ताज़ा खबर
 

संसद परिसर में सुरक्षा बलों ने अचानक क्यों तान दी बंदूकें?

संसद की सुरक्षा टीम पलभर में ही उस स्थान पर पहुंची जहां पर ये वाकया हुआ था। जांच के बाद ये पता चला कि ये एक मामूली हादसा था।

2001 में संसद पर हमले में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि देते संसद के कर्मचारी (Express file photo)

गुरुवार (6 मार्च) को संसद परिसर में एक चूक की वजह से अफरातफरी मच गई। संसद की सुरक्षा में तैनात जवान पोजीशन लेकर खड़े हो गये, पार्लियांमेंट के सारे सुरक्षा मैकेनिज्म एक्टिवेट हो गये, और कुछ देर तक माहौल बेहद ही तनावपूर्ण हो गया। यहां तक की सदन में मौजूद सांसद भी परेशान दिखे। हिन्दी वेबसाइट एनडीटीवी के मुताबिक ये सब कुछ तब हुआ जब संसद के गेट में लगे सुरक्षा अलार्म से एक अज्ञात वाहन अचानक टकरा गया। अलार्म में टकराने की वजह से वो बजने लगा और संसद परिसर में तैनात सभी गार्डों को कुछ अनहोनी का मैसेज चला गया, फिर पलक झपकते ही सुरक्षा बलों ने हथियारों समेत पोजीशन संभाल लिया। ये संसद भवन पर किसी हमले का सूचक था।

संसद की सुरक्षा टीम पलभर में ही उस स्थान पर पहुंची जहां पर ये वाकया हुआ था। जांच के बाद ये पता चला कि ये एक मामूली हादसा था। और अज्ञानता वश किसी वाहन सवार ने संसद गेट में टक्कर मार दी थी। इस जानकारी के सामने आमने के बाद सुरक्षा बलों ने चैन की सांस ली। और किसी हमले की आशंका से सहमे सांसदों ने भी राहत महसूस की। पुलिस इस बारे में पूरी जानकारी इकट्ठा कर रही है। संसद के सिक्युरिटी स्टाफ अभी भी मुस्तैद हैं।

बता दें कि साल 2001 में संसद पर जैश ए मोहम्मद के आतंकियों ने हमला किया था। इस दौरान आतंकी एक कार में सवार होकर हथियारों समेत संसद परिसर में घुस आए थे और धुआंधार फायरिंग करने लगे थे। संसद की सुरक्षा में तैनात जवानों ने पांचों आतंकियों को संसद परिसर में ही ढेर कर दिया था और वे अंदर नहीं घुस पाये थे। इस हमले में पांच पुलिसकर्मी, एक सुरक्षागार्ड और एक माली शहीद हो गया था। इस हमले के बाद संसद की सुरक्षा व्यवस्था में आमूल चूल बदलाव किया गया है और संसद को अभेद्य किया बना दिया गया है।

बीजेपी के 37वें स्थापना दिवस पर प्रधानमंत्री मोदी ने कार्यकर्ताओं को दी बधाई

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App