ताज़ा खबर
 

बंगाल: TMC पर गुंडागर्दी के आरोप, 91 साल के कांग्रेस प्रत्‍याशी को 11वीं बार विधायक बनने की उम्‍मीद

पश्चिम बंगाल में सोमवार को पहले चरण के दूसरे भाग में पश्चिमी मिदनापुर, बांकुरा और बर्दवान जिलों में मतदान हुआ।

Author पश्चिमी मिदनापुर | April 12, 2016 2:16 PM
पश्चिम बंगाल में पहले चरण के दूसरे दौर में 80 फीसदी के करीब मतदान हुआ।

पश्चिम बंगाल में सोमवार को पहले चरण के दूसरे भाग में पश्चिमी मिदनापुर, बांकुरा और बर्दवान जिलों में मतदान हुआ। इसके तह‍त बांकुरा और बर्दवान जिले की नौ और पश्चिमी मिदनापुर की 13 सीटों के वोट डाले गए। इस चरण में सीपीएम के डॉक्‍टर सुरज्‍यकांत मिश्रा, पूर्व बंगाल कांग्रेस अध्‍यक्ष डॉ. मानस भूनिया, प्रदेश भाजपा अध्‍यक्ष दिलीप घोष जैसे दिग्‍गजों की किस्‍मत मतपेटी में बंद हो गई। सीपीएम उम्‍मीदवार डॉ. मिश्रा के साथ मतदाताओं की कई जगहों पर बहस हुई। वोट डालने के लिए कतार में खड़े मतदातओं ने कहा कि वे पांच साल तक नारायणगढ़ से नदारद रहे। चुनाव आने के बाद सामने आए हैं। राधानगर आदर्श प्राथमिक स्‍कूल में वोट डालने आए एक मतदाता ने कहा,’ कहावत है कि ईद का चांद होना लेकिन वह भी साल में एक बार दिखता है। हमारा विधायक इलेक्‍शन का चांद हो गया है जो पांच साल में केवल एक बार दिखता है। अब जब वह आया तो लाइन के आगे बढ़ने की रफ्तार थम गई है।’

हालांकि डॉ. मिश्रा ने दावा किया कि यह विरोध सत्‍ताधारी पार्टी की ओर से किया जा रहा है। उन्‍होंने कहा,’जो वे कर रहे हैं वह खतरनाक है। मेरे चुनाव लड़ने से ममता बनर्जी परेशान है। उनके कार्यकर्ता जो कर रहे हैं वह उनके नर्वस होने का नतीजा है। मुझे नहीं पता वे लोग क्‍या कहेंगे जब आम आदमी उनकी ओर इशारा कर चोर चोर कहते हैं।’ वहीं नारायणगढ़ के खाकुर्दा क्षेत्र में तृणमूल कार्यकर्ताओं ने कथित रूप से सीपीएम की महिला पोलिंग एजेंट को मतदान केंद्र से बाहर कर दिया। इसके बाद डॉ. मिश्रा वहां पहुंचे और महिला को फिर से बूथ में भेजा। केशपुरके सराय प्राइमरी स्‍कूल में एक तृणमूल कार्यकर्ता ने कथित तौर पर एक वृद्ध मतदाता की जगह खुद वोट डाल दिया। हालांकि बाद में कार्यकर्ता ने कहा कि वह मतदाता की मदद कर रहा था। इधर, घटाल में बूथ नंबर 289 से माकपा के पोलिंग एजेंट जुल्‍फान अली को अगवा करने का आरोप लगा। माकपा ने तृणमूल कार्यकर्ताओं पर इसका आरोप लगाया। लेकिन टीएमसी ने सभी आरोपों से इनकार किया। केशपुर में धननोगोरा स्‍कूल स्थित बूथ की एक अन्‍य महिला माकपा पोलिंग एजेंट ने भी बूथ छोड़ दिया। उन्‍होंने बताया,’ मुझे बूथ छोड़कर जाने को कहा गया। क्‍योंकि उन्‍होंने धमकी दी कि वे मुझे नग्‍न कर देंगे और पूरे गांव में घुमाएंगे।’

सबांग और पिंगला में कई मतदान केंद्रों पर केवल टीएमसी के ही एजेंट मौजूद थे। इस बारे में मुख्‍य निवार्चन आयुक्‍त को भी शिकायतें की गई। निर्वाचन आयुक्‍त ने बताया कि इस संबंध में रिपोर्ट मांगी गई है। इसमें पता चला है कि सभी मामलों में वोटिंग की शुरुआत से ही किसी अन्‍य पार्टी का एजेंट मौजूद नहीं था। खड़गपुर सदर सीट से कांग्रेस प्रत्‍याशी 91 साल के ज्ञान सिंह सोहनपाल ने गर्मी की परवाह किए बगैर सभी मतदान केंद्रों का दौरा किया। वे 10 बार विधायक रह चुके हैं और उन्‍हें पूरी उम्‍मीद है कि 11वीं बार भी वे चुने जाएंगे। उन्‍होंने कहा,’ मेरा जुड़ाव इस जगह से है। मैं कभी लोगों से वोट मांगने नहीं गया। मैं हर रोज उनसे मिलता हूं। वे पिछले 10 बार से मुझ पर विश्‍वास कर रहे हैं।’ इस विधानसभा के कई लोगों का भी कहना है कि वे ही जीतेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X