ताज़ा खबर
 

यूपी: 23 बच्चों को बंधक बनाने वाले कातिल की बीवी को लोगों ने पीटा, मौत

उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद में 23 बच्चों को बंधक बनाने वाले कातिल की बीवी को लोगों बेरहमी से पिटाई की। पिटाई की वजह से महिला की मौत हो गई।

बंधक बच्चों को छुड़ाने पहुंची पुलिस और स्थानीय लोगों की भीड़। (Photo: ANI)

उत्तर प्रदेश पुलिस और एटीएस की टीम ने फर्रुखाबाद जिले के मोहम्मदाबाद के कठरिया गांव में 23 बच्चों को बंधक बनाने वाले हत्या के दोषी सुभाष बाथम को देर रात मार गिराया और सभी बच्चों को उसके घर से सुरक्षित निकाल लिया गया। इस घटना से नाराज स्थानीय लोगों ने बंधक बनाने वाले की पत्नी की बुरी तरह पिटाई की, जिससे उसकी मौत हो गई। इस मामले पर कानपुर रेंज के आईजी मोहित अग्रवाल ने कहा, “महिला ने चोटों के कारण दम तोड़ दिया। हम पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं। उसके बाद ही मौत के कारणों का पता चल सकेगा। पूरे मामले की तफ्दीश जारी है।”

पुलिस द्वारा सुभाष बाथम को मारे जाने और बच्चों को सुरक्षित निकाले जाने के बाद स्थानीय लोगों ने आरोपी की पत्नी को खींच कर घर से बाहर निकाला और पिटाई की। पिटाई की वजह से उसे पूरे शरीर में चोटें आयी। पुलिस महिला को गंभीर अवस्था में अस्पताल ले गई। यहां आज सुबह उसकी मौत हो गई।

हालांकि यह अभी तक साफ नहीं हो पाया है कि बच्चों के बंधक बनाने के काम में महिला भी अपने पति के साथ थी या नहीं। बाथम को हत्या के मामले में दोषी ठहराया गया है और वह पेरोल पर बाहर आया था। वह काफी गुस्से वाला और हिंसक प्रवृति का बताया जाता था। गुरुवार को उसने अपनी एक साल की बेटी के जन्मदिन के अवसर पर गांव के कुछ बच्चों को घर में बुलाया था। जैसे ही बच्चे घर में प्रवेश किए, उसने दरवाजों को बंद कर दिया और सभी को बंदूक की नोक पर बंधक बना लिया।

बच्चे जब कुछ देर बाद घर वापस नहीं लौटे तो उनके परिजन बाथम के घर लौटे। लोगों ने दरवाजा खटखटाया और पाया कि कुछ तो गलत है। लोगों ने पुलिस को इस बात की सूचना दी। बाथम ने पुलिस और वहां मौजूद लोगों पर गोलियां भी चलाई। भीड़ को निशाना बनाते हुए सुतली बम भी फेंके। मौके की नजाकत को देखते हए आतंक-निरोधी दल के कमांडो घटनास्थल पर पहुंचे।

फोन पर घंटों बातचीत के बावजूद कोई बात नहीं बनी और बाथम ने बच्चों को मुक्त करने से मना कर दिया। आखिरकार आधी रात के बाद पुलिस ने उसके ऊपर हमला करने का फैसला लिया और उसे मार गिराया। बाथम यह चिल्लाते हुए सुना जा रहा था कि जिस अपराध के लिए उसे दोषी ठहराया गया है, वह उसने नहीं किया है।

Next Stories
1 जामिया में फायरिंग करने वाले नाबालिग का बजरंग दल से रिश्ते की जांच कर रही पुलिस, खुद को बताया ‘हिन्दू मसीहा’
2 जामिया फायरिंग: चीफ प्रॉक्टर ने अनुराग ठाकुर, कपिल मिश्रा को ठहराया जिम्मेदार, वीसी बोलीं- हमारा भरोसा टूटा, चाहिए गारंटी
3 दावा: सात साल में पांच फीसदी से ज्यादा गिरी वेतन वृद्धि दर, कम डिमांड और उच्च बेरोजगारी दर बड़ी वजह
ये पढ़ा क्या?
X