ताज़ा खबर
 

पश्चिम बंगाल में फिर बवाल: बाजार में इकट्ठा हो हनुमान चालीसा पढ़ने लगे बीजेपी समर्थक, पुलिस ने खदेड़ा

झड़प के दौरान मौजूद बीजेपी नेता इशरत जहां ने वेबसाइट से कहा, "हनुमान चालीसा पढ़ना धार्मिक मामला है। 10 मिनट उसके लिए अनुमति देने में इतनी कोई समस्या नहीं होनी चाहिए।

डॉबसन रोड स्थित हनुमान मंदिर के बाहर बीजेपी नेता इशरत जहां। (एक्सप्रेस फोटो)

पश्चिम बंगाल में मंगलवार (16 जुलाई, 2019) को फिर से बवाल हुआ। हावड़ा क्षेत्र के एक बाजार में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के समर्थकों ने हनुमान चालीसा पाठ किया, जिसके बाद हालात संभालने के लिए पुलिस को दखल देते हुए उन्हें खदेड़ना पड़ा।

सूत्रों के मुताबिक, पार्टी समर्थक डॉबसन रोड स्थित एसी मार्केट के पास जमा हुए थे। वे इसके बाद वहां हनुमान चालीसा पढ़ने लगे, पर कुछ देर बाद मौके पर हावड़ा पुलिस पहुंची, जिसने उन समर्थकों को तितर-बितर करने की कोशिश की। दरअसल, बीजेपी समर्थकों ने उस दौरान सड़क जाम कर रखी थी और उन्होंने इस आयोजन के लिए किसी प्रकार की अनुमति भी नहीं ली थी।

‘इंडियन एक्सप्रेस बांग्ला’ को पुलिस ने बताया, “बीजेपी समर्थकों के इस आयोजन के कारण सड़क बाधित हो रही थी, जिससे यातायात प्रभावित हो रहा था। ऐसे में उन लोगों ने पहले तो समर्थकों से वहां से हटने की गुजारिश की। बाद में न मानने पर पुलिस को मजबूरन उन्हें खदेड़ना पड़ा।”

उधर, झड़प के दौरान मौजूद बीजेपी नेता इशरत जहां ने वेबसाइट से कहा, “हनुमान चालीसा पढ़ना धार्मिक मामला है। 10 मिनट उसके लिए अनुमति देने में इतनी कोई समस्या नहीं होनी चाहिए। ऐसे में पुलिस की तरफ से जनता और बीजेपी समर्थकों के प्रति किया गया सलूक गलत था। उन्होंने जबरन हमें चालीसा पाठ से रोका था।”

इसी बीच, बीजेपी युवा इकाई के कार्यकर्ता डॉबसन रोड स्थित हनुमान मंदिर पर पिछले दो हफ्तों से चालीसा का पाठ कर रहे हैं। ऐसे में वहां प्रार्थना करने वालों को जगह मिले, इसलिए पुलिस ने वहां बैरिकेडिंग की है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ICJ Verdict on Kulbhushan Jadhav: 15-1 से भारत के पक्ष में फैसला, कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक; कोर्ट बोला- PAK ने किया विएना कन्वेंशन का उल्लंघन
2 बरखा दत्त ने साधा कपिल सिब्बल और उनकी पत्नी पर निशाना, पत्नी पर गाली देने का आरोप, महिला आयोग से की शिकायत
3 Karnataka Crisis: सुप्रीम कोर्ट का फैसला- बागी विधायक विश्वासमत में शामिल होने के लिए बाध्य नहीं