ताज़ा खबर
 

राजस्थान के माउंट आबू में पारा 2.2 डिग्री तक गिरा, मैदानी इलाकों में शीतलहर जारी

राष्ट्रीय राजधानी में शनिवार को वायु गुणवत्ता में कुछ सुधार दिखा। गुणवत्ता ‘बेहद खराब’ से ‘मध्यम’ श्रेणी में पहुंच गई। वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) शनिवार सुबह नौ बजकर 45 मिनट पर 179 रहा, जबकि शुक्रवार सुबह यह 316 रहा था। एक्यूआई गाजियाबाद में 264, ग्रेटर नोएडा में 241, नोएडा में 254 और गुड़गांव में 165 दर्ज किया गया।

देश के कई हिस्सों में पारा लुढ़का।

राजस्थान में सर्दी का दौर जारी है जहां शुक्रवार रात माउंट आबू में न्यूनतम तापमान 2.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं मैदानी इलाकों में सीकर में कल रात न्यूनतम चार डिग्री सेल्सियस व चूरू में छह डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।मौसम विभाग के अनुसार रात का न्यूनतम तापमान श्रीगंगानगर में 6.4 डिग्री सेल्सियस, इसके बाद पिलानी में 7.3, वनस्थली में 8.3, अजमेर में 8.5, भीलवाड़ा में 8.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

राष्ट्रीय राजधानी में शनिवार को वायु गुणवत्ता में कुछ सुधार दिखा। गुणवत्ता ‘बेहद खराब’ से ‘मध्यम’ श्रेणी में पहुंच गई। वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) शनिवार सुबह नौ बजकर 45 मिनट पर 179 रहा, जबकि शुक्रवार सुबह यह 316 रहा था।
एक्यूआई गाजियाबाद में 264, ग्रेटर नोएडा में 241, नोएडा में 254 और गुड़गांव में 165 दर्ज किया गया। वायु गुणवत्ता सूचकांक 0-50 श्रेणी में ‘खराब’, 51-100 में ‘संतोषजनक’, 101-300 में ‘मध्यम’, 201-300 में ‘खराब’, 301-400 में ‘बेहद खराब’ और 401-500 में ‘गंभीर’ माना जाता है। वहीं 500 से ऊपर के एक्यूआई को ‘अति गंभीर’ श्रेणी में माना जाता है। मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार शनिवार को अधिकतम तापमान सामान्य से दो डिग्री कम 12 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
इस बीच दिल्ली एनसीआर में रात में ठिठुरन बढ़ गई है।

यूपी का हाल: बीती रात यूपी के कई हिस्सों में जोरदार बारिश हुई। मौसम अधिकारी की माने तो बागपत, शामली, मुजफ्फरनगर में आज भी गरज के साथ तेज़ हवा चलने और बारिश होने की संभावना है। इसके साथ ही बिजनौर, मुरादाबाद, मेरठ, हापुड़, अमरोहा, कासगंज, प्रयागराज, संत रविदास नगर, मिर्जापुर, जौनपुर, बाराबंकी, गोंडा, बरेली, पीलीभीत जिलों और आसपास के क्षेत्रों में भी बारिश का अनुमान है।

शिमला मौसम विज्ञान विभाग केंद्र के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि राज्य में शुक्रवार शाम साढ़े पांच बजे से शनिवार सुबह साढ़े आठ बजे तक सबसे अधिक बर्फबारी डलहौजी 60 सेमी में हुई। इसके बाद कुफरी में 20 सेमी, मनाली में 10 सेमी और शिमला में आठ सेमी बर्फबारी हुई। उन्होंने बताया कि लाहौल-स्पीति के प्रशासनिक केंद्र कीलोंग और किन्नौर के कल्पा में भी इस दौरान 13 सेमी बर्फबारी हुई। इस बीच, रातभर भारी बारिश और बर्फबारी के कारण राज्य विधानसभा की कार्यवाही शनिवार को पूर्वाह्न 11 बजे की बजाय पूर्वाह्न साढ़े 11 बजे शुरू हुई क्योंकि कुछ विधायक यहां तपोवन में विधानसभा परिसर समय पर नहीं पहुंच सके।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश करेंगे हैदराबाद मुठभेड़ की जांच
2 पासपोर्ट पर छपेगा कमल फूल, विदेश मंत्रालय ने दी दलील- राष्ट्रीय पुष्प है, अन्य प्रतीक भी छपेंगे
3 संस्कृत बोलने से कंट्रोल में रहता है शुगर, कोलेस्ट्रॉल- संसद में बोले भाजपा सांसद
ये पढ़ा क्या?
X
Testing git commit