ताज़ा खबर
 

दिल्ली-एनसीआर में 1 से 4 सिंतबर के बीच बरस सकते हैं बादल, जानिए अपने क्षेत्र के मौसम का हाल

3 और 6 सितंबर के बीच मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र के कई हिस्सों में बारिश आ जाएगी।

Weather rain today weatherअगस्त माह में भारी बारिश का दौर जारी है। (PTI Photo)

देश में इस साल अगस्त में सामान्य से 27 प्रतिशत अधिक बारिश हुई है। पिछले 120 साल में चौथी बार सर्वाधिक बारिश दर्ज की गई है।भारत मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि देश में एक जून से 31 अगस्त के बीच सामान्य से 10 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की गई।विभाग के राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केन्द्र के वैज्ञानिक आर. के. जेनामणि ने कहा, ‘‘ अगस्त में सामान्य से 27 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की गई।’’जेनामणि ने कहा, ‘‘ अगस्त 2020 में दर्ज बारिश, पिछले 44 साल में सर्वाधिक है। वहीं, पिछले 120 साल में चौथी बार सर्वाधिक बारिश दर्ज की गई है।’’

अगस्त 1926 में सामान्य से 33 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की गई थी, जो अभी तक की सर्वाधिक है। इसके बाद अगस्त 1976 में सामान्य से 28.4 प्रतिशत अधिक, अगस्त 1973 में 27.8 प्रतिशत अधिक और इस साल सामान्य से 27 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की गई है।‘स्काईमेट वेदर’ के उपाध्यक्ष महेश पलवत ने कहा कि अगस्त में बंगाल की खाड़ी में पांच निम्न दबाव क्षेत्र बनने के कारण इस महीने इतनी अधिक बारिश हुई है। पिछले महीने कई स्थानों पर लगातार बारिश की वजह से बाढ़ की स्थिति भी उत्पन्न हो गई।

मौसम विभाग ने बताया कि दिल्ली-एनसीआर के लिए यह सप्ताह बारिश वाला सप्ताह होने वाला है। बारिश की तीव्रता सबसे अधिक 1 और 4 सितंबर के बीच होने वाली है। अन्य दिनों में भी हल्की से मध्यम बौछारें जारी रहेंगी। दिन का तापमान 32-33 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहेगा।

मौसम से जुड़ी जानकारी देने वाली निजी एजेंसी स्काईमेट के मुताबिक मध्य भारत के भागों के लिए इस सप्ताह की शुरुआत शांत मानसून के साथ होगी। हालांकि ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ेगा, क्योंकि बंगाल की खाड़ी के उत्तरी भागों पर संभावनी चक्रवाती सिस्टम के चलते 1 और 2 सितंबर को ओडिशा और छत्तीसगढ़ में बारिश शुरू हो जाएगी। बाद में 3 और 6 सितंबर के बीच मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र के कई हिस्सों में बारिश आ जाएगी। गुजरात, कोंकण और उत्तरी मध्य महाराष्ट्र में इस सप्ताह कम वर्षा के आसार हैं।

Live Blog

Highlights

    06:11 (IST)02 Sep 2020
    इस साल अगस्त में देश में 27 प्रतिशत अधिक बारिश हुई, 120 साल में चौथी सर्वाधिक वर्षा

    देश में इस साल अगस्त में सामान्य से 27 प्रतिशत अधिक बारिश हुई है। यह पिछले 120 साल में दर्ज की गई चौथी सर्वाधिक बारिश है। विभाग के राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केन्द्र के वैज्ञानिक आर. के. जेनामणि ने कहा, ‘‘ अगस्त में सामान्य से 27 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की गई।’’ उल्लेखनीय है कि आईएमडी ने नौ प्रतिशत धनात्मक-ऋणात्मक त्रृटि के साथ अगस्त महीने के लिए दीर्घकालिक औसत (एलपीए) के मुकाबले 97 प्रतिशत बारिश होने का अनुमान लगाया था। इस प्रकार एलएपीए के 96 से 104 प्रतिशत के बीच बारिश को सामान्य माना जाता है। जेनामणि ने कहा, ‘‘ अगस्त 2020 में दर्ज बारिश, पिछले 44 साल में सर्वाधिक है। वहीं, पिछले 120 साल में दर्ज की गई चौथी सर्वाधिक बारिश है।’’ 

    05:51 (IST)02 Sep 2020
    देश में एक जून से 31 अगस्त के बीच सामान्य से 10 प्रतिशत अधिक बारिश: मौसम विज्ञान विभाग

    भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बताया कि देश में एक जून से 31 अगस्त के बीच सामान्य से 10 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की गई। देश में आधिकारिक रूप से वर्षा ऋतु को एक जून से 30 सितंबर तक माना जाता है। विभाग के राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केन्द्र के वैज्ञानिक आर. के. जेनामणि ने कहा, ‘‘ अगस्त में सामान्य से 27 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की गई।’’

    04:54 (IST)02 Sep 2020
    बंगाल की खाड़ी में हवा के कम दबाव से हुई अधिक बारिश

    स्काईमेट वेदर’ के उपाध्यक्ष महेश पलवत ने कहा कि अगस्त में बंगाल की खाड़ी में पांच कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण इस महीने इतनी अधिक बारिश हुई है।निम्न दाब क्षेत्र में वायु का चक्रवाती चक्रण होता है। यह तूफान का पहला चरण होता है ,लेकिन जरूरी नहीं कि निम्न दाब चक्रवाती तूफान में ही तब्दील हो।

    03:46 (IST)02 Sep 2020
    गुजरात: तीन जिलों में बाढ़, 9000 से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया

    गुजरात के भरूच, नर्मदा और वडोदरा जिलों में नौ हजार से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। वहीं बांधों से अधिक पानी छोड़े जाने के कारण नर्मदा नदी उफान पर है।

    02:45 (IST)02 Sep 2020
    दिल्ली की वायु गुणवत्ता की स्थिति में सुधार

    दिल्ली शहर में वायु गुणवत्ता सूचकांक सुबह नौ बजे 48 दर्ज की गई। वायु सूचकांक 0-50 के बीच सुरक्षित माना जाता है। इसके बाद 51-100 संतोषजनक, 101-200 के बीच मध्यम, 201-300 के बीच खराब, 301-400 के बीच बेहद खराब और 401-500 के बीच गंभीर श्रेणी में माना जाता है। वायु गुणवत्ता को 500 से ऊपर न केवल गंभीर वाला बल्कि आपात स्थिति वाला माना जाता है। सोमवार को हवा की गुणवत्ता का औसत स्तर 24 घंटे में 41 रहा और यह केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से 2015 से दर्ज किए जा रहे गुणवत्ता रिकॉर्ड में अब तक का सबसे कम है। इस साल वायु गुणवत्ता के ‘अच्छी’ श्रेणी में होने का यह पांचवां दिन है। वायु गुणवत्ता 28 मार्च, 13 अगस्त, 20 अगस्त और 24 अगस्त को क्रमश: 45,50,50 और 45 दर्ज किया गया। वायु गुणवत्ता सूचकांक अगस्त महीने में ज्यादातर दिन 50 से 70 के बीच बना रहा।

    01:40 (IST)02 Sep 2020
    चेन्नई में मौसम अधिकांश समय गर्म रहेगा

    पूरे सप्ताह आंशिक बादलों के बीच चेन्नई में मौसम अधिकांश समय गर्म और आर्द्र रहेगा। हालांकि अधिकांश दिनों में शाम और रात के समय हल्की से मध्यम बारिश होने की उम्मीद है। अधिकतम और न्यूनतम तापमान क्रमशः 36 डिग्री और 27 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहेगा।

    00:30 (IST)02 Sep 2020
    गुजरात में होगी भारी बारिश

    गुजरात के मौसम विभाग ने अगले दो दिनों तक राज्य में भारी से भीषण बारिश का अनुमान जताया है। उत्तर गुजरात, दक्षिण गुजरात और सौराष्ट्र के साथ कच्छ के कुछ हिस्सों में अत्यधिक वर्षा का अनुमान है।

    22:09 (IST)01 Sep 2020
    बाड़मेर व जैसलमेर में भारी बारिश की चेतावनी

    मौसम विभाग ने सरहदी बाड़मेर व जैसलमेर में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। जैसलमेर में कल रात से बारिश हो रही है। अब तक 5 इंच पानी बरस चुका है। पूरे जैसलमेर में हो रही बारिश के कारण कई बरसाती नदी-नालों में उफान आ गया है।

    20:29 (IST)01 Sep 2020
    हरियाणा: बुधवार को बारिश के आसार

    मौसम विभाग के मुताबिक सूबे में मौसम परिवर्तनशील बना हुआ है और बुधवार को राज्य में बारिश के आसार हैं। मौसम जानकार का कहना है कि एक सितंबर से तीन सितंबर तक राज्य के अलग-अलग हिस्सों में गरज चमक और हवाओं के साथ बारिश के आसार हैं।

