ताज़ा खबर
 

बंगाल चुनाव: कूचबिहार में मतदान के दौरान फायरिंग में चार की मौत, चुनाव आयोग ने नेताओं के आने पर लगाया प्रतिबंध

उत्तर बंगाल में कूचबिहार और अलीपुरद्वार जिलों व दक्षिण 24 परगना, हावड़ा और हुगली में 44 विधानसभा सीटों पर मतदान जारी है। सुरक्षा के लिए केंद्रीय बलों की तैनाती की गई है।

West Bengal, Assembly Election 2021बंगाल चुनाव में हिंसा के मद्देनजर चुनाव आयोग ने संवेदनशील जगहों पर केंद्रीय सुरक्षाबलों को तैनात किया है। (एक्सप्रेस फोटो- शशि घोष)

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के चौथे चरण के मतदान के दौरान कूचबिहार में हुई हिंसा के बाद चुनाव आयोग ने अगले 72 घंटे के लिए किसी भी दल के नेताओं को जिले में आने से मना कर दिया है। चुनाव आयोग ने कहा कि किसी भी नेता के कूचबिहार में आने से लॉ एंड आर्डर की स्थिति बिगड़ सकती है। इसलिए ऐसा निर्णय लिया गया है। इसके अलावा अगले चरण के लिए 17 अप्रैल को होने वाले मतदान से पहले प्रचार ना करने की अवधि 48 घंटे से बढ़ाकर 72 घंटे कर दी गई है।चौथे चरण के मतदान के दौरान कूचबिहार में भाजपा और टीएमसी कार्यकर्ता आपस में उलझ गए, जिसके बाद पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। इस दौरान सीतल्कूची में उपद्रवियों ने फायरिंग की। सीआईएसएफ ने अपने ऊपर हमले के बाद जवाबी कार्रवाई करते हुए कथित तौर पर गोलियां चलाई, जिसमें चार लोग मारे गए। जिस मतदान केंद्र के पास यह हिंसा हुई, वहां वोटिंग रोक दी गई और चुनाव स्थगति कर दिए गए।

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के चौथे चरण में शनिवार को 44 सीटों पर हुए मतदान में शाम 5 बजे तक 77 फीसदी वोटिंग हुई। कूचबिहार में चार लोगों के मारे जाने के बाद तृणमूल कांग्रेस ने चुनाव आयोग का रुख किया है। कूचबिहार में सुरक्षाबलों के द्वारा की गई फायरिंग में चार लोगों के मारे जाने के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लोगों से शांत रहने की अपील की। साथ ही ममता बनर्जी ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से इस बात का जवाब देने को कहा कि राज्य विधानसभा के चौथे चरण के मतदान के दौरान कूचबिहार जिले के सीतलकूची में केंद्रीय बलों की गोलीबारी में लोगों की जानें क्यों गईं। उन्होंने कहा कि केंद्रीय बलों के व्यवहार को देखकर उन्हें काफी समय से ऐसा कुछ होने की आशंका थी। भाजपा ने लोगों का जनाधार खो दिया है इसलिए लोगों को मारने का षड्यंत्र रच रही है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस घटना का जिक्र अपनी सिलिगुड़ी में हो रही रैली में किया। पीएम ने कहा, “कूचबिहार में जो हुआ है, वह बहुत ही दुखद है। जिन लोगों की मृत्यु हुई है, मैं उनके निधन पर दुख जताता हूं। मेरी संवेदनाएं उनके परिवार के साथ है।’’ मोदी ने कहा, ‘‘भाजपा के पक्ष में जन समर्थन देखकर ‘दीदी’ और उनके गुंडों में बौखलाहट हो रही है। अपनी कुर्सी जाते देख दीदी इस स्तर पर उतर आई है। लेकिन मैं दीदी को, टीएमसी को और उनके गुंडों को साफ-साफ कर देना चाहता हूं कि अब उनकी मनमानी बंगाल में नहीं चलने दी जाएगी।’’ साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने तृणमूल कांग्रेस पर लोगों को सुरक्षाबलों के खिलाफ उकसाने और उनकी राह में रोड़े अटकाने का आरोप लगाया। पीएम मोदी ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस चाहे जो कर ले, ममता बनर्जी की सरकार नहीं बचेगी।

वहीं हुगली में भाजपा सांसद लॉकेट चटर्जी के काफिले पर कुछ कथित स्थानीय लोगों ने हमला कर दिया। इसमें उन्हें चोट आई है। चटर्जी ने घटना की शिकायत चुनाव आयोग से करने की बात कही है।

Next Stories
1 कश्मीरः छुट्टी पर था सेना का हवलदार, आतंकियों ने बनाया निशाना; शहीद
2 जब अमृतसर पहुंचकर रिक्शा चलाने लगे थे अजीत डोभाल, फंस गए तो बताया पाकिस्तान का एजेंट हूं
3 एंटीलिया केसः अर्नब को भी सुसाइड कराना चाहते थे?- Shivsena नेता पर चिल्लाने रिटायर्ड मेजर जीडी बख्शी, देखें आगे क्या हुआ
यह पढ़ा क्या?
X