ताज़ा खबर
 

NEET/JEE परीक्षाओं के विरोध में भूख हड़ताल पर उतरे 4000 छात्र, ममता ने परीक्षा टालने को लेकर केंद्र को लिखा पत्र

ममता ने लिखा "शिक्षा मंत्रालय के निर्देशों पर नीट और जेईई आयोजन होना है। मैं केंद्र सरकार से एक बार फिर गुजारिश करूंगी कि वे हालात को समझे और जब तक स्थिति सामान्य न हो तब तक के लिए परीक्षाएं स्थगित कर दें।"

Corona, Mamta Banerjee, BJPपश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने परीक्षाओं का विरोध किया। (फाइल फोटो)

कोरोना काल के बीच NEET/JEE’ की परीक्षा होने जा रही है देश भर में छात्र इसका विरोध कर रहे हैं। इन परीक्षाओं के विरोध में करीब 4000 छात्र भूख हड़ताल पर हैं। ये दोनों परीक्षाएं सितंबर में होनी है, इनको टालने के लिए सुप्रीम कोर्ट में भी एक याचिका दायर की गई थी जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया है।

इन परीक्षाओं का पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी विरोध किया है। ममता बनर्जी ने सोमवार को केंद्र सरकार से देश में कोविद -19 संकट के मद्देनजर दूसरी बार NEET और JEE 2020 को स्थगित करने का अनुरोध किया। ममता ने ट्वीट कर कहा कि यदि परीक्षाएं सितंबर के निर्धारित शेड्यूल में हुईं तो इससे छात्रों की जिंदगी खतरे में पड़ सकती है। उन्होंने आगे कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के साथ हुई आखिरी वीडियो कॉन्फ्रेंस में उन्होंने यूजीसी गाइडलाइन्स के खिलाफ अपनी आवाज उठाई थी। यूजीसी ने अपनी गाइडलाइन्स में निर्देश दिया था कि विश्वविद्यालय/कॉलेज सितंबर 2020 अंत तक फाइनल ईयर की परीक्षाएं पूरी करा लें। लेकिन सिंतबर में यदि परीक्षएं कराई जाती हैं तो काफी ज्यादा आशंका है कि छात्रों का जीवन खतरे में पड़ जाए।

ममता ने लिखा “शिक्षा मंत्रालय के निर्देशों पर नीट और जेईई आयोजन होना है। मैं केंद्र सरकार से एक बार फिर गुजारिश करूंगी कि वे हालात को समझे और जब तक स्थिति सामान्य न हो तब तक के लिए परीक्षाएं स्थगित कर दें।” इन परीक्षाओं को टालने के लिए हजारों छात्र भूख हड़ताल पर हैं। लेफ्टिस्ट आल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन के अनुसार, 4200 से ज्यादा छात्र-छात्राओं ने एक दिन की भूख हड़ताल की। एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार, छात्रों ने इस दौरान केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड यानी सीबीएसई की दसवीं और बारहवीं की कंपार्टमेंट परीक्षाएं रद्द करने और जेईई, नीट, यूजीसी नेट व क्लैट जैसे एंट्रेंस एग्जाम स्थगित करने की मांग की।

कोरोना का प्रकोप जिस तेजी से फैल रहा है ऐसे में परीक्षा छात्रों के लिए खतरा बन सकती है। देश में बीते 24 घंटे में कोरोना के 61,408 नए मामले सामने आए हैं। वहीं 836 मरीजों की मौत हुई है। इसके साथ ही देश में कोरोना मरीजों का कुल आंकड़ा बढ़कर 31,06,349 हो गया है। इनमें से 23,38,036 मरीज डिस्चार्ज हो चुके हैं। राहत की बात ये है कि बीते 24 घंटे में ही 57,468 मरीज ठीक हुए हैं। देश में अब तक कुल 57,542 कोरोना मरीजों की मौत हुई है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी है। देश में कोरोना से रिकवरी की दर औसतन 74 फीसदी हो गई है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 प्रशांत भूषण का माफी मांगने से फिर इनकार, कहा- यह खुद की अवमानना जैसे होगा
2 आपका मुवक्किल गरीब तो नहीं दिखता, उनसे कहें शर्ट पहन कर स्क्रीन पर आएंं, वर्चुअल सुनवाई के दौरान बोले सुप्रीम कोर्ट जज
3 सीमा विवाद को लेकर चीन के साथ बातचीत हुई नाकाम तो भारत सैन्य कार्रवाई के लिए तैयार- बोले सीडीएस जनरल बिपिन रावत
यह पढ़ा क्या?
X