    19:01 (IST)01 Sep 2020
    महाराष्ट्र: बाढ़ के खतरे के बीच 53 हजार लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया

    महाराष्ट्र के नागपुर, भंडारा,चंद्रापुर और गढ़चिरौली जिले से 53 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। भारी बारिश के चलते इन जिलों में बाढ़ का खतरा बढ़ गया था। आधिकारियों ने इस बात की जानकारी दी।

    18:50 (IST)01 Sep 2020
    अगस्त में इस साल 27 प्रतिशत अधिक बारिश हुई

    देश में इस साल अगस्त में सामान्य से 27 प्रतिशत अधिक बारिश हुई है। पिछले 120 साल में चौथी बार सर्वाधिक बारिश दर्ज की गई है।भारत मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि देश में एक जून से 31 अगस्त के बीच सामान्य से 10 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की गई।विभाग के राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केन्द्र के वैज्ञानिक आर. के. जेनामणि ने कहा, ‘‘ अगस्त में सामान्य से 27 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की गई।’’जेनामणि ने कहा, ‘‘ अगस्त 2020 में दर्ज बारिश, पिछले 44 साल में सर्वाधिक है। वहीं, पिछले 120 साल में चौथी बार सर्वाधिक बारिश दर्ज की गई है।’’ अगस्त 1926 में सामान्य से 33 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की गई थी, जो अभी तक की सर्वाधिक है। इसके बाद अगस्त 1976 में सामान्य से 28.4 प्रतिशत अधिक, अगस्त 1973 में 27.8 प्रतिशत अधिक और इस साल सामान्य से 27 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की गई है।‘स्काईमेट वेदर’ के उपाध्यक्ष महेश पलवत ने कहा कि अगस्त में बंगाल की खाड़ी में पांच निम्न दबाव क्षेत्र बनने के कारण इस महीने इतनी अधिक बारिश हुई है। पिछले महीने कई स्थानों पर लगातार बारिश की वजह से बाढ़ की स्थिति भी उत्पन्न हो गई।

    16:54 (IST)01 Sep 2020
    झारखंड के कुछ हिस्सों में बारिश के आसार

    मौसम विभाग के मुताबिक झारखंड के कुछ हिस्सों में बारिश के आसार हैं। धनबाद और बोकारो समेत कई जिलों में बारिश के आसार हैं।

    15:46 (IST)01 Sep 2020
    यूपी: गोरखपुर के मौसम का हाल जानिए

    गोरखपुर में लगातार मौसम का मिजाज बदल रहा है। कभी धूप तो कभी छांव। जिले में कहीं बरसात हो रही है तो कहीं धूप हो रहा है। ऐसे में आने वाले दो तीनों में हल्‍की बारिश का अनुमान है जिससे उमत तो कुछ कम होगी लेकिन गर्मी से निजात नहीं मिलेगी। गोरखपुर में मंगलवार व बुधवार को हल्‍की बारिश का अनुमान है।

    14:42 (IST)01 Sep 2020
    दिल्ली में वायु गुणवत्ता ‘अच्छी’ श्रेणी में पहुंची

    राष्ट्रीय राजधानी में मंगलवार सुबह वायु गुणवत्ता ‘अच्छी’ श्रेणी में दर्ज की गई और विशेषज्ञ इसके पीछे की वजह हवा की अनुकूल स्थित और पिछले महीने हुई अच्छी बारिश बता रहे हैं। शहर में वायु गुणवत्ता सूचकांक सुबह नौ बजे 48 दर्ज की गई। वायु सूचकांक 0-50 के बीच सुरक्षित माना जाता है। इसके बाद 51-100 संतोषजनक, 101-200 के बीच मध्यम, 201-300 के बीच खराब, 301-400 के बीच बेहद खराब और 401-500 के बीच गंभीर श्रेणी में माना जाता है। वायु गुणवत्ता को 500 से ऊपर न केवल गंभीर वाला बल्कि आपात स्थिति वाला माना जाता है। सोमवार को हवा की गुणवत्ता का औसत स्तर 24 घंटे में 41 रहा और यह केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से 2015 से दर्ज किए जा रहे गुणवत्ता रिकॉर्ड में अब तक का सबसे कम है। इस साल वायु गुणवत्ता के ‘अच्छी’ श्रेणी में होने का यह पांचवां दिन है। वायु गुणवत्ता 28 मार्च, 13 अगस्त, 20 अगस्त और 24 अगस्त को क्रमश: 45,50,50 और 45 दर्ज किया गया। वायु गुणवत्ता सूचकांक अगस्त महीने में ज्यादातर दिन 50 से 70 के बीच बना रहा।

