ताज़ा खबर
 

पीएम मोदी 22 मई को पश्चिम बंगाल के दौरे पर जाएंगे, सीएम ममता के साथ प्रभावित इलाकों का लेंगे जायजा

हवा इतनी तेज थी कि बड़ी संख्या में पेड़, बिजली के खंभे, लैंपपोस्ट, टेलीफोन टावर, ट्रैफिक सिग्नल उखड़ गए। कच्चे मकानों, पुरानी पक्की इमारतें धराशायी हो गईं।

Cyclone Amphan LIVE Update: तेज हवा और भारी बारिश के कारण भारी नुकसान हुआ है। (AP)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को चक्रवात अम्फान से बुरी तरह से प्रभावित पश्चिम बंगाल का दौरा करेंगे। दौरे पर पीएम मोदी मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ प्रभावित इलाकों का जायजा लेंगे। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्रभावित जिलों का दौरा करने और तबाह हो गए इलाकों के पुनर्निर्माण के लिए सहायता देने का आग्रह किया था। पश्चिम बंगाल में प्रचंड चक्रवात ‘अम्फान’ से 72 लोगों की मौत हो गई और दो जिलों में भीषण तबाही हुई है। तूफान से हजारों लोग बेघर हो गए हैं, कई पुल नष्ट हो गए हैं और निचले इलाके जलमग्न हो गए हैं। कोलकाता और राज्य के कई अन्य हिस्सों में तबाही के निशान स्पष्ट देखे जा सकते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि चक्रवात से प्रभावित लोगों की मदद के लिए कोई कोर कसर बाकी नहीं छोड़ी जाएगी। पश्चिम बंगाल में सौ साल के अंतराल में आए इस भीषणतम चक्रवाती तूफान ने मिट्टी के घरों को ताश के पत्तों की तरह उड़ा दिया, फसलों को नष्ट कर दिया और पेड़ों तथा बिजली के खंभों को भी उखाड़ फेंका है। इसने ओडिशा में भी भारी तबाही मचाई है।

Coronavirus Live update: यहां पढ़ें कोरोना वायरस से जुड़ी सभी लाइव अपडेट….

सीएम ममता ने प्रत्येक मृतक के परिवार के सदस्यों के लिए दो से ढाई लाख रुपये के मुआवजे की भी घोषणा की। इससे पहले बंगाल की खाड़ी में उठे अत्यधिक प्रचंड चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ कोलकाता तथा पश्चिम बंगाल के कई हिस्सों में भारी तबाही मचाई है। अम्फान 190 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बुधवार दोपहर करीब 2.30 बजे बंगाल के दीघा और बांग्लादेश के हातिया के बीच कहर बरपाता हुआ तट से टकरा गया। हवा इतनी तेज थी कि बड़ी संख्या में पेड़, बिजली के खंभे, लैंपपोस्ट, टेलीफोन टावर, ट्रैफिक सिग्नल उखड़ गए। कच्चे मकानों, पुरानी पक्की इमारतें धराशायी हो गईं।

 

Live Blog

Highlights

    23:32 (IST)21 May 2020
    तूफान में आपदा की स्थिति को मुश्किल बना देगा कोरोना

    राज्य के एक सरकारी अस्पताल के एक डॉक्टर ने नाम उजागर न करने की शर्त पर कहा, ‘‘राज्य में जिस तरह कोरोना वायरस के मामले बढ़ रहे हैं, उसे देखते हुए तूफान से आपदा की स्थिति उत्पन्न हो जाएगी। इन आश्रय केंद्रों और शिविरों में से अधिकतर में देह से दूरी के नियम के पालन की कोई गुंजाइश नहीं है। संक्रमण का स्तर क्या होगा, आप कल्पना कर सकते हैं।’’ स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि राज्य में आगामी दिनों में कोरोना वायरस के मामले बढ़ने की आशंका है। चक्रवात चीजों को पटरी से उतार देगा।

    22:31 (IST)21 May 2020
    चक्रवात अम्फान: कोलकाता सहित बंगाल के दर्जन भर जिलों में तबाही के दृश्य

