ताज़ा खबर
 

जब ममता बनर्जी को नहीं समझ आई लालू यादव की बात, बताया रेलवे को कैसे पहुंचाया था फायदा

आपकी अदालत में साक्षात्कार के दौरान लालू ने कहा था कि आईएमए से लेकर हावर्ड तक इस बात की चर्चा हुई कि घाटे में चल रही भारतीय रेल फायदा कैसे कमाने लग गई। अलबत्ता उनके बाद रेल मंत्री बनीं ममता बनर्जी इसे नहीं मान रही हैं।

आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (फोटो सोर्स: एजेंसी)

प्रसाद यादव और ममता बनर्जी दोनों ही मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली सरकार में रेल मंत्री रहे। लालू के बाद ममता ने रेलवे का कामकाज संभाला। लेकिन ममता ने जब कामकाज शुरू किया तो उन्हें यह बात समझ नहीं आई कि लालू की अगुवाई में रेलवे ने मुनाफा कैसे कमाया। उनका तर्क था कि रेलवे का मुनाफा आंकड़ों की बाजीगरी से ज्यादा कुछ नहीं।

तब आपकी अदालत में साक्षात्कार के दौरान लालू ने कहा था कि आईएमए से लेकर हावर्ड तक इस बात की चर्चा हुई कि घाटे में चल रही भारतीय रेल फायदा कैसे कमाने लग गई। अलबत्ता उनके बाद रेल मंत्री बनीं ममता बनर्जी इसे नहीं मान रही हैं। उन्होंने एक श्वेत पत्र लाकर लालू विकास मॉडल को सिरे से खारिज करने की भी कोशिश की, लेकिन टीवी कार्यक्रम के दौरान लालू ने ममता के तमाम आरोपों को हवा में उड़ा दिया। उनका कहना था कि ममता बेकार ही उनके पीछे पड़ी हैं। वह पूर्वाग्रह से ग्रसित महिला हैं।

लालू ने तब बताया था कि उनके रेलवे मॉडल की स्टडी करने के बाद स्टूडेंट्स ने उनसे पूछा था कि आपने ये जादू कैसे कर दिया। तब उनका जवाब था कि यह जादू नहीं बल्कि टोना है। लालू ने कहा कि ममता खुद से कुछ नहीं बोल रही हैं। उनके सलाहकार जो कहते हैं वो वही बात बोलती हैं। लालू का सवाल था कि ममता जो श्वेत पत्र दिखा रही हैं वो भारत सरकार का नहीं है। उसे कैबिनेट में तो पेश किया ही नहीं गया। हालांकि लालू ने तत्कालीन यूपीए सरकार के नेतृत्व पर उनकी उपलब्धि की अनदेखी करने का भी आरोप लगाया।

लालू ने कहा कि ममता बनर्जी की निगाह कोलकाता पर लगी हैं। उनका ध्येय मुख्यमंत्री की कुर्सी हासिल करना है। तब लालू ने चेतावनी दी थी कि रेलवे अब रिवर्स में जाने वाला है। उन्होंने बगैर भाड़ा बढ़ाए रेलवे को 90 हजार करोड़ का मुनाफा दिया। उनसे पहले रेलवे भीख मांगती थी। लालू ने टीवी कार्यक्रम के दौरान श्वेत पत्र के पेज नंबर 40 और 43 का हवाला देकर ममता को झूठा तक करार दिया। हालांकि एंकर ने जब उनसे पूछा कि आप ममता बनर्जी को समझाते क्यों नहीं हैं, तो उनका जवाब था कि आप जाकर समझाइए।

लालू ने कहा कि अपने रेल मंत्री के कार्यकाल में उन्होंने पार्टी लाइन से ऊपर उठकर काम किया था। जब उनसे सवाल किया गया कि उनसे पहले रेल मंत्री रहे नीतीश कुमार कहते हैं कि उनके कामकाज की फसल लालू काट रहे हैं तो लालू ने चुटीले अंदाज में जवाब दिया कि उनसे पहले बिहार के मुख्यमंत्री रहे जगन्नाथ बाबू ने एक हेलीकॉप्टर खरीदा था, लेकिन उसमें यात्रा करने का लुत्फ वह उठा रहे हैं।

Next Stories
1 रिपब्लिक डे पर इस बार राजपथ पर गरजेगा राफेल, जानें भारत कैसे करेगा शक्ति प्रदर्शन
2 कोरोनाः Bharat Biotech की COVAXIN फायदेमंद- Lancet, SII सीईओ ने बताया था ‘पानी जैसा’
3 J&K में ख़ुफिया जानकारी के बाद 10 दिनों के भीतर BSF को मिली दूसरी सुरंग, 150 मीटर लंबी और 30 फुट है गहरी
ये पढ़ा क्या?
X