    13:47 (IST)01 Sep 2020
    गुजरात के मौसम का हाल जानिए

    गुजरात के मौसम विभाग ने अगले दो दिनों तक राज्य में भारी से भीषण बारिश का अनुमान जताया है। उत्तर गुजरात, दक्षिण गुजरात और सौराष्ट्र के साथ कच्छ के कुछ हिस्सों में अत्यधिक वर्षा का अनुमान है।

    11:52 (IST)01 Sep 2020
    चेन्नई के मौसम का हाल जानिए

    आमतौर पर पूरे सप्ताह आंशिक बादलों के बीच चेन्नई में मौसम अधिकांश समय गर्म और आर्द्र रहेगा। हालांकि अधिकांश दिनों में शाम और रात के समय हल्की से मध्यम बारिश होने की उम्मीद है। अधिकतम और न्यूनतम तापमान क्रमशः 36 डिग्री और 27 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहेगा।

    11:15 (IST)01 Sep 2020
    दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में लोगों को पूरे सप्ताह मिलेगी गर्मी और उमस से राहत

    राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और इसके आसपा के क्षेत्रों में मौसम पिछले एक सप्ताह से सुहाना बना हुआ है। मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि अगले कई दिन दिल्ली में ऐसा ही मौसम बना रहेगा। संभावना है कि रोजाना आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे और बारिश होने की संभावना भी बरकरार रहेगी। मौसम विभाग के अनुसार पूरे सप्ताह ही दिल्ली के साथ-साथ एनसीआर के शहरों का भी मौसम ऐसा ही बना रहेगा। अधिकतम और न्यूनतम तापमान कमोबेश ऐसा ही बना रहेगा, लोगों को उमस और गर्मी से राहत मिलती रहेगी।

    10:15 (IST)01 Sep 2020
    गुजरात-राजस्थान में बारिश का अलर्ट, मध्य प्रदेश में भी बारिश का अनुमान

    गुजरात व राजस्थान में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। मध्य प्रदेश में भी कुछ जगहों पर भारी बारिश हो सकती है। स्काईमेट वेदर की रिपोर्ट के अनुसार, मध्य भारत के इलाकों में अब बारिश में कमी आएगी और मौसम साफ बना रहेगा, जिससे बाढ़ प्रभावित एमपी में राहत मिल सकती है। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल और हरियाणा में भी कुछ इलाकों में आज बारिश हो सकती है।

    09:09 (IST)01 Sep 2020
    दिल्ली में कब कितनी बारिश, जानिए

    दिल्ली में पिछले साल अगस्त में 119.6 मिमी और 2018 में 206.5 मिमी बारिश हुई थी। वहीं 2017 में 152.2 मिमी और 2016 में 122.1 मिमी बारिश दर्ज की गई थी। 2015 और 2014 में अगस्त में क्रमश: 195.4 मिमी और 139.1 मिमी बारिश दर्ज की गई थी। 2013 अगस्त में 321.4 मिमी बारिश हुई थी। इस साल, एक जून से मानसून की शुरुआत से सामान्य तौर पर होने वाली 521.8 मिमी बारिश की तुलना में अभी तक 555 मिमी बारिश दर्ज की गई है।

    08:26 (IST)01 Sep 2020
    अगस्त में 47 वर्षों के बाद देश ने इतनी ज़्यादा बारिश, इन राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट

    देश के ज़्यादातर हिस्सों में साल जोरदार बारिश हुई। मॉनसून के चार महीनों में सबसे अधिक वर्षा वाले माह अगस्त में 26.6% अधिक वर्षा दर्ज की गई। अगस्त में 47 वर्षों के बाद देश ने इतनी ज़्यादा बारिश देखी है। इससे पहले वर्ष 1973 में सामान्य से 27% अधिक वर्षा अगस्त में दर्ज की गई थी।

    06:18 (IST)01 Sep 2020
    पूर्वोत्तर के कई हिस्सों में अगले तीन दिन भारी बारिश

    भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने सोमवार को उत्तर और दक्षिण भारत के साथ ही पूर्वोत्तर के कई हिस्सों में अगले तीन दिन के लिए भारी बारिश का पूर्वानुमान जताया है।

    05:35 (IST)01 Sep 2020
    पश्चिमी राजस्थान के दूर-दराज के इलाकों में मंगलवार को भारी से बहुत भारी बारिश होने का अनुमान

