ताज़ा खबर
 

सीएम बने थे नरेंद्र मोदी तो मां ने लिया था एक वादा, पीएम बोले- मुझपर हुआ गहरा असर

मोदी ने कहा कि बीते दिनों में भले ही किसी ने मां से कहा कि उन्हें एक साधारण नौकरी मिल गई तो मां ने पूरे गांव में मिठाई बांटी होगी।

Author February 4, 2019 12:50 PM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फोटो सोर्स- humansofbombay)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मशूहर फेसबुक पेज ‘Humans of Bombay’ संग दशकों पुरानी यादों को साझा किया है। HB को दिए एक साक्षात्कार में पीएम ने उन दिनों को भी याद किया जब वह गुजरात के मुख्यमंत्री भी नहीं बने थे। पीएम ने यह भी बताया कि जब वह पहली बार गुजरात के मुख्यमंत्री बने तो उनकी मां हीराबेन को किसी कदर खुशी हुई। नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘बहुत से लोगों ने मुझसे पूछा कि जब मैं प्रधानमंत्री बना तो मां को कैसा लगा। लेकिन तब तक ‘मोदी’ नाम हवा में था, मेरी तस्वीरें छापी जा रही थीं और सभी जगह बहुत उत्साह था। लेकिन मुझे लगता है कि मां के लिए वो पल मील का पत्थर था जब मैं मुख्यमंत्री बना। हालांकि जब मुझे इस बात का पता चला तब मैं दिल्ली में रह रहा था। शपथ लेने से पहले मैं सीधे अहमदाबाद गया और मां से मिला। मां यहां मेरे भाई के साथ रहती हैं।’

पीएम ने कहा, ‘हालांकि मेरे मां से मिलने से पहले ही उन्हें पता चल चुका था कि मैं गुजरात का मुख्यमंत्री बन चुका हूं। लेकिन ईमानदारी से कहूं तो उन्हें नहीं पता होगा कि मुख्यमंत्री की पोस्ट क्या होती है। मैं मां के पास पहुंचा तो खूब उत्सव का माहौल था। जश्न शुरू हो चुका था। जब मेरी मां ने मुझे देखा तो गले लगा लिया। उन्होंने मुझसे कहा कि अच्छी बात यह है कि अब तुम गुजरात में वापस आ जाओगे।’ मोदी ने कहा कि एक मां का स्वभाव यह है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता की उसके आसपास क्या हो रहा है। बस वो अपने बच्चों के करीब रहना चाहती है।

उन्होंने आगे कहा, ‘मेरे सीएम बनने के बाद मां ने मुझसे कहा, ‘देख भाई… मुझे नहीं पता तुम क्या करते हो। बस मुझसे वादा करो कि तुम जीवन में कभी रिश्वत नहीं लोगे। घूस लेने का पाप कभी नहीं करोगे।’ मोदी ने कहा, ‘मां के इन शब्दों ने मुझे प्रभावित किया है और यह भी बताऊंगा कि ऐसा क्यों हुआ। एक महिला जिसने अपनी पूरी जिंदगी गरीबी में गुजार दी। जिनके पास त्योहारों के समय भौतिक सुख-साधन नहीं थे। उन्होंने मुझसे रिश्वत नहीं लेने को कहा।’

इसपर प्रधानमंत्री ने कहा, ‘इसलिए जब मैं देश का प्रधानमंत्री बना मेरी जड़े मजबूत और कठोर बनी हुईं हैं। बीते दिनों में भले ही किसी ने मेरी मां से कहा कि मुझे एक साधारण नौकरी मिल गई तो उन्होंने पूरे गांव में मिठाई बांटी होगी। इसलिए सीएम-वीएम उनके लिए कुछ भी मायने नहीं रखता। जब तक कि कुर्सी पर मौजूद इंसान देश के लिए ईमानदार और निरपेक्ष होने का प्रयास करता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App