scorecardresearch

बिहार में गिरेगी नीतीश सरकार? यूपी में नहीं बनी भाजपा-जेडीयू की बात, तेज हुई बयानबाजी

वरिष्ठ नेता केसी त्यागी ने साफ कर दिया है कि यूपी चुनाव को लेकर उनकी बीजेपी से कोई सहमति नहीं बन पाई है। इसके बाद से ही कयास लगाए जा रहे हैं कि बीजेपी और जेडीयू की राहें बिहार में जुदा हो सकती हैं।

Bihar, JDU, Nitish Kumar, UP Election, Congress, RJD, Lalu Yadav
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार। (फाइल फोटोः पीटीआई)

बिहार में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। पहले शराबबंदी को लेकर बीजेपी की तरफ से नीतीश की आलोचना और अब यूपी चुनाव को लेकर कोई निर्णायक सहमति न बनने से कयास लगाए जा रहे हैं कि बीजेपी-जेडीयू गठबंधन औंधे मुंह गिर सकता है।

शराबबंदी को लेकर जिस तरह से बीजेपी नेता जेडीयू को आंखें दिखा रहे हैं उससे नीतीश असहज हैं। उधर, यूपी चुनाव को लेकर जेडीयू ने साफ कर दिया है कि वो अकेले ही चुनाव मैदान में उतरने जा रहा है। हालांकि इस मसले पर बीजेपी की तरफ से कोई बयान नहीं आया है लेकिन माना जा रहा है कि नीतीश कुमार की पार्टी बीजेपी से खुश नहीं है।

उत्तर प्रदेश में जदयू के चुनाव लड़ने के सवाल पर मुख्यमंत्री नीतीश ने कुछ समय पहले कहा था कि हमारी पार्टी की सब जगह शाखाएं हैं। अभी पार्टी के नेशनल एग्जीक्यूटिव की मीटिंग थी। उसमें भी लोगों ने इच्छा प्रकट की थी। ये तो नेशनल एग्जीक्यूटिव का काम है। एलायंस या अलग लड़ने के संबंध में पार्टी के लोग निर्णय लेंगे। यूपी में 200 सीटों पर लड़ने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है।

लेकिन उनके ही वरिष्ठ नेता केसी त्यागी ने साफ कर दिया है कि यूपी चुनाव को लेकर उनकी बीजेपी से कोई सहमति नहीं बन पाई है। इसके बाद से ही कयास लगाए जा रहे हैं कि बीजेपी और जेडीयू की राहें बिहार में जुदा हो सकती हैं। बीजेपी यूपी में हारी तो जेडीयू की तरफ से तल्ख तेवर देखने को मिल सकते हैं।

गौरतलब है कि जातीय जनगणना पर भी बीजेपी से नीतीश के सुर नहीं मिल रहे। जातीय जनगणना कराने की मांग पर अड़े राजनीतिक दल यह चाहते हैं कि जल्द से जल्द बिहार में जातीय जनगणना हो। इसे लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सर्वदलीय बैठक बुलाने की भी बात कही है। उनकी बात को राजद, कांग्रेस की तरफ से समर्थन भी मिल चुका है। सिवाय बीजेपी के। जातीय जनगणना के लिए जदयू की ओर से भी बीजेपी पर लगातार दबाव बनाया जा रहा है। लेकिन वो नहीं मान रही।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट