ताज़ा खबर
 

लद्दाख में सैनिकों की शहादत बेकार नहीं जाएगी- बोले PM नरेंद्र मोदी, लोग पूछ रहे- 14 महीने बाद पुलवामा के गुनहगारों का पता लगा पाए क्या?

@MalabarBiryani ने लिखा- अब मैं और मानने लगा हूं कि बालाकोट और पुलवामा पाकिस्तान के साथ पहले से ही प्लान किए गए थे, ताकि 2019 का चुनाव जीता जा सके।

India, China, Pak, Pulwamaपुलवामा हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने ली थी। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः शोएब मसूदी)

लद्दाख की गलवान घाटी में शहीद भारतीय सैनिकों को लेकर बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वह इन वीर सपूतों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाने देंगे। कोरोना संकट पर 15 मुख्यमंत्रियों के साथ डिजिटल बैठक के दौरान पीएम ने साफ किया कि भारत शांति चाहता है, पर उकसाये जाने पर वह हर हाल में मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम है। मोदी के मुताबिक, “हमारे लिए, देश की एकता और संप्रभुता सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। भारत ने हमेशा कोशिश की है कि मतभेद विवाद न बनें।” प्रधानमंत्री और बैठक में शामिल लोगों ने इसके बाद शहीद सैन्यकर्मियों के सम्मान में कुछ मिनट का मौन रखा।

इसी बीच, टि्वटर पर लोग पूछने लगे कि 14 महीने बाद पुलवामा के गुनहगारों का पता लगा पाए क्या? @free_thinker ने लिखा, “पुलवामा हमले के बाद हमें अभी भी नहीं मालूम है कि 40 सीआरपीएफ के जवानों की शहादत के पीछे कौन जिम्मेदार था। हमें नहीं बताया गया कि आखिर 300 किलो की मात्रा में विस्फोटक कहां से आए और कैसे एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाए गए। किसने रूट लीक किया और सीआरपीएफ के काफिले के बारे में जानकारी दी? इस पर कोई जवाब नहीं है।”

@Kishlaysharma बोले- याद रखें कि पीएम मोदी ने सीआरपीएफ जवानों को एयरलिफ्ट का ऑप्शन नहीं दिया। ऐसा तब हुआ, जब उन्होंने इस बारे में पत्र भी लिखा था। ऐेसे ही मोदी सरकार ने लद्दाख में हमारे जवानों से कहा कि वे चीनी चौकियों पर बिना हथियारों के जाएं और उनसे पीछे हटने को कहें और उसी दौरान वे शहीद हो गए।

@MalabarBiryani ने लिखा- अब मैं और मानने लगा हूं कि बालाकोट और पुलवामा पाकिस्तान के साथ पहले से ही प्लान किए गए थे, ताकि 2019 का चुनाव जीता जा सके।

@abdullah_0mar नाम के यूजर का कहना था कि पुलवामा के दौरान पीएम मोदी ने कहा था कि शहीदों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा। अब चीन के साथ भी वही टोन सामने आई है। पीएम ने कहा है- हमारे शहीदों का बलिदान व्यर्थ न जाएगा।

@niiravmodi के हैंडल से कहा गया कि पुलवामा हुआ तो उन्होंने कहा कि सरकार से अभी सवाल न हो। ये सही समय नहीं है और आज तक किसी को नहीं पता चला कि पुलवामा में क्या हुआ था? मैं सेना और सभी सुरक्षाबलों के साथ हूं, पर मैं अक्षम भारत सरकार से पूछता हूं कि आखिर भारतीय सरजमीं पर देश के 20 जवान क्यों शहीद हुए?

@pbhushan1 ने लिखा- सिर्फ करगिल और लद्दाख ही नहीं, बल्कि उरी और पुलवामा भी हमारी तथाकथित ‘राष्ट्रवादी’ सरकारों की इंटेलिंजेंस की नाकामी की वजह से हुए।

क्या हुआ था पुलवामा में?: 14 फरवरी, 2019 को जम्मू और कश्मीर के पुलवामा में  सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमला हुआ था, जिसमें 40 से ज्यादा जवान शहीद हो गए थे। हमले के बाद देशभर में आतंकियों के खिलाफ कड़े ऐक्शन की मांग उठी थी। पीएम मोदी ने भी कहा था कि उन जवानों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा और उसी के बाद बदले के रूप में भारतीय वायुसेना ने बालाकोट में एयर स्ट्राइक कर आतंकी बेस कैंप्स को नेस्तनाबूद कर दिया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘क्या बहादुरी सिर्फ पाकिस्तान को दिखाने के लिए है?’ चीन पर करो सर्जिकल स्ट्राइक, पूर्व वित्त मंत्री का मोदी सरकार पर निशाना
2 लद्दाख झड़प: ‘हम शांति चाहते हैं, पर उकसाने पर दे सकते हैं मुंहतोड़ जवाब’, बोले PM नरेंद्र मोदी
3 भारत-चीन खूनी झड़पः देश के 20 शहीदों में दीपक सिंह भी थे शुमार, 20 साल की उम्र में हुई शादी, 8 माह बाद ही पत्नी की मांग से उजड़ गया सिंदूर
राशिफल
X