    मौसम विभाग ने कहा है कि पश्चिमी राजस्थान के दूर-दराज के इलाकों में मंगलवार को भारी से बहुत भारी बारिश होने का अनुमान है।साथ ही मौसम विभाग ने कहा कि देश में अगस्त के महीने में पिछले 44 साल में सबसे अधिक बारिश दर्ज की गई।

    04:29 (IST)01 Sep 2020
    महाराष्ट्र के विदर्भ के कई इलाकों में बाढ़

    मध्यप्रदेश में हुई भारी बारिश के कारण इससे लगे महाराष्ट्र के विदर्भ के कई इलाकों में बाढ़ आ गई है। विदर्भ के बाढ़ प्रभावित भंडारा और चंद्रपुर जिले से तीन हजार से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।

    03:04 (IST)01 Sep 2020
    44 साल बाद मौसम तोड़ेगा रिकॉर्ड

    44 साल बाद इस वर्ष मौसम अपने सारे रिकॉर्ड तोड़ने को तैयार है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक इस बार ठंड भी जल्द दस्तक देगी और पूरे सितंबर माह तक झमाझम होने की संभावना है। देशभर में अगस्त में अधिक वर्षा, हवा की दिशा में परिवर्तन और समुद्र की सतह का पानी ठंडा होना ला नीना के असर का संकेत कर रहे हैं। 

    01:52 (IST)01 Sep 2020
    अगस्त में औसत से 33.7% अधिक वर्षा हुई

    पिछले 100 वर्षों में अगस्त महीने में सबसे ज़्यादा बारिश 1926 में रिकॉर्ड की गई थी जब औसत से 33.7% अधिक वर्षा हुई थी। उसके बाद से 10 ऐसे अवसर रहे हैं जब सामान्य से 20% अधिक बारिश हुई है।

    23:19 (IST)31 Aug 2020
    बारिश से खरीफ की फसलों में रिकॉर्ड बढ़ोतरी का अनुमान

    मौसम विभाग के अनुसार मध्य भारत श्रेणी वाले इस हिस्से में अगस्त महीने में अब तक सबसे अधिक 482.8 मिमि बारिश दर्ज की गई है। बारिश में यह बढ़ोतरी जुलाई में मानसून के कमजोर रहने के बाद देखने को मिली है। बारिश से खरीफ की फसलों में रिकॉर्ड बढ़ोतरी का अनुमान लगाया जा रहा है। हालांकि मध्य भारत के कुछ हिस्सों विशेष कर मध्य प्रदेश में भारी बारिश के कारण बाढ़ का सामना करना पड़ा है, जो चिंता का विषय है। इन इलाकों में तिलहन और दाल का उत्पादन महत्वपूर्ण है।

    22:17 (IST)31 Aug 2020
    बाड़मेर व जैसलमेर में भारी बारिश की चेतावनी जारी

    मौसम विभाग ने सरहदी बाड़मेर व जैसलमेर में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। जैसलमेर में कल रात से बारिश हो रही है। अब तक 5 इंच पानी बरस चुका है। पूरे जैसलमेर में हो रही बारिश के कारण कई बरसाती नदी-नालों में उफान आ गया है।

    21:44 (IST)31 Aug 2020
    अगस्त की वर्षा ने पिछले 44 साल का रिकॉर्ड तोड़ा

    मौसम विज्ञानी सुनील पांडेय ने बताया कि अगस्त की वर्षा ने पिछले 44 साल का रिकॉर्ड तोड़ा है, जबकि हवा में 3 दिन से ठंडक महसूस हो रही है। इससे ला नीना के सक्रिय होने की पूरी संभावना है। इसका असर इंडोनेशियाई क्षेत्र, मैक्सिको की खाड़ी, दक्षिणी अमेरिका समेत कई द्वीप पर पड़ेगा। 

    21:04 (IST)31 Aug 2020
    इस बार ठंड भी जल्द दस्तक देगी

    44 साल बाद इस वर्ष मौसम अपने सारे रिकॉर्ड तोड़ने को तैयार है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक इस बार ठंड भी जल्द दस्तक देगी और पूरे सितंबर माह तक झमाझम होने की संभावना है। देशभर में अगस्त में अधिक वर्षा, हवा की दिशा में परिवर्तन और समुद्र की सतह का पानी ठंडा होना ला नीना के असर का संकेत कर रहे हैं। 

    20:28 (IST)31 Aug 2020
    100 वर्षों में अगस्त महीने में सबसे ज़्यादा बारिश 1926 में हुई थी

