बाली एयरपोर्ट पर असली नाम बताकर फंस गया छोटा राजन - Jansatta
ताज़ा खबर
 

बाली एयरपोर्ट पर असली नाम बताकर फंस गया छोटा राजन

छोटा राजन ने पूछताछ में मुंबई पुलिस के उन अधिकारियों के नाम बताए हैं, जो उसके दुश्मन दाऊद इब्राहिम के लिए काम करते थे। बताया जा रहा कि वे सभी अधिकारी अब रिटायर हो चुके हैं।

Author नई दिल्‍ली | November 7, 2015 5:06 PM
छोटा राजन। (फाइल फोटो)

इंडोनेशिया के बाली में इमीग्रेशन अफसरों ने एक व्यक्ति को लाइन से बाहर आने के लिए कहा और उसका नाम पूछा। जवाब में उसने कहा, ”राजेंद्र सदाशिव निखल्‍जे”। बस यहीं से वह शक के घेरे में आ गया था। एक सीबीआई अफसर के मुताबिक, छोटा राजन जिस पासपोर्ट पर ऑस्‍ट्रेलिया से बाली आया था, उसमें उसका नाम मोहन कुमार लिखा था, लेकिन इमीग्रेशन अफसर को उसने अपनी असली नाम-राजेंद्र सदाशिव निखल्‍जे बताया था और उसे तुरंत गिरफ्तार कर लिया गया।

इंडोनेशिया में अंडरवर्ल्‍ड डॉन की गिरफ्तारी के संबंध में सीबीआई सूत्रों ने बताया कि छोटा राजन ने मोहन कुमार की बजाय जैसे ही अपना असली नाम राजेंद्र सदाशिव निखल्‍जे बताया, वैसे ही अफसर समझ गए कि ये वही है, जिसके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया गया है। बाद में अधिकारियों ने पहचान की प्रक्रिया शुरू की और नोटिस में दिए गए फिंगर प्रिंट्स के 18 प्वाइंट्स में से 11 का मिलान हो गया, जिससे उसकी पहचान की पुष्टि हुई। फिलहाल छोटा राजन भारत लाया जा चुका है और उससे सीबीआई पूछताछ कर रही है।

सीबीआई हेडक्‍वार्टर में सुरक्षा बढ़ी

छोटा राजन को लाए जाने के बाद दिल्‍ली स्थित सीबीआई दफ्तर की सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। दिल्ली पुलिस ने सड़क पर तीन स्थानों पर भारी बैरिकेडिंग की है। मुख्यालय के भीतर सीआईएसएफ, नगालैंड पुलिस और दिल्ली पुलिस के मुस्तैद कर्मी प्रवेश और निकास के सभी स्थलों की निगरानी कर रहे हैं। सादे कपड़ों में विशेष प्रहरी पहली और दूसरी मंजिल की चौकसी कर रहे हैं, जहां अपराध सरगना को रखे जाने की उम्मीद है। हालांकि उसे एक सुरक्षित आवास में रखे जाने की अटकलें भी चर्चा में हैं।

दाऊद के लिए काम करने वाले पुलिस अफसरों के नाम बताए

छोटा राजन ने पूछताछ में मुंबई पुलिस के उन अधिकारियों के नाम बताए हैं, जो उसके दुश्मन दाऊद इब्राहिम के लिए काम करते थे। बताया जा रहा कि वे सभी अधिकारी अब रिटायर हो चुके हैं। छोटा राजन पर दिल्ली और मुंबई में दर्ज विभिन्न आपराधिक मामलों में मुकदमा चलाया जाएगा। वह यह दावे करता रहा है कि उसके पास भारत के मोस्ट वॉन्टेड दाऊद इब्राहिम के ठिकाने और पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के साथ दाऊद के रिश्तों के सबूत हैं। भारतीय वायुसेना के गल्फस्ट्रीम-3 प्लेन में इंडोनेशिया के बाली से यहां आने के तत्काल बाद राजन को कड़ी सुरक्षा के बीच सुबह करीब साढ़े पांच बजे दिल्ली एयरपोर्ट के पालम टेक्निकल एरिया से निकाला गया। कई गाड़ियों के काफिल में राजन किस गाड़ी में था, इसके बारे में मीडिया को पता नहीं चल पाया और कैमरामैनों व फोटोग्राफरों की अंडरवर्ल्ड डॉन की एक झलक को कैद करने की कोशिश नाकाम रही।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App