ताज़ा खबर
 

WhatsApp लीक चैट: एयरस्ट्राइक सरीखी चीजें अर्णब को कैसे थीं मालूम?…Republic TV को घेर पूछ रहे लोग

तृणमूल की सांसद महुआ ने कहा कि एयरस्ट्राइक, 370 जैसे गंभीर मुद्दों पर संसद अनजान थी, पर अर्णब को सारी चीजों का पता था। उनका सवाल है कि क्या यह आफिशियल सीक्रेट्स एक्ट की उल्लंघन नहीं है?

Author Edited By शैलेंद्र गौतम नई दिल्ली | Updated: January 18, 2021 10:15 PM
Arnab Goswami, TMC, INCमहाराष्ट्र के गृह मंत्री ने अनिल देशमुख ने कहा, इस मामले में मंगलवार को कैबिनेट मीटिंग है, उसके बाद निर्णय लिया जाएगा। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्णब गोस्वामी और टीवी रेटिंग एजेंसी बार्क (BAARC)के पूर्व सीईओ पार्थो दासगुप्ता के बीच कथित व्हाट्सऐप चैट के स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया पर छाने के बाद बड़े विवाद की शक्ल लेते जा रहे हैं। कांग्रेस और तृणमूल के सांसदों ने तीखे सवाल केंद्र पर दागे हैं। महाराष्ट्र के गृह मंत्री ने अनिल देशमुख ने कहा, इस मामले में मंगलवार को कैबिनेट मीटिंग है, उसके बाद निर्णय लिया जाएगा।

देशमुख ने कहा कि अर्णब को दो साल पहले बालाकोट में किए गए हमले की पहले से ही जानकारी थी। इतनी सेंसिटिव बातें उनको कैसे पता चलीं यह बड़ा सवाल है। उनका कहना है कि पार्थ दासगुप्ता के वायरल चैट्स में काफी सेंसिटिव बातों का उल्लेख किया गया है। तृणमूल की सांसद महुआ ने कहा कि एयरस्ट्राइक, 370 जैसे गंभीर मुद्दों पर संसद अनजान थी, पर अर्णब को सारी चीजों का पता था। उनका सवाल है कि क्या यह आफिशियल सीक्रेट्स एक्ट की उल्लंघन नहीं है।

अर्णब ने हमले से 3 दिन पहले चैट पर कहा था- कुछ बड़ा होने वाला हैः सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर दावा किया जा रहा है कि बालाकोट स्ट्राइक से तीन दिन पहले ही अर्णब गोस्वामी ने व्हाट्सऐप चैट पर कहा था कि कुछ बड़ा होने वाला है। इसको लेकर कई स्क्रीनशॉट भी शेयर किए जा रहे हैं। कई लोगों ने देश की सुरक्षा का जिक्र करते हुए गोपनीय सैन्य कार्रवाई की जानकारी कथित तौर पर लीक होने पर हैरानी जताई।

विपक्षी दिग्गजों ने साधा अर्णब पर निशानाः छत्तीसगढ़ के कैबिनेट मंत्री टीएस सिंह देव ने कहा कि अगर बालाकोट हमले पर हमारी सैन्य खुफिया और रणनीतिक जानकारी को केंद्र सरकार में किसी की ओर से अपने फायदे के लिए प्राइवेट प्लेयर को लीक किया गया है तो यह बड़ी सुरक्षा चूक है। उन्होंने मांग की है कि इस मामले की जांच होनी चाहिए। जानेमाने वकील प्रशांत भूषण ने भी सवाल उठाए। कांग्रेस सांसद दिग्विजय सिंह का कहना है कि अर्णब केवल ध्रुवीकरण में विश्वास करते हैं। उधर, रिटायर्ड मेजर गौरव आर्या ने बचाव में कहा कि किसी के खिलाफ कोई व्यक्ति खड़ा होता है लेकिन अर्णब के खिलाफ तो पूरा मुल्क खड़ा हो गया।

पाकिस्तान तक जा पहुंची है चर्चाः पाकिस्तान सरकार में केंद्रीय मंत्री चौधरी फवाद हुसैन ने अर्णब गोस्वामी के कथित व्हाट्सऐप चैट का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि इससे नेक्सस का पता चलता है। पाकिस्तान में इस खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया।

23 फरवरी का है व्हाट्सऐप चैट, 26 को हुआ था हमलाः 23 फरवरी 2019 को व्हाट्सऐप चैट में पार्थो दासगुप्ता से यह बात कही थी। तीन दिन बाद 26 फरवरी 2019 को भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी कैंपों को तबाह कर दिया। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी 2019 को हुए आतंकी हमले पर यह भारत का करारा जवाब था, जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे।

Next Stories
1 ‘अर्णब गोस्वामी के खिलाफ तो पूरा मुल्क खड़ा हो गया है…’, बोले रिटायर्ड मेजर गौरव आर्या- बधाई हो, बड़ी इज्जत की बात है
2 भाषा पर विवाद! कर्नाटक सीमा पर तमिल में लगे सूचना पट्टिका क्षतिग्रस्त, पुलिस बल तैनात
3 PM नरेंद्र मोदी बने Somnath Temple Trust के अध्यक्ष, ट्रस्टी में अमित शाह समेत 6 के नाम
चुनावी चैलेंज
X