ताज़ा खबर
 

जब प्रशांत किशोर ने बताया था राहुल गांधी के साथ मतभेदों का कारण, कार्यप्रणाली पर भी उठाया था सवाल

प्रशांत किशोर ने कहा कि लोग भूल रहे हैं कि 1989 के लोकसभा चुनावों में कांग्रेस ने राजीव गांधी की अगुवाई में 197 सीटें जीती थीं। इन नंबरों को देखने के बाद हर किसी ने इसे कांग्रेस की हार घोषित कर दिया था।

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (फोटो- फेसबुक- @Prashantkishorr)

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने हाल ही में कांग्रेस नेता राहुल गांधी से मुलाकात की थी। दोनों के ही बीच हुए मुलाकात के बाद अटकलों का दौर शुरू हो गया। लेकिन एक बार एक इंटरव्यू में पीके ने बताया था कि किन मुद्दों पर उन्हें राहुल गांधी के साथ असहमति है। साथ ही उन्होंने कहा था कि लोगों को लगता है कि 2014 में कांग्रेस का पतन हुआ, लेकिन सच्चाई यह है कि कांग्रेस के पतन की शुरुआत 1985 से ही हो गयी थी।

राहुल गांधी के साथ वैचारिक मतभेदों पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा था कि राहुल गांधी का मानना है कि नरेंद्र मोदी को हराना ही पार्टी का टारगेट होना चाहिए। जबकि मेरा मानना है कि अगर आप 48 साल के हैं और कांग्रेस के अध्यक्ष बन जाते हैं, तो भूल जाइए कि आप मोदी को हरा सकते हैं या नहीं। पहले कांग्रेस को अगले 5 या 8 साल के लिए ध्यान रखकर नीति तैयार करनी चाहिए।

पीके ने कहा था कि राहुल गांधी का मानना है कि कांग्रेस की वापसी अपने परंपरागत तरीकों से ही होगी। राहुल गांधी के साथ अपने वैचारिक मतभेदों पर चर्चा को आगे बढ़ाते हुए किशोर ने कहा था कि लोग गफलत में हैं कि कांग्रेस 2014 के बाद से कमजोर हुई है, जबकि सच्चाई यह है कि उसका पतन 1985 से ही शुरू हो गया था।

लोग भूल रहे हैं कि 1989 के लोकसभा चुनावों में कांग्रेस ने राजीव गांधी की अगुवाई में 197 सीटें जीती थीं। इन नंबरों को देखने के बाद हर किसी ने इसे कांग्रेस की हार घोषित कर दिया था। जब पीके से नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी के बीच क्या फर्क है पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि मोदी एक जोखिम उठाने वाले व्यक्ति हैं, उनके अंदर हिम्मत है जिसके आधार पर वह बड़े फैसले ले सकते हैं।

जबकि राहुल गांधी का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि उनके ऊपर एक 100 साल पुरानी पार्टी की जिम्मेदारी है। जंहा चीजें बदलना आसान नहीं है, उस पार्टी के मुकाबले जो सिर्फ 30 साल पहले बनी।

Next Stories
1 अमित शाह के नाम पर मंत्री बनवाने का झांसा देकर धन उगाही करने वाले चार गिरफ्तार
2 दैनिक भास्कर और भारत समाचार के ठिकानों पर IT की रेड, दिग्विजय बोले- पत्रकारिता पर मोदीशाह का प्रहार
3 ‘भारत में अब तक कोरोना से 34 से 49 लाख मौत होने की आशंका’
ये पढ़ा क्या?
X