ताज़ा खबर
 

कौन है शरजील इमाम, जिसने कहा था, ‘नॉर्थ ईस्ट को काट भारत से कर दिया जाए अलग’?

शरजील ने आईआईटी बॉम्बे से कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई की है। इसके साथ ही शरजील आईआईटी बॉम्बे में असिस्टेंट टीचर भी रह चुका है।

sharjeel imamशरजील इमाम। (इमेज सोर्स-फेसबुक@शरजील इमाम)

असम और उत्तर पूर्वी राज्यों को भारत से काटने की बात करने वाले शरजील इमाम की तलाश में पुलिस जगह-जगह छापेमारी कर रही है। हालांकि अभी तक शरजील पुलिस की पकड़ से बाहर है। बता दें कि शरजील इमाम के खिलाफ भड़काऊ बयानबाजी के लिए असम और उत्तर प्रदेश में एफआईआर दर्ज की गई हैं। शरजील के खिलाफ देशद्रोह की धाराओं में मामला दर्ज किया गया है।

जानें कौन है शरजील इमामः शरजील इमाम बिहार के जहानाबाद जिले का निवासी है और फिलहाल दिल्ली की जेएनयू यूनिवर्सिटी से आधुनिक इतिहास में पीएचडी कर रहा है। शरजील इमाम के फेसबुक पेज पर दी गई जानकारी के अनुसार, शरजील ने आईआईटी बॉम्बे से कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई की है। इसके साथ ही शरजील आईआईटी बॉम्बे में असिस्टेंट टीचर भी रह चुका है।

शरजील के प्रोफाइल के अनुसार, वह बतौर सॉफ्टवेयर इंजीनियर भी एक कंपनी में काम कर चुका है और यूनिवर्सिटी ऑफ कॉपेनहेगन में बतौर प्रोग्रामर भी अपनी सेवाएं दे चुका है। शरजील ने जेएनयू से ही आधुनिक इतिहास में मास्टर्स और एमफिल की डिग्री ली है।

शरजील इमाम आइसा में दो साल से अधिक समय तक रहा और एक साल के लिए आइसा की कार्यकारिणी का सदस्य भी रहा। आइसा के प्रत्याशी के तौर पर शरजील ने जेएनयू में साल 2015 में काउंसलर का चुनाव भी लड़ा था।

शरजील ने बीती 24 जनवरी को अपने फेसबुक पेज पर एक पोस्ट लिखकर चक्का जाम करने की बात कही थी। शरजील ने अपनी पोस्ट में लिखा था कि “शाहीन बाग का मॉडल चक्का जाम का है, बाकी सब सेकेंडरी हैं। चक्का जाम और धरने में फर्क समझिए, हर शहर में धरने कीजिए, उसमें लोगों को चक्का जाम के बारे में बताइए और फिर तैयारी करके हाईवेज पर बैठ जाइए।”

बता दें कि शरजील इमाम का एक वीडियो हाल ही में काफी वायरल हुआ था। इस वीडियो में शरजील ने कहा था कि ‘5 लाख लोग हमारे पास ऑर्गेनाइज हों तो हम हिन्दुस्तान और नॉर्थ ईस्ट को परमानेंटली कट कर सकते हैं। परमानेंटली नहीं कर सकते तो कम से कम एकाध महीने के लिए तो कर ही सकते हैं।’

वीडियों में नजर आ रहा है कि शरजील ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि असम को काटना हमारी जिम्मेदारी है। असम और इंडिया कटके अलग हो जाएं, तभी ये हमारी बात सुनेंगे। अगर हमें असम की मदद करनी है तो असम का रास्ता बंद करना होगा फौज के लिए। बंद कर सकते हैं क्योंकि चिकननेक मुसलमानों का है। वो जो इलाका है, मुस्लिमों का है।

शरजील का वीडियो सामने आने के बाद भाजपा ने शाहीन बाग के धरने-प्रदर्शन पर निशाना साधा था। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी आज दिल्ली में एक रैली को संबोधित करते हुए शरजील इमाम का मुद्दा उठाया था।

उन्होंने कहा कि “आप लोगों ने शरजील इमाम की वीडियो देखी होगी। उसने कहा कि चिकननेक को काटकर नॉर्थ ईस्ट को भारत से अलग करना है। वह देश को बांटने की बात कर रहा है। मोदी सरकार ने दिल्ली पुलिस को उसके खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज करने को कहा है।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 MP: सीएम कमलनाथ का ऐलान- सरकार श्रीलंका में बनाएगी भव्य सीता मंदिर; पूर्व सीएम शिवराज सिंह का था वादा
2 पुलिस पदकों से ‘शेर-ए-कश्मीर’ शब्द हटाने पर भड़की नेशनल कांफ्रेंस, कहा- इतिहास बदलने की साजिश
3 एमएस बिट्टा बोले, ‘अगर अपाहिज न होता, तो PAK में ननकाना साहिब जा दोषियों का सिर काट देता’; CAA पर कही ये बात