    पिछले 100 वर्षों में अगस्त महीने में सबसे ज़्यादा बारिश 1926 में रिकॉर्ड की गई थी जब औसत से 33.7% अधिक वर्षा हुई थी। उसके बाद से 10 ऐसे अवसर रहे हैं जब सामान्य से 20% अधिक बारिश हुई है।

    19:51 (IST)31 Aug 2020
    सुबह से ही निकली धूप के चलते लोग गर्मी से बेहाल रहे

    मैनपुरी में दो दिनों तक मौसम के तेवर ठंडे रहने के बाद सोमवार को एक बार फिर गर्मी बढ़ गई। सुबह से ही निकली धूप के चलते लोग गर्मी से बेहाल रहे। अधिकतम तापमान भी बढ़कर 33 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया।

    19:13 (IST)31 Aug 2020
    प्रतापनगर में दो एमएम बारिश दर्ज की गई

    सोमवार को सुबह में धूप निकलने के साथ ही आसमान में काली घटा छा गई। पानीपथ जिलेे के कुछ क्षेत्रों में बारिश भी हुई। प्रतापनगर में दो एमएम बारिश दर्ज की गई। बारिश होने से तापमान में आई गिरावट से लोगों को गर्मी और उमस से राहत मिली। जिले में न्यूनतम तापमान 26 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। 

    18:34 (IST)31 Aug 2020
    पानीपथ में अधिकतर समय बादल छाए रहने से मौसम खुशगवार बना रहा

    सोमवार को पानीपथ में अधिकतर समय बादल छाए रहने से मौसम खुशगवार बना रहा। दिन में कुछ देर के लिए धूप भी निकली लेकिन, फिर बादल छा गए। बादलों की लुकाछिपी से तापमान में गिरावट है।

    17:59 (IST)31 Aug 2020
    हरियाणा में सामान्य से सिर्फ 2 फीसद बरसात कम हुई

    हरियाणा में औसत के अनुसार अब तक मानसून लगभग सामान्य रहा है। यहां सामान्य से सिर्फ 2 फीसद बरसात कम हुई है, मगर रेवाड़ी, महेंद्रगढ़, भिवानी, रोहतक व पंचकूला ऐसे जिले हैं जहां सबसे कम पानी बरसा है। प्रदेश के 11 जिलों में सामान्य से कम व 11 जिलों में सामान्य से अधिक बरसात हुई है।

    17:35 (IST)31 Aug 2020
    बिहार में जून व जुलाई में सामान्‍य से ज्‍यादा बारिश

    दक्षिण-पश्चिम मानसून के कमजोर पड़ने से राज्य के कई स्‍थानों का मौसम शुष्क हो गया है। पटना सहित कुछ जिलों में हल्‍के बादल है। जिसके कारण धूप-छांव की लुकाछुपी चल रही है। इसकी वजह से राज्य के अधिकांश इलाकों में बारिश नहीं हो रही। इससे किसानों की परेशानी बढ़ रही है। 

    16:36 (IST)31 Aug 2020
    उत्तराखंड में मौसम ने बदली करवट

    उत्तराखंड में मौसम करवट बदल रहा है। मौसम विभाग के अनुसार फिलहाल मौसम का मिजाज भले ही नरम हो, लेकिन दो सितंबर से बारिश में तेजी आने की संभावना है। इस बीच भूस्खलन से सड़कों के बाधित होने का क्रम बना हुआ है। वहीं पिथौरागढ़ में पहाड़ी से गिरे पत्थर की चपेट में आकर एक ग्रामीण की मौत हो गई।

    16:04 (IST)31 Aug 2020
    मसूरी-देहरादून हाइवे भूस्खलन होने से बाधित

    मसूरी-देहरादून हाइवे बीती देर रात से चूनाखाल के समीप ग्‍लोगी पॉवर हाउस के उपर लगातार भूस्खलन होने से बाधित है। पीडब्‍ल्‍यूडी के जेई पुष्पेंद्र कुमार ने बताया कि लगातार मलबा गिरने से लेबर काम नहीं कर पा रहे हैं। 

    14:41 (IST)31 Aug 2020
    मणिपुर में भी आज भारी बारिश का अनुमान

    मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, उत्तर पूर्वी राज्य मणिपुर में भी आज भारी बारिश का अनुमान है। बंगाल की खाड़ी में बन रहे चक्रवाती तूफान से दक्षिण भारत के राज्यों में बारिश का अनुमान है।

    12:54 (IST)31 Aug 2020
    उत्तर प्रदेश के अनेक हिस्सों में मानसून पकड़ सकता है जोर

