ताज़ा खबर
 

इन दिनों चरम पर है कट्टरता, हिंदू खुद को ISIS आतंकियों की तरह दिखा रहे हैं: तस्लीमा नसरीन

तस्लीमा नसरीन लिखती हैं कि भारत में जितनी धार्मिक असहिष्णुता बढ़ेगी उतना ज्यादा नफरत बढ़ेगी। पद्मावती का विरोध भी इसी का एक उदाहरण है।
बांग्लादेशी मूल की लेखिका तस्लीमा नसरीन

बांग्लादेश से निर्वासित मशहूर लेखिका तस्लीमा नसरीन ने कट्टरता पर अपने ताजा लेख में लिखा है कि इस तरह की राजनीति ने एक बार हिंदुस्तान को बांटा था और फिर से वैसा ही होता दिख रहा है। राजस्थान के राजसमंद में हुई अफराजुल नाम के मुस्लिम मजदूर की हत्या के मामले को उठाते हुए तस्लीमा ने लिखा कि ठीक ISIS आतंकियों की तरह उसकी हत्या कर वीडियो को सोशल मीडिया पर डाला गया। इस हत्या को अंजाम देने वाले आरोपी शंभूलाल के बारे में तस्लीमा ने लिखा कि आखिर उसके अंदर ISIS जैसी हिम्मत कहां से आई। क्या उसके मन में ये बात बैठ गई है कि ऐसा करने पर उसे सजा नहीं होगी बल्कि तारीफ मिलेगी।

तस्लीमा ने लिखा कि जब मैंने ट्विटर पर इस घटना की निंदा की तो ढेर सारे लोग शंभूलाल के सपोर्ट में खड़े हो गए। इससे पहले मैंने जब भी गौरक्षा के नाम पर मुसलमानों के मारे जाने के खिलाफ लिखा तो मुझे धमकियां मिलीं कि मैं भारत में रहकर हिंदुओं के खिलाफ एक शब्द नहीं बोल सकती। तस्लीमा कहती हैं कि इस वक्त असहिष्णुता चरम पर है। मैंने इससे पहले भी हिंदू रीति रिवाजों पर सवाल उठाए हैं लेकिन मुझे कभी इस तरह से धमकियां नहीं मिली हैं।

तस्लीमा नसरीन लिखती हैं कि भारत में जितनी धार्मिक असहिष्णुता बढ़ेगी उतना ज्यादा नफरत बढ़ेगी। पद्मावती का विरोध भी इसी का एक उदाहरण है। तस्लीमा के अनुसार शंभूलाल द्वारा अफराजुल के मर्डर को टीवी चैनल्स ने हमेशा की तरह के एक सामान्य क्राइम जैसे दिखाया। जबकि ये अलग तरह की हत्या थी। ISIS वाले भी मुंह पर नकाब लगाकर हत्या का वीडियो वायरल करते हैं लेकिन शंभूलाल के अंदर तो किसी तरह का भय नहीं था।

तस्लीमा ने ये भी लिखा कि जो लोग शंभूलाल का सपोर्ट कर रहे हैं वो शायद ये दिखाना चाह रहे हैं कि हिंदू भी मुसलमानों की तरह कट्टर हो सकते हैं। भले शंभूलाल को जेल हो जाए लेकिन उसकी तरह से हजारों भारत की सड़कों पर आजाद घूम रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. S
    sanjay kumar
    Dec 14, 2017 at 9:51 pm
    I am a hindu but still i fully support tasleema nasreem. She is a very sensible lady who has written fearlessly at the same time in a very sensitive way. Tasleema madam core of hinduism fully oppose such type of voilance. We all support you.
    (1)(0)
    Reply
    1. F
      fekubaba
      Dec 14, 2017 at 9:28 pm
      taslima nasrin ji, hinduon ka asli roop ab dekh lijiye. ISIS ko in chaddidhariyon ne peechhe chhod diya hai. yahi hai asli ram raj.
      (1)(0)
      Reply