ताज़ा खबर
 

बंगाल: ममता सरकार के सामने एक न चली गवर्नर जगदीप धनखड़ की, न चाहते हुए भी पढ़ना पड़ा CAA,NRC के खिलाफ लिखित भाषण

धनखड़ ने बृहस्पतिवार को कहा था कि वह अपने अभिभाषण से ‘‘इतिहास बनाएंगे।’’ उन्होंने यह भी कहा कि राज्य के संवैधानिक प्रमुख के तौर पर उन्होंने अपने सुझाव दिए थे और उन्हें उम्मीद थी कि उनके अभिभाषण में उन सुझावों को शामिल किया जाएगा।

राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने बिना बदलाव किए भाषण पढ़ा । (फाइल फोटो)

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के सामने राज्य के राज्यपाल जगदीप धनखड़ की एक न चली और उन्हें शुक्रवार को बजट सत्र की शुरुआत में बिलकुल वैसा भाषण पढ़ना पड़ा जैसा राज्य सरकार की तरफ से उनके लिए तैयार किया गया था।

भाषण के दौरान उन्होंने  कहा कि असहिष्णुता, धर्मांधता और नफरत ‘‘देश में नये मानक हैं।’’ धनखड़ ने अपने भाषण में यह भी कहा कि असहमति के सभी रूपों को अस्वीकार करना, ‘‘राष्ट्रवाद के नाम पर नया फैशन बन गया है।’’ लिखित भाषण से अलग नहीं बोलने ने सरकार के साथ उनके किसी तरह के टकराव की आशंका को खत्म कर दिया।

धनखड़ ने बृहस्पतिवार को कहा था कि वह अपने अभिभाषण से ‘‘इतिहास बनाएंगे।’’ उन्होंने यह भी कहा कि राज्य के संवैधानिक प्रमुख के तौर पर उन्होंने अपने सुझाव दिए थे और उन्हें उम्मीद थी कि उनके अभिभाषण में उन सुझावों को शामिल किया जाएगा। नियमों के मुताबिक, बजट सत्र के दौरान राज्यपाल राज्य सरकार द्वारा तैयार भाषण को पढ़ते हैं जिसमें सरकार के नीतिगत फैसलों का जिक्र होता है।
धनखड़ ने भाषण पढ़ते हुए कहा, ‘‘वर्तमान में हमारा देश अहम मोड़ पर है। हमारे संविधान के मूल्य एवं मूलभूत सिद्धांतों को चुनौती दी जा रही है…गलत सूचनाओं का प्रसार सामान्य बात हो गई है और सभी प्रकार की अहसमतियों को खारिज करना राष्ट्रवाद के नाम पर नया फैशन हो गया है।’’

धनखड़ ने देशभर में प्रस्तावित एनआरसी की वजह से ‘‘दहशत के कारण राज्य में हु­ई लोगों की मौत’’ पर शोक व्यक्त किया। उन्होंने कहा, ‘‘असहिष्णुता, कट्टरता और नफरत का माहौल है जो देश में सभी भाषाई, धार्मिक एवं नस्ली विविधताओं को बांधे रखने वाले बहुरंगी धागे को कमजोर कर रहा है।’’

राज्यपाल ने कहा कि कोई बड़ा कदम उठाने से पहले सभी वर्ग के लोगों को भरोसे में लिया जाना चाहिए।उन्होंने कहा, ‘‘राज्य सरकार राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर), एनआरसी या सीएए जैसे कदमों के नाम पर लोगों के बंटवारे के खिलाफ है।’’ धनखड़ के अभिभाषण के दौरान तृणमूल कांग्रेस के विधायकों को सीएए एवं एनआरसी विरोधी संदेशों वाली टी-शर्ट और बैज पहने देखा गया।अपने भाषण के बाद, धनखड़ ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और अध्यक्ष बिमन बंदोपाध्याय से विधानसभा परिसर में मुलाकात की।

राज्यपाल ने बुधवार को कहा था कि वह भाषण में बदलाव कर सकते हैं जिसपर सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने तीखी प्रतिक्रिया दी थी और कहा था कि ‘‘वह जानबूझ कर समस्या उत्पन्न करने की कोशिश कर रहे हैं।’’ उन्होंने कहा था, ‘‘मैं संविधान के अनुकूल काम करूंगा।’’ साथ ही कहा था कि वह कभी ‘‘लक्ष्मण रेखा’’ पार नहीं करेंगे।

(भाषा इनपुट्स के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 टीवी डिबेट में शाहीन बाग पर भड़के मुस्लिम स्कॉलर की फिसली जुबान- ‘भाजपा के गंवारों को, स्कूल भेजो सा.. को’
2 ‘देश अभी पूरा आजाद नहीं हुआ है’, टीवी डिबेट में बोले मुस्लिम नेता, बिफर पड़े एंकर, बोले- अब क्या चाहिए?
3 वोटिंग से ठीक पहले केजरीवाल की तारीफ में शिवसेना ने पढ़े कसीदे- ‘5 साल में पूरे किए वादे, हिंदू-मुस्लिम छोड़ मोदी, शाह करें उनका सम्मान’