भगोड़े माल्या ने जब पत्रकार को दिखाया था तेवर, कहा था- मैं मीडिया से बात नहीं करता, तुम जज नहीं

माल्या से जब कहा गया था कि आप भारत से भागकर इंग्लैंड आ गए हैं तो उन्होंने कहा कि मैं 1992 से इंग्लैंड में रहता हूं। वापस आकर इंग्लैंड में रहना भागना नहीं है।

Vijay Mallya, journalist,judgeभगोड़े कारोबारी विजय माल्या (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

भारत के भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या हमेशा चर्चाओं में रहते हैं। साल 2016 में लंदन में एक बार पत्रकार ने उनसे सवाल करना चाहा तो उन्होंने मीडिया से बात करने से मना कर दिया था।  विजय माल्या उस समय अपने बॉडी गार्ड के साथ थे। माल्या ने कहा कि मैं मीडिया से बात नहीं करता हूं। तुम जज नहीं हो।

जी न्यूज के पत्रकार ने जब उनसे पूछा कि आपकी योजना क्या है सर? माल्या ने कहा कि कुछ नहीं मेरे दोस्त मैं मीडिया से बात नहीं करता हूं। तुम जज नहीं हो। जज वहां बैठे हुए हैं। साथ ही उन्होंने कैमरामैन से कहा कि एंगल बराबर रखना। इसके अलावा भी कई मौके आए हैं जब माल्या ने पत्रकारों के सवालों का जवाब नहीं दिया है। साल 2017 में लंदन में पत्रकारों ने उन्हें घेर लिया था। उनसे कई सवाल पूछे गए लेकिन वो सिगरेट के कस लागते हुए बातचीत में लगे रहे।

माल्या से कहा गया था कि आप भारत से भागकर इंग्लैंड आ गए हैं तो उन्होंने कहा कि मैं 1992 से इंग्लैंड में रहता हूं। वापस आकर इंग्लैंड में रहना भागना नहीं है। जब पत्रकार ने उनसे कहा था कि आपके लिए जेल तैयार है तो उन्होंने कहा कि ये अदालत तय करेगी कि मैं जेल जाऊंगा या नहीं।

बताते चलें कि यूके में विजय माल्या की भारत में प्रत्यर्पण के खिलाफ अपील खारिज की जा चुकी है। माल्या ने किंगफिशर एयरलाइंस को बिना लाइसेंस के लोन से जुड़े धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपो को लेकर भारत द्वारा दायर किए गए प्रत्यर्पण की अपील के खिलाफ याचिका दी थी।

बताते चले कि विजय माल्या अभी जमानत पर है। 2017 में प्रत्यर्पण वारंट पर गिरफ्तारी के बाद से माल्या जमानत पर है। वो लंदन में मुकदमा लड़ रहा है। साल 2018 में एक अदालत ने उसे भारतीय बैंकों को भुगतान करने का भी आदेश दिया था।

Next Stories
1 रवजोत कौर ग्रेवालः डेंटिस्ट से सिविल सेवा में ली एंट्री, पंजाब PCS परीक्षा में पाई थी रैंक-1; ऐसी है कहानी
2 फैलता, बढ़ता रहा COVID-19, पर ECI को महसूस ही न हुई ‘संक्रमण की सुनामी’
3 कोरोना पर ऑस्ट्रेलियाई अखबार ने दिखाई विश्व को देश की ‘स्थिति’, भारतीय उच्चायोग ने संपादक को लिखा खत, कहा- ऐसे ‘निराधार’ लेख लिखने से आगे बचें
यह पढ़ा क्या?
X