टी पार्टी में जब हुआ सिद्धू और कैप्टन का आमना सामनाः हाथ जोड़ बोले नवजोत- कैसे हैं सर? मिलकर अच्छा लगा; देखें- कैसा था CM का रिएक्शन

सिद्धू के ताजपोशी के कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि सिद्धू से उनका पुराना रिश्ता है।

punjab, congress
नवजोत सिंह सिद्धू के साथ पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह। (पीटीआई)।

शुक्रवार को चाय पार्टी पर मुलाकात के दौरान पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने राज्य के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का हाथ जोड़ अभिवादन किया। हाथ जोड़ सिद्धू ने पंजाब सीएम से कहा, ‘कैसे हैं सर आप? आपसे मिलकर अच्छा लगा।’ इस पर कैप्टन सिंह ने भी सिद्धू को हाथ जोड़ नमस्कार कहा। सिद्धू के ताजपोशी के कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि सिद्धू से उनका पुराना रिश्ता है। कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस बयान पर सोशल मीडिया यूजर्स ने भी जमकर मजे लिए। निशांत पंत (@nishantpant_in) ने लिखा, ‘कल तक तो नाक रगड़ के माफी मंगवाना चाहते थे आज रिश्तेदारी निकाल रहे हैं!!’

बता दें कि नवजोत सिंह सिद्धू ने शुक्रवार को पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष का कार्यभार संभाल लिया। इस दौरान पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह भी मौजूद थे जिनसे हाल के दिनों में सिद्धू के टकराव की खबरें आ रही थीं। पंजाब कांग्रेस के नए कार्यकारी अध्यक्षों संगत सिंह गिलजियान, सुखविंदर सिंह डैनी, पवन गोयल और कुलजीत सिंह नागरा ने भी यहां पार्टी के मुख्यालय में बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ताओं और समर्थकों की मौजूदगी में कार्यभार संभाला। इस दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पंजाब मामलों के अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के प्रभारी हरीश रावत, पूर्व मुख्यमंत्री राजिंदर कौर भट्टल, वरिष्ठ नेता प्रताप सिंह बाजवा और लाल सिंह सहित अन्य लोग भी मौजूद थे।

प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में कार्यभार संभालने के बाद सिद्धू ने कहा कि पार्टी के एक सामान्य कार्यकर्ता और प्रदेश इकाई के प्रमुख में कोई अंतर नहीं है। अमृतसर (पूर्व) से विधायक सिद्धू ने कहा, ‘‘पार्टी के एक सामान्य कार्यकर्ता और राज्य इकाई प्रमुख के बीच कोई अंतर नहीं है। पंजाब का हर कांग्रेस कार्यकर्ता आज से पार्टी की प्रदेश इकाई का प्रमुख बन गया है।’’


उन्होंने कहा कि कार्यकर्ता पार्टी की जान होते हैं और पार्टी को कार्यकर्ताओं से ही ताकत मिलती है। क्रिकेटर से नेता बने सिद्धू ने सुनील जाखड़ का स्थान लिया है। उन्होंने कहा कि उनके मन में छोटों के लिए प्यार और बड़ों के लिए सम्मान है। उन्होंने कहा, ‘‘पंजाब जीतेगा, पंजाबियों की जीत होगी।’’ प्रदेश कांग्रेस की कमान संभालने से पहले सिद्धू ने यहां पंजाब भवन में मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह से मुलाकात की थी।

इससे पहले अमृतसर (पूर्व) के विधायक सिद्धू ने पवित्र ग्रंथ की बेअदबी के मामले के लिए मुख्यमंत्री पर निशाना साधा था। मुख्यमंत्री ने भी सिद्धू को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने का विरोध किया था और कहा था कि जब तक सिद्धू उनके खिलाफ अपमानजनक ट्वीट के लिए माफी नहीं मांगेंगे, वह उनसे नहीं मिलेंगे।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट