ताज़ा खबर
 

जब कोरोना से हुई मौतों पर सदन में बोलने लगे मनोज झा, भावुक हो गए लोग, सोशल मीडिया पर की जमकर तारीफ़

मनोज झा ने कहा कि ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए लोग हमको सांसद समझकर कॉल करते थे लेकिन हम किसी की मदद नहीं कर पाते थे।

सांसद मनोज झा के भाषण को लोग शेयर कर रहे हैं। (एक्सप्रेस फोटो)।

राज्यसभा में सांसद मनोज झा के दिए गए भाषण को सोशल मीडिया पर यूजर्स जमकर शेयर कर रहे हैं और अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। दरअसल, मनोज झा ने कोरोना से जान गंवाने लोगों को याद करते हुए संसद में भाषण दिया था। सांसद मनोज झा के भाषण को शेयर करते हुए ट्विटर यूजर मुसफिदुर रहमान (@aman6343) ने लिखा, ‘राज्यसभा में अब तक दिए गए सबसे बेहतरीन भाषणों में से एक भाषण है। इस भाषण ने मुझे भावुक कर दिया।’ मोहम्मद जुबेर ने लिखा, ‘इस भाषण को ध्यान से सुनें। मनोज झा बहुत-बहुत शुक्रिया भाषण देने के लिए।’

बता दें कि राजद सांसद मनोज झा ने भाषण में कहा, ‘मुझे एक शोक संतप्त गणतंत्र का एक अदना सा नागरिक समझिए। सबसे पहले तो उन लोगों से माफी मांगनी चाहिए जिन लोगों की कोरोना वायरस से मौत हुई और उनकी मौत को हम कुबूल तक नहीं कर रहे हैं। हम लोगों को एक साझा माफीनामा उन लोगों के लिए लिखना चाहिए जिन लोगों ने कोरोना के दौरान जान गंवाई। यह समय मेरा आंकड़ा, तुम्हारा खड़ा करने का नहीं है अपनी पीड़ा में आंकड़ा ढूंढने की जरूरत है।’

मनोज झा ने कहा कि ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए लोग हमको सांसद समझकर कॉल करते थे लेकिन हम किसी की मदद नहीं कर पाते थे। जिन लोगों ने जान गंवाई हैं वे हमारी नाकामी का एक जिंदा दस्तावेज छोड़कर गए हैं। यह हम सब की सामूहिक नाकामी है। अब तक की सरकारों की सामूहिक नाकामी है।’


मनोज झा ने कहा, ‘मैं सिर्फ अपनी पार्टी की ओर से नहीं कह रहा हूं बल्कि उन लाखों लोगों की ओर से कह रहा हूं जो अपनी बात रखना चाहते थे लेकिन रख नहीं पाए।’ सांसद ने कहा कि यह सरकार मुफ्त वैक्सीन मुफ्त इलाज की बात करती है। ‘आप किन को यह बात बता रहे हैं इस देश में हर व्यक्ति कर देता है।’

मनोज झा ने कहा कि देश में हर व्यक्ति को स्वास्थ्य का अधिकार दिया जाना चाहिए। कोरोना के दौरान जब सांसदों की नहीं सुनी जा रही थी तो आम आदमी की कौन सुनता? कोरोना वायरस की लहर के दौरान सरकारें, न सिर्फ केंद्र सरकार बल्कि कई राज्य सरकारें नदारद दिखीं। बड़े दुख की बात है कि लोगों की नाकामी को सिस्टम की नाकामी का नाम दिया जा रहा है। बड़े दुख की बात है लोगों को गरिमा से अंतिम संस्कार तक नहीं मिल सका।

Next Stories
1 सोनिया गांधी ही बनी रहेंगी कांग्रेस की अध्यक्ष? गुलाम नबी और सचिन पायलट को मिल सकता है अहम पद
2 कांग्रेस प्रवक्ता से बोलीं अंजना ओम कश्यप, रोना बंद करें, सपा नेता ने कहा- योगी भी करने लगे केंद्र की पैरवी
3 योगी सरकार से रोजगार मांगने पहुंचे, पुलिस ने भांजी लाठी तो लगा दी गोमती में छलांग
ये पढ़ा क्या?
X