ताज़ा खबर
 

बंगाल: 400 लोगों के लिए बस दो टॉयलेट! ममता बनर्जी ने अपने ही मंत्री को लगाई फटकार

ममता बनर्जी प्रशासनिक मीटिंग के लिए जा रही थीं इसी दौरान उन्होंने झुग्गी-झोपड़ी में रहे लोगों से उनका हालचाल जाना।

Author नई दिल्ली | Published on: August 20, 2019 10:22 AM
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार (19 अगस्त, 2019) को कुछ ऐसा किया जो उन्होंने पिछले कई सालों में नहीं किया। सीएम ममता अचानक हावड़ा ब्रिज के समीप एक झुग्गी में गईं और वहां के निवासियों से बातचीत की। काफी देर तक ममता ने वहां के लोगों से बात की और उनकी समस्याओं को सुना। इस दौरान उन्हें मालूम हुआ कि वार्ड नंबर 29 में गोल टैंक पूरनबस्ती में रहने वाले करीब 400 लोगों के इस्तेमाल के लिए महज दो शौचालयों की सुविधा थी।

दरअसल ममता बनर्जी प्रशासनिक मीटिंग के लिए जा रही थीं इसी दौरान उन्होंने झुग्गी-झोपड़ी में रहे लोगों से उनका हालचाल जाना। सीएम ममता जब मीटिंग स्थल पर पहुंची तो उन्होंने विकास और नगरपालिका मामलों के मंत्री फिरहाद हकीम को अपने साथ ले लिया। ममता ने फिरहाद हकीम से कहा, ‘बॉबी (दूसरा नाम) तुम्हारे विभाग को बताया गया कि मैंने रास्ते में एक बस्ती का दौरा किया। चार सौ लोग के लिए दो टॉयलेट और बाथरूम। क्यों? हम झुग्गियों के विकास के लिए पैसे देते हैं। यहां का पार्षद कौन है? वो क्या कर रहे हैं?’

मंत्री को फटकार के बाद वहां कुछ देर के लिए शांति छा गई… और तभी किसी ने बताया कि स्थानीय पार्षद जुलाई 2017 में हत्या से जुड़े एक मामले में गिरफ्तार हैं। इस पर ममता अपने सवाल पर अडिग रहीं और उन्होंने कहा, ‘तो किसी मामले में पार्षद जेल में है, मगर नगर पालिका है और यह एक प्रशासक के अधीन है। आप वार्डों की देखरेख क्यों नहीं कर रहे हैं।’

सीएम ममता ने फिरहाद हकीम से आगे कहा, ‘मैं आपको बता रही हूं। सात दिनों में सभी स्लम क्षेत्रों का दौरा करना होगा और लोगों की समस्याओं को सुलझाना होगा।’ हावड़ा नगर निगम एक प्रशासक के अधीन है क्योंकि पिछले साल दिसंबर में होने वाले चुनाव अभी तक नहीं हुए हैं।

ममता बनर्जी ने अपने नेता पर बरसते हुए बोलीं कि 6 या 8 टॉलेट बनाने में समस्या क्या है। उन्होंने कहा, ‘400 लोगों के लिए दो टॉयलेट… क्या तुम कल्पना कर सकते हो? अगर आपके घर में ऐसी स्थिति हो तो क्या होगा? अगर समस्या का समाधान है तो हम क्यों नहीं कर सकते? नगर पालिका एक प्रशासक के अधीन है। कृपया अपना काम तुरंत शुरू करें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 ‘एक भारतीय के तौर पर गर्व नहीं कि…’, Article 370 पर मोदी सरकार के फैसले पर भड़के नोबल पुरस्कार विजेता अमर्त्य सेन
2 आतिश तासीर का ट्वीट- “ग़ज़नी के बाद से किसी ने इतने मंदिर नहीं तोड़े, जितने मोदी ने तुड़वा दिए”
3 Weather Forecast Today: खतरे के निशान के ऊपर बह रही यमुना, बुधवार को और बढ़ सकता है जलस्तर