ताज़ा खबर
 

गाड़ी में लाल बत्ती लगे होने के सवाल पर भड़के कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया, बोले- मैं अभी क्यों हटाऊं बत्ती?

केंद्र सरकार के इस फैसले से 5 लोगों को छूट दी गई है, जिनमें राष्ट्रपति, उप-राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (CJI) और लोक सभा के स्पीकर का नाम शामिल हैं।

कर्नाटक के सीएम सिद्दारमैया। (FIle Photo)

वीआईपी कल्चर को खत्म करने के लिए मोदी सरकार ने लाल बत्तियां हटाने के आदेश जारी किए, जिसके बाद केंद्र सरकार के फैसले को मानते हुए कई मुख्यमंत्रियों और मंत्रियों ने अपनी गाड़ियों से बत्ती हटा ली। वहीं, कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने मंगलवार को कहा कि वो बत्ती क्यों हटाए? सिद्धारमैया से जब मीडिया ने लाल बत्ती को लेकर सवाल पूछा तो उन्होंने कहा, “मैं अभी क्यों लाल बत्ती हटाऊं? बत्ती एक मई से हटाई जानी है। मैं उस समय बत्ती हटाऊंगा जब आदेश प्रभावी होगा। एएनआई से बातचीत में सीएम सिद्धारमैया के सुर में सुर मिलाते हुए कर्नाटक के कानून मंत्री टीबी जयचंद्रा ने कहा, “मीडिया को इस मुद्दे को कोई रंग देने और रोने की जरुरत नहीं होनी चाहिए। यब बात सही है कि कैबिनेट यह फैसला लिया है और निर्णय का अनुसरण होना है। लाल बत्ती हटाने की डेडलाइन 1 मई है। इस आदेश का पालन किया जाएगा लेकिन अभी नहीं।”

वीआईपी कल्चर पर रोक लागने के लिए 19 अप्रैल को लाल बत्ती पर रोक लगाने का फैसला सुनाया था। इस फैसले के तहत 1 मई से देश में किसी को भी आधिकारिक वाहनों पर लाल बत्ती लगाने की अनुमति नहीं होगी। लगाए बैन के अंतर्गत केंद्रीय मंत्री, मुख्यमंत्री, राज्य के कैबिनेट मंत्री, ब्यूरोक्रेट और सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के जज समेत सभी वीवीआईपी शामिल है। इस फैसले के आने के तुरंत बाद कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों और मंत्रियों ने अपनी गाड़ियों से बत्तियां हटा दी थी। लाल बत्ती हटाने वालों में गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी, झारखंड के सीएम रघुवर दास समेत कई लोग शामिल है।

लाल बत्ती हटाने के इस फैसले से 5 लोगों को छूट दी गई है, जिनमें राष्ट्रपति, उप-राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (CJI) और लोकसभा के स्पीकर का नाम शामिल हैं। बता दें कि पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सीएम की कुर्सी संभालने के साथ ही लाल बत्ती नहीं लगाने का ऐलान किया था। बता दें कि सबसे पहले आम आदमी पार्टी ने दिल्ली में लाल बत्ती को खत्म करने का फैसला किया था। आप के किसी मंत्री को भी लाल बत्ती की गाड़ी का इस्तेमाल करने पर रोक लगा दी गई थी

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘सीआरपीएफ से ज्यादा ट्रेनिंग पाए हुए हैं नक्सली, सुधार नहीं किए तो उठेंगे और जनाजे’
2 फर्जी पासपोर्ट मामले में अंडर वर्ल्ड डॉन छोटा राजन को 7 साल कैद, 15 हजार रुपये जुर्माना
3 सुकमा अटैक पर बोले राजनाथ सिंह, कहा- आदिवासियों को चारे की तरह इस्तेमाल करते हैं नक्सली