    उत्तर प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में पिछले करीब एक पखवाड़े से सुस्त मानसून के जल्द जोर पकड़ने की संभावना है। आंचलिक मौसम केंद्र की रिपोर्ट के मुताबिक राज्य में पिछले 24 घंटों के दौरान कुछ स्थानों पर बारिश हुई। इस अवधि में मुरादाबाद में तीन सेंटीमीटर तथा महरौनी, सोरांव एवं झांसी में दो-दो सेंटीमीटर वर्षा रिकॉर्ड की गई। मौसम केंद्र के अनुसार अगले 24 घंटों के दौरान राज्य में कुछ स्थानों पर बारिश होने की संभावना है। यह सिलसिला एक सितंबर तक जारी रहने का अनुमान है। मगर दो सितंबर से मौसम बदलने और राज्य के अनेक इलाकों में वर्षा होने की संभावना है।

    12:11 (IST)31 Aug 2020
    119 सालों के बाद अगस्त माह में हुई सबसे ज्यादा बारिश

    मौसम विभाग के अनुसार मानसून ने अगस्त में जबरदस्त वापसी की है। विभाग के अनुसार साल 1901 के बाद इस बार अगस्त में सबसे अधिक बारिश हुई है। अगस्त में 26 फीसदी अधिक बारिश होने का अनुमान है। मध्य भारत के राज्यों जैसे महाराष्ट्र, गुजरात और मध्यप्रदेश में पहले ही अधिक बारिश हो रही है। मौसम विभाग के अनुसार मध्य भारत श्रेणी वाले इस हिस्से में अगस्त महीने में अब तक सबसे अधिक 482.8 मिमि बारिश दर्ज की गई है। बारिश में यह बढ़ोतरी जुलाई में मानसून के कमजोर रहने के बाद देखने को मिली है। बारिश से खरीफ की फसलों में रिकॉर्ड बढ़ोतरी का अनुमान लगाया जा रहा है। हालांकि मध्य भारत के कुछ हिस्सों विशेष कर मध्य प्रदेश में भारी बारिश के कारण बाढ़ का सामना करना पड़ा है, जो चिंता का विषय है। इन इलाकों में तिलहन और दाल का उत्पादन महत्वपूर्ण है।

    10:36 (IST)31 Aug 2020
    एमपी में भारी बारिश और बाढ़ के चलते 10 लोगों की मौत

    पिछले दो दिन से हो रही भारी बारिश से मध्य प्रदेश में अब तक कुल 10 लोगों की मौत हो गई है। इनमें से छह लोगों की मौत शनिवार को हुई, जिनमें से चार की मौत कटनी में और दो की छतरपुर में हुई, जबकि रायसेन, सीहोर एवं भोपाल में चार लोगों की मौत की पुष्टि रविवार को हुई है। प्रदेश के बाढ़ प्रभावित 12 जिलों के 454 गाँवों से लगभग 11,000 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है।

    10:26 (IST)31 Aug 2020
    गुजरात में मंगलवार तक भारी बारिश का अनुमान

    भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने मंगलवार तक कई जिलों में अलग-अलग स्थानों पर अत्यधिक बारिश के साथ भारी से बहुत भारी बारिश का पूर्वानुमान जताया है। रविवार की सुबह से, पंचमहाल, राजकोट, बनासकांठा, वडोदरा, बोटाद, अहमदाबाद और कुछ अन्य जिलों में भारी बारिश हुई, जिससे आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया और कई नदियों और झीलों में पानी बढ़ गया। अधिकारियों ने बताया कि दोपहर में, नर्मदा जिले के सरदार सरोवर बांध को इसके जलग्रहण क्षेत्रों में भारी वर्षा के कारण 10 लाख क्यूसेक (क्यूबिक फुट प्रति सेकंड) से अधिक पानी मिला। इसमें से करीब 8.4 लाख क्यूसेक पानी नर्मदा नदी में छोड़ा गया जिससे नर्मदा और भरूच जिलों में निचले इलाकों में बाढ़ आ गई।

    10:14 (IST)31 Aug 2020
    गुजरात में भारी वर्षा, नर्मदा नदी किनारे से 2000 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया

    गुजरात के विभिन्न हिस्सों में रविवार को भारी वर्षा होने से भरूच सहित कई इलाकों में बाढ़ जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई। सरदार सरोवर बांध से पानी छोड़े जाने के चलते भरूच में नर्मदा नदी के किनारे के क्षेत्रों में पानी भर गया जिसके चलते वहां से 2000 से अधिक लोगों को निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाना पड़ा। यह जानकारी अधिकारियों ने दी।

