ताज़ा खबर
 

Udta Punjab: आम आदमी पार्टी के लिए फायदेमंद है फिल्‍म की रिलीज, चुनाव में मिलेगा फायदा

AAP के मुखिया अरविंद केजरीवाल अपने ट्वीट्स में लगातार अनुराग कश्‍यप का समर्थन करते रहे हैं। वे पूरे देश को 'पंजाब का सच' दिखाने पर जोर दे रहे हैं।

Author नई दिल्‍ली | June 9, 2016 16:35 pm
आम आदमी पार्टी चुनाव प्रचार की शुरुआत से ही यह वादा करती रही है कि वह राज्‍य से ड्रग्‍स की समस्‍या को खत्‍म करेगी।

आम आदमी पार्टी और सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्‍म सर्टिफिकेशन (सेंसर बोर्ड) भले ही बुधवार को अनुराग कश्‍यप की फिल्‍म ‘उड़ता पंजाब’ में कट्स लगाने पर आमने-सामने आए हों, पार्टी के बहुत कम लोग ही इस बात से इनकार कर पाएंगे क‍ि पंजाब में ड्रग्‍स की समस्‍या पर आधारित इस फिल्‍म से आप को आने वाले विधानसभा चुनाव में विरोधियों पर बढ़त हासिल होगी। आम आदमी पार्टी चुनाव प्रचार की शुरुआत से ही यह वादा करती रही है कि वह राज्‍य से ड्रग्‍स की समस्‍या को खत्‍म करेगी। ऐसे में इसी मुद्दे पर बनी फिल्‍म पार्टी के एजेंडे को नायकत्‍व प्रदान कर रही है।

READ ALSO: Udta Punjab: शहरों के नाम, गालियां और कुत्‍ते का नाम जैकी चैन, जानें सेंसर बोर्ड को कहां-कहां आपत्‍त‍ि

एक ओर जहां आप नेता कश्‍यप के बचाव में कूद पड़े और निहलानी के इस आरोप पर कि ‘अनुराग से आप से पैसे लिए’ पर पलटवार किया, फिल्‍म के रिलीज होने के समय पर सवाल उठते रहे हैं। पार्टी का ड्रग्‍स के खिलाफ अभियान और ड्रग माफिया के साथ लोकल नेताओं के गठजोड़ का आरोप ना सिर्फ फिल्‍म की केन्‍द्रीय थीम से मिलता है, बल्कि पार्टी के एजेंडे को राष्‍ट्रीय दर्शक वर्ग तक ले जाता है।

READ MORE: Udta Punjab: निहलानी बोले-पंजाब की गलत तस्‍वीर पेश करने के लिए अनुराग कश्‍यप ने AAP से लिए पैसे

अरविंद केजरीवाल लगातार अनुराग कश्‍यप का समर्थन करते रहे हैं। उन्‍होंने ट्विटर पर अनुराग कश्‍यम के समर्थन और निहलानी की निंदा वाले बयानों को लगातार रिट्वीट किया है। कुमार विश्‍वास जैसे नेता तो एक कदम आगे बढ़कर निहलानी का केन्‍द्र सरकार का नया बस्‍सी (पूर्व दिल्‍ली पुलिस कमिश्‍नर) बता बैठे। आप के राघव चड्ढा ने ट्वीट किया, “हमें सबके साथ जोड़ना दिखाता है कि बीजेपी और अकाली दल आप को पंजाब में मिल रहे अभूतपूर्व समर्थन से कितना डरे हुए हैं।”

READ ALSO: पहलाज को पीएम का चमचा कहे जाने से कोई ऐतराज नहीं, पढ़ें Udta Punjab विवाद पर किसने क्‍या कहा

फरवरी में जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में हुए प्रदर्शनों के बाद इस मुद्दे ने आप को मोदी पर अभिव्‍यक्ति की आजादी को दबाने का आरोप लगाने का मौका दे दिया है। केजरीवाल ने एक ट्वीट में साफ कहा, “आप जो खाएंगे, पहनेंगे, कहेंगे, देखेंगे और पढ़ेंगे, यह सब अब आरएसएस और मोदी जी तय करेंगे। यह बहुत डरावना है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App