ताज़ा खबर
 

WHO ने अपनी रिपोर्ट में कहा-मोटे लोगों के लिए ज्यादा घातक होता है कोरोना वायरस

जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी और वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के ग्लोबल हेल्थ ऑब्जरवेटरी ने कई देशों में हुए कोरोना मौतों के आंकड़ों का विश्लेषण करने के बाद अपनी रिपोर्ट में कहा है कि जिस देश में मोटे लोग ज्यादा हैं, वहां पर कोरोना संबंधी मौतों की संख्या भी ज्यादा है।

WHOविश्व स्वास्थ्य संगठन (फोटो सोर्सः ट्विटर@WHO)

जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी और वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के ग्लोबल हेल्थ ऑब्जरवेटरी ने कई देशों में हुए कोरोना मौतों के आंकड़ों का विश्लेषण करने के बाद अपनी रिपोर्ट में कहा है कि जिस देश में मोटे लोग ज्यादा हैं, वहां पर कोरोना संबंधी मौतों की संख्या भी ज्यादा है।

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि जिस देश में 50 फीसदी वयस्क मोटापे के शिकार हैं, वहां पर अन्य देशों की तुलना में 10 फीसदी ज्यादा कोरोना मौतें हुई हैं। मोटापे और कोरोना मौतों के बीच बेहद हैरान करने वाला संबंध है। जिन देशों में लोग मोटापे के शिकार हैं, वहां कुल मिलाकर 25 लाख लोगों की मौत कोरोना वायरस की वजह से हुई है। इनमें से 22 लाख लोग मोटापे के शिकार थे। यानी 90 फीसदी लोग मोटापे के उच्च स्तर पर थे।

इससे पहले ब्रिटिश स्वास्थ्य विभाग की एक्जीक्यूटिव एजेंसी पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड ने साक्ष्यों के आधार पर यह पाया था कि ज्यादा मोटे और वजनी लोगों को कोरोना संक्रमित होने पर अस्पताल में दाखिले और इंटेंसिव केयर यूनिट की जरूरत ज्यादा होती है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, वजन बढ़ने के साथ साथ यह खतरा भी बढ़ता जाता है। इस वजह से वजन को नियंत्रित किया जदाना बेहद जरूरी है।

पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड की चीफ न्यूट्रिशियनिस्ट डॉ. एलिसन टेडस्टोन के मुताबिक स्पष्ट संकेत मिले हैं कि ज्यादा वजन के चलते दूसरी बीमारियों के साथ-साथ कोविड-19 संक्रमण से गंभीर बीमारी और मौत का खतरा ज्यादा होता है। उन्होंने कहा, “वजन कम करने से स्वास्थ्य को काफी फायदा है- इससे कोविड-19 का खतरा भी कम होता है।

पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड ने अपनी रिपोर्ट में लोगों से मोटापा कम करने की अपील की है ताकि कोविड-19 से भी बचाव हो सके। गौरतलब है कि कोविड-19 का वायरस ऐसे लोगों को अपना निशाना आसानी से बना लेता है जो किसी अन्य रोग की चपेट में होते हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि मोटापा भी एक व्याधि है। किसी अन्य रोग की तरह से यह शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को कम करता है।

Next Stories
1 LAC विवाद के बीच चीन ने बढ़ाया रक्षा बजट, इस बार 6.8% का किया इजाफा; जानें- विश्व में कहां है भारत
2 सोशल मीडिया पोस्ट पर हिरासत में ले लिया गया था बांग्लादेशी लेखक, जेल में मौत
3 जमाल खशोगी केसः सऊदी के पत्रकार की हत्या में आया क्राऊन प्रिंस का नाम! US रिपोर्ट में दावा- मो.बिन सलमान ने ही ऑपरेशन को दी थी मंजूरी
ये पढ़ा क्या?
X