    09:50 (IST)31 Aug 2020
    एमपी में बाढ़ के चलते तीन लोगों की मौत

    मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हेलीकॉप्टर से निरीक्षण किया और होशंगाबाद, सीहोर, रायसेन, देवास, हरदा तथा विदिशा जिलों के जलमग्न क्षेत्रों का निरीक्षण किया। मुख्यमंत्री चौहान के प्रमुख सचिव मनीष रस्तोगी ने बताया कि बाढ़ से जुडी घटनाओं में रविवार को तीन लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। इनमें से दो लोगों की मौत रायसेन जिले में उफनते हुए नालों को पार करते समय हुई है, जबकि एक व्यक्ति की सीहोर जिले में मकान ढहने से मृत्यु हो गई। वहीं, भोपाल नगर निगम के एक अधिकारी ने बताया कि कोलार पुलिस थाना इलाके में एक परिसर की दीवार झोपड़ी में गिरने से रविवार शाम को 30 साल के एक व्यक्ति की मौत हो गई।

    08:37 (IST)31 Aug 2020
    बाढ़ से कटक जिले में कई सड़कें पानी में डूबी, परिवहन हुआ प्रभावित

    ओडिशा की महानदी में आयी बाढ़ से कटक जिले के बांकी क्षेत्र में गांवों में पानी भर गया और सड़क सम्पर्क प्रभावित हुआ। मुख्य सचिव ए के त्रिपाठी ने बताया कि मुख्यमंत्री नवीन पटनायक सोमवार को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करेंगे और स्थिति को लेकर वरिष्ठ अधिकारियों के साथ एक बैठक करेंगे। त्रिपाठी ने कहा कि मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार राहत एवं बचाव के लिए सभी इंतजाम कर लिये गए हैं और बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में पर्याप्त संख्या में एनडीआरएफ, ओडीआरएएफ और दमकल कर्मियों की टीमों को तैनात किया गया है।

    08:36 (IST)31 Aug 2020
    दिल्ली में टूटा बारिश का सात साल पुराना रिकॉर्ड

    दिल्ली में इस साल अगस्त माह में रिकॉर्ड 236.5 मिलीमीटर बारिश हुई है, जो कि बीते सात सालों में सबसे ज्यादा है। इससे पहले अगस्त 2013 में 321.4 मिलीमीटर बारिश हुई थी। वहीं 2014 और 2015 में यह आंकड़ा 139.1 और 195.4 मिलीमीटर ही रहा था।

    08:32 (IST)31 Aug 2020
    महानदी में बाढ़ के पानी से ओडिशा के कई गांव जलमग्न

    तटीय ओडिशा में कई गांव रविवार को महानदी के बाढ़ के पानी से घिर गए। कटक के पास मुंदाली बैराज से 10 लाख क्यूसेक पानी का प्रवाह होने से यह स्थिति पैदा हुई। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। एक क्यूसेक जल प्रवाह की इकाई (मात्रा) है। इसका अर्थ है प्रति सेकंड 28.317 लीटर का प्रवाह। इस तरह 10 लाख क्यूसेक का अर्थ हुआ प्रति सेकंड 28,300,000 लीटर पानी का प्रवाह। विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) पी के जेना ने कहा कि मुंदाली में सात लाख क्यूसेक (19,821,900 लीटर प्रति सेकंड) के प्रवाह से भी आमतौर पर महानदी की दो सहायक नदियों दया और भार्गवी में बाढ़ आ जाती है। उन्होंने कहा कि बाढ़ के पानी से पुरी जिले में कनासा और डेलांग ब्लॉक के कई गांव जलमग्न हो गए हैं। साथ ही डाया के दो तटबंध और खुरदा जिले के राजुआ में एक और तटबंध टूट गया है। उन्होंने कहा कि बाढ़ का पानी कम होने के तत्काल बाद तटबंधों की मरम्मत करायी जाएगी।

    Next Stories
    1 फर्नीचर दुकान चलाने वाले 22 साल के युवक ने दिया था पुलवामा हमले को अंजाम, जानें कैसे हुई थी हमले की प्लानिंग
    2 अब सीधे मेट्रो से जुड़ेगा नई दिल्ली रेलवे स्टेशन, हवाईअड्डा पहुंचने के लिए कम होगी मुसीबत
    3 MP: लोकार्पण से पहले ही बह गया तीन करोड़ की लागत से बना पुल
    IPL 2020 LIVE
    X