scorecardresearch

EVM: जब मायावती के आरोपों का मुख्य चुनाव आयुक्त ने दिया शायराना अंदाज में जवाब

EVM Row: मायावती ने हाल ही में कहा था कि बसपा का जनाधार कम नहीं हुआ है, सब ईवीएम का कमाल है।

EVM: जब मायावती के आरोपों का मुख्य चुनाव आयुक्त ने दिया शायराना अंदाज में जवाब
EVM: मायावती के आरोपों का मुख्य चुनाव आयुक्त ने दिया जवाब (Source- Twitter)

इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) के इस्तेमाल पर बसपा प्रमुख मायावती (Mayawati) ने चुनाव आयोग पर हमला बोला था। जिसके बाद मायावती के हमले का जवाब देते हुए मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने बुधवार को एक संवाददाता सम्मेलन में अदालत के फैसलों, चुनाव कानूनों का हवाला दिया। इसके साथ ही उन्होंने कविता का भी सहारा लिया।

मुख्य चुनाव आयुक्त ने दिया Mayawati को जवाब

मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने कहा कि ईवीएम ने सभी दलों को जीत दिलाई है, यहां तक ​​कि उन्हें भी जिन्होंने इसके इस्तेमाल को चुनौती दी थी। उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक शायरी सुनाते हुए कहा, “अगर ईवीएम बोल सकती तो वह कहेगी, जिसने तेरे सर पर तोहमत रखी है, मैंने उस के भी घर की लाज रखी है।”

EVM से चुनाव होते ही BSP का वोट प्रतिशत घटा

दरअसल, बहुजन समाज पार्टी (BSP) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने हाल ही में कहा था कि बसपा का जनाधार कम नहीं हुआ है, सब ईवीएम का कमाल है। उन्होंने कहा था कि जब तक बैलेट पेपर से चुनाव हुए बसपा का वोट प्रतिशत बढ़ा, लेकिन EVM से चुनाव होते ही वोट प्रतिशत घटने लगा। जरूर दाल में कुछ काला है। मायावती ने साफ किया कि बसपा आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव में किसी भी पार्टी से गठबंधन नहीं करेगी।

बीएसपी प्रमुख ने कहा था, “पिछले कुछ वर्षों से देश में EVM के जरिए चुनाव कराने को लेकर यहां की जनता में किस्म-किस्म की आशंकाएं व्याप्त हैं। इसे दूर और खत्म करने के लिए अब यहां आगे सारे छोटे-बड़े चुनाव पूर्व की तरह बैलेट पेपर पर कराए जाएं।” इसके साथ ही अपने जन्मदिन पर मायावती ने दलितों, पिछड़ों, मुसलमानों और दूसरे धार्मिक अल्‍पसंख्‍यकों को एकजुट होने की अपील की थी।

BJP ने किया पलटवार

वहीं, दूसरी ओर यूपी के कैबिनेट मंत्री योगेंद्र उपाध्याय ने मायावती के बयान को ‘खिसियानी बिल्ली, खंभा नोचे’ जैसा बताया। उन्होंने कहा, “जब पहले बसपा की सरकार रही तब भी ईवीएम से चुनाव होते थे। हाल ही में चाहे हिमाचल प्रदेश हो, चाहे दिल्ली, वहां भी ईवीएम से चुनाव हुए। वहां जो सरकारें बनीं, वह बीजेपी की नहीं थीं, तो वहां ईवीएम पर सवाल क्यों नहीं उठातीं?”

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 19-01-2023 at 08:15:03 am
अपडेट