंदन के पिता ने बताया कि एयरस्ट्राइक के दौरान लेजर-गाइडेड स्मार्ट बम का इस्तेमाल किया गया। इससे बालाकोट आतंकी कैंप में 250 से 300 आतंकी मारे गए होंगे।

एस वर्धमान आईआईटी मद्रास के छात्रों के साथ जैश-ए-मोहम्मद के बालाकोट स्थित आतंकी ठिकाने पर हुए एयरस्ट्राइक के संदर्भ में बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा, “भारतीय एयरफोर्स बमबारी तब की जब कैंप के भीतर काफी संख्या में आतंकी मौजूद थे। भले ही वहां पर बिल्डिगों को नुकसान कम पहुंचा हो लेकिन मरने वाले अतंकियों की संख्या काफी ज्यादा होगी।” उन्होंने बताया, “पाकिस्तान का F-16 लड़ाकू विमान और AMRAAM मिसाइल हमारे लिए सबसे बड़ा खतरा हैं। जब हम बालाकोट की तरफ बढ़ रहे थे तब F-16 को पीछे रोक रखने की जरूरत थी।”

अभिनंदन के पिता ने विस्तार से घटनाक्रम का जिक्र किया। उन्होंने कहा, “बहावलपुर स्थित जैश-ए-मोहम्मद के हेडक्वार्टर के लिए हमारे 7 एयरक्राफ्ट ने उड़ान भरे। पाकिस्तान को लगा कि हम बहावलपुर में हमला करने के लिए बढ़ रहे हैं और उसने हमारे फाइटर एयरक्राफ्ट का मुकाबला करने के लिए F-16 विमान भेज दिए। उसी दौरान हमने बालाकोट स्थित आतंकी कैंप पर हमला बोल दिया। इस पूरे खेल में पाकिस्तान एयरफोर्स को हमने पूरी तरह से चकमा दे दिया।” उन्होंने बताया, “पाकिस्तान को भारतीय हमले का अंदेशा था, लिहाजा वह अपनी तरफ से पूरी तरह अलर्ट था। लेकिन, उन्हें बिल्कुल भी अंदाजा नहीं लग पाया कि हम उनके क्षेत्र में घुस चुके हैं।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App