ताज़ा खबर
 

ममता बनर्जी को एक और झटका, 12 पार्षदों को लेकर बीजेपी में टीएमसी विधायक सुनील सिंह शामिल

इससे पहले, मई 2019 के अंत में टीएमसी के दो विधायक समेत 50 पार्षद बीजेपी में शामिल हो गए थे। प.बंगाल बीजेपी प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने तब दावा किया था कि आगे और भी नेता बीजेपी का दामन थामेंगे।

दिल्ली में सोमवार शाम बीजेपी में शामिल होने के दौरान टीएमसी विधायक सुनील सिंह समेत 12 पार्षद। बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय की उपस्थिति में ये सभी भगवा पार्टी का हिस्सा बने।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की अध्यक्ष ममता बनर्जी को एक और झटका लगा है। सोमवार (17 जून, 2019) को नवपारा से उनकी पार्टी के विधायक सुनील सिंह 12 पार्षदों के साथ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में शामिल हो गए। राजधानी नई दिल्ली में हुए कार्यक्रम में प.बंगाल बीजेपी प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय उस दौरान मौजूद रहे, जिन्होंने इन सभी को पार्टी सदस्यता दिलाई।

पत्रकारों से सिंह ने इससे कुछ देर पहले कहा था, “प.बंगाल ‘सबका साथ, सबका विकास’ चाहता है। दिल्ली में मोदी जी की सरकार है और हम चाहते हैं कि राज्य में भी वैसी ही सरकार बने, ताकि प.बंगाल का भी विकास हो सके।”

इससे पहले, मई 2019 के अंत में टीएमसी के दो विधायक समेत 50 पार्षद बीजेपी में शामिल हो गए थे। विजयवर्गीय ने तब दावा किया था कि आगे और भी नेता बीजेपी का दामन थामेंगे। जिस तरह सात चरण में आम चुनाव हुए, वैसे ही छह और चरणों में भी दूसरे दलों के लोग आकर बीजेपी का हिस्सा बनेंगे।

ममता को हालिया झटका ऐसे वक्त पर लगा है, जब वह सूबे भर के जूनियर डॉक्टरों के विरोध का सामना कर रही हैं। दरअसल, बंगाल के एनआरएस मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में 75 वर्षीय मरीज की मौत हो गई थी, जिसके बाद आक्रोशित तीमारदारों ने अस्पताल में हंगामा काटा था। झड़प व मारपीट के दौरान दो डॉक्टर बुरी तरह जख्मी हुए थे। विरोध में सूबे के डॉक्टर हड़ताल पर चले गए थे।

आगे यह मामला बढ़ा और बेंगलुरू, दिल्ली, महाराष्ट्र और अन्य राज्यों के डॉक्टरों ने भी हेलमेट और पट्टी बांधकर इस घटना का सांकेतिक विरोध किया और डॉक्टरों के लिए सुरक्षा की मांग की। बंगाल में जूनियर डॉक्टर 11 जून से हड़ताल पर हैं। हालांकि, ममता हड़ताल के छठे दिन थोड़ी नरम पड़ीं और वह जूनियर डॉक्टरों की सभी मांगें मानने के लिए राजी हो गईं।

सोमवार शाम सीएम की जूनियर डॉक्टरों के साथ मुलाकात हुई। दीदी ने उस दौरान उनकी सभी मांगें मान लीं। सीएम डॉक्टरों की सुरक्षा बढ़ाने को राजी हो गई हैं। हालांकि, इस भेंट में महज दो स्थानीय समाचार चैनलों को ही मीडिया कवरेज करने के लिए प्रवेश दिया गया। दीदी बोलीं कि युवा डॉक्टर ही भविष्य हैं। उन्हें निशाना बनाने का उनका कोई इरादा नहीं हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 शपथ के लिए पुकारा गया स्मृति ईरानी का नाम, देर तक मेज थपथपाते रहे मोदी-शाह और बाकी सांसद
2 भोजपुरी में शपथ लेना चाहते थे सांसद जनार्दन सिंह, नहीं मिली इजाजत, संसद में लगे जय श्री राम के नारे
3 VIDEO: संसद में भी ‘मोदी-मोदी’ के नारे, सुषमा स्वराज की जगह अमित शाह तो लालकृष्ण आडवाणी की जगह बैठे ये नेता