ताज़ा खबर
 

राष्‍ट्रपति चुनाव: सर्वसम्‍मति बनाने के लिए BJP ने शुरू की कोशिशें, शुक्रवार को सोनिया से मिलेंगे केंद्रीय मंत्री

राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार पर सर्वसम्मति बनाने के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा गठित तीन सदस्यीय कमेटी यहां शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात करेगी।

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी। (पीटीआई फोटो)

राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार पर सर्वसम्मति बनाने के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा गठित तीन सदस्यीय कमेटी यहां शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात करेगी। सूत्रों ने कहा कि इसके बाद भाजपा की कमेटी मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के महासचिव सीताराम येचुरी के साथ बैठक करेगी। कमेटी के तीन सदस्य केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय शहरी विकास मंत्री एम.वेंकैया नायडू तथा केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली हैं। नायडू ने बुधवार को बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के सतीश चंद्र मिश्रा तथा राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रफुल्ल पटेल से टेलीफोन पर बातचीत की। उन्होंने कहा कि दोनों पार्टियों ने कहा है कि वे अपना रुख तभी स्पष्ट करेंगी, जब भाजपा की कमेटी उनसे औपचारिक तौर पर मुलाकात करेगी। इससे पहले दिन में राजनाथ सिंह तथा नायडू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी।

बता दें कि वहीं दूसरी ओर राष्ट्रपति चुनाव के मद्देनजर चुनाव आयोग ने आज नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। इसका मतलब है कि राष्ट्रपति चुनाव की प्रक्रिया अब शुरू हो जाएगी। नोटिफिकेशन जारी करने के साथ ही नामांकन भरने की प्रक्रिया की शुरुआत हो चुकी है। बता दें चुनाव आयोग ने बीते 7 जून को राष्ट्रपति चुनाव के शेड्यूल और प्रक्रिया की जरूरी जानकारी दी थी। मुख्य चुनाव आयुक्त ने प्रेस वार्ता कर पूरी जानकारी दी थी। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल इस साल 24 जुलाई को खत्म हो जाएगा। राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग 17 जुलाई 2017 को होगी। वोटिंग सीक्रेट बैलेट पेपर के जरिए होगी। वहीं बैलेट पेपर पर लिखने के लिए खास तरह के पेन का इस्तेमाल किया जाएगा। अगर इस पेन के सिवा किसी दूसरे पेन से लिखा जाएगा तो वह वोट रद्द माना जाएगा।

चुनाव के लिए उम्मीदवार नामांकन करने 28 जून 2017 तक ही कर सकेंगे। नामांकन वापिस लेने की आखिरी तारीख 1 जुलाई 2017 होगी और 17 जुलाई को वोटिंग के बाद, 20 जुलाई 2017 को मतगंणना होगी। राष्ट्रपति चुनाव के लिए ईवीएम मशीन का इस्तेमाल नहीं होगा। वहीं चुनाव आयोग ने यह भी घोषणा की थी कि वोटिंग के लिए किसी भी पार्टी को व्हिप जारी करने का अधिकार नहीं होगा। इसका मतलब यह हुआ कि हर विधायक या सांसद अपनी पसंद के उम्मीदवार को वोट दे सकेगा। वे पार्टी या पार्टी समर्थित उम्मीदवार को ही वोट देने के लिए बाध्य नहीं होंगे। उम्मीदवारों के लिए भी कई जरूरी निर्देश जारी किए गए हैं। उम्मीदवार को 15 हजार रुपये की सिक्योरिटी जमा करानी होगी। इसके अलावा उम्मीदवार अगर किसी तरह के भ्रष्टाचार में दोषी पाया जाता है तो उसकी दावेदारी रद्द हो जाएगी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App