ताज़ा खबर
 

प्रशांत भूषण को 1 रुपया देते वक्त राजीव धवन के दूसरे हाथ से नहीं छूटा था हुक्का, फोटो देख लोग लेने लगे मजे

धवन की यह तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। तस्वीर में वे प्रशांत को एक रुपए का सिक्का दे रहे हैं और दूसरे हाथ में हुक्का पकड़े हुए हैं। उनकी इस तस्वीर को शेयर करते हुए एक फ़ेसबुक ने लिखा "स्वाग देख रहे हो राजीव धवन का.... .हुक्का छूटता ही नहीं है।

Contempt Case, Prashant Bhushan, Punishment, Rajiv Dhawan, One Rupee, Coin, BJP Leader, Priti Gandhi, Twitter, अवमानना केस, सजा, प्रशांत भूषण, राजीव धवन, 1 रुपये, सिक्का, महिला नेता, प्रीति गांधी, राष्ट्रीय खबरें, ट्रेडिंग न्यूज, जनसत्ता समाचारतस्वीर में वे प्रशांत को एक रुपए का सिक्का दे रहे हैं और दूसरे हाथ में हुक्का पकड़े हुए हैं। (twitter/prashant bhushan)

राजस्थान हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान वरिष्ठ वकील राजीव धवन हुक्का गुड़गुड़ाते हुए दिखे थे। उनका यह वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुआ था। उस दौरान इस वाक्ये पर कई सारे मीम भी बने थे। सोमवार को धवन एक बार फिर हुक्के के साथ देखे गए। अवमानना के मामले में वकील प्रशांत भूषण को 1 रुपया जुर्माने की सजा दी थी। जिसके बाद राजीव धवन ने उन्हें फौरन एक रुपए का सिक्का दिया। इस दौरान भी वे हुक्का पी रहे थे।

धवन की यह तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। तस्वीर में वे प्रशांत को एक रुपए का सिक्का दे रहे हैं और दूसरे हाथ में हुक्का पकड़े हुए हैं। उनकी इस तस्वीर को शेयर करते हुए एक फ़ेसबुक ने लिखा “स्वाग देख रहे हो राजीव धवन का…. .हुक्का छूटता ही नहीं है। एक ने लिखा “सबकी नज़र 1 रूपये के सिक्के पर है लेकिन राजीव धवन जी के हाथ में ये हुक्का पाइप बहुत अलग कहानी कह रही है|” एक अन्य यूजर ने लिखा “राजीव धवन जी का रौला अलग लेवल का है । जहाँ जहाँ जाएँगे हुक्का साथ लें जाएँगे।” वेंकटेश नाम के एक यूजर ने लिखा “इसमें राजीव धवन का हुक्का दिख गया। टीवी पर इसी का धुआं दिखा था।”

भूषण ने अपने टि्वटर अकाउंट से सिक्का लेते हुए दो फोटो माइक्रो ब्लॉगिंग साइट टि्वटर पर शेयर किए हैं। उन्होंने लिखा, “मेरे वकील और वरिष्ठ सहयोगी राजीव धवन ने अवमानना ​​के फैसले के तुरंत बाद एक रुपए का योगदान दिया, जिसे लेकर मैंने उन्हें आभार व्यक्त किया।”

जस्टिस अरूण मिश्रा, जस्टिस बी आर गवई और जस्टिस कृष्ण मुरारी की तीन सदस्यीय बेंच ने दोषी अधिवक्ता प्रशांत भूषण को सजा सुनाते हुये कहा कि जुर्माने की एक रुपए की राशि 15 सितंबर तक जमा नहीं करने पर उन्हें तीन महीने की कैद भुगतनी होगी और तीन साल के लिये वकालत करने पर प्रतिबंध रहेगा। पीठ ने अपने फैसले में कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी बाधित नहीं की जा सकती लेकिन दूसरों के अधिकारों का भी सम्मान करने की आवश्यकता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कब कब Congress की आंखों की किरकिरी बने प्रणब मुखर्जी?
2 BJP सांसद ने कहा- चीन से बात छोड़, सख्‍ती दिखाए भारत, 5 साल में हो चुकी हैं 18 बैठकें
3 पहली तिमाही की GDP- 23.9%, निशाने पर नरेंद्र मोदी सरकार
यह पढ़ा क्या?
X