    चक्रवात ‘अम्फान’ ने पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता सहित राज्य के आधा दर्जन जिलों में तबाही के दृश्य छोड़े हैं, जहां कई बसें और टैक्सी आपस में टकरा गईं, मछली पकड़ने की छोटी नौकाएं उलट गई और शहर के जलमग्न हो चुके हवाईअड्डे पर विमान हिलते-डुलते दिखे। देश के अन्य राज्यों की तरह पश्चिम बंगाल भी कोरोना वायरस महामारी से निपटने की जद्दोजहद में जुटा हुआ था, लेकिन 190 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से आये चक्रवाती तूफान ने न सिर्फ राजधानी कोलकाता को बल्कि करीब दर्जन भर जिलों को भी झकझोर कर रख दिया।

    21:56 (IST)21 May 2020
    चक्रवात अम्फान से 72 लोगों की मौत, मृतकों के परिजन को दो लाख रुपये का मुआवजा : ममता

    पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बृहस्पतिवार को कहा कि चक्रवात अम्फान के कारण राज्य में कम से कम 72 लोगों की मौत हो गई है।  ममता ने प्रत्येक मृतक के परिवार के सदस्यों के लिए दो लाख रुपये के मुआवजे की भी घोषणा की। उन्होंने कहा, "अब तक हमें मिली रिपोर्ट के अनुसार राज्य में चक्रवात अम्फान के कारण 72 लोगों की मौत हो गयी है। दो जिले- उत्तरी और दक्षिणी 24 परगना पूरी तरह से तबाह हो गए हैं। हमें उन जिलों का फिर से पुनर्निमाण करना होगा। मैं केंद्र सरकार से राज्य को हरसंभव मदद देने का आग्रह करूंगी।’’

    21:27 (IST)21 May 2020
    मेघालय, पश्चिमी असम में 30-40 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से चल सकती है हवा

    विभाग ने बताया कि तूफान के प्रभाव के कारण मेघालय और पश्चिमी असम में अगले 12 घंटे के दौरान 30-40 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चलने की संभावना है। उसने बताया कि असम के पश्चिम जिलों और मेघालय के अधिकतर स्थानों पर हल्की से मध्यम स्तर की बारिश हो सकती है। कुछ स्थानों पर भारी बारिश का भी अनुमान है।

    20:53 (IST)21 May 2020
    उपराष्ट्रपति ने चक्रवाती तूफान में मौतों पर जताया शोक

    उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने चक्रवाती तूफान अम्फान के कारण लोगों की मौत पर शोक जताया और समय रहते लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए पश्चिम बंगाल तथा ओडिशा के प्रशासन की सराहना की। उपराष्ट्रपति सचिवालय ने नायडू के हवाले से ट्वीट किया, ‘‘पश्चिम बंगाल तथा ओडिशा में चक्रवात के कारण हुई जानमाल की क्षति तथा सार्वजनिक और निजी संपत्ति व फसलों को हुए व्यापक नुकसान से व्यथित और चिंतित हूं।" नायडू ने समय रहते लाखों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने और प्रभावित इलाकों में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल के सहयोग से बचाव एवं राहत कार्य चलाने के लिए राज्य प्रशासनों की सराहना की। उन्होंने कहा, "जिन परिवारों ने इस आपदा में अपने स्वजनों को खोया है, उनके प्रति मेरी हार्दिक संवेदनाएं।"

    20:31 (IST)21 May 2020
    6 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया

    अधिकारियों के अनुसार चक्रवात आने से पहले पश्चिम बंगाल और ओडिशा में कम-से-कम 6 लाख 58 हजार लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया था। तूफान की रफ्तार से बंगाल के मिदनापुर, दक्षिण 24 परगना, उत्तर 24 परगना, हावड़ा, हुगली और ओडिशा के केंद्रपाड़ा, भद्रक, बालासोर, मयूरभंज, जाजपुर और जगतसिंहपुर सीधे प्रभावित हुए हैं। असम, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, पुडुचेरी, त्रिपुरा, मिजोरम, मणिपुर और जम्मू-कश्मीर में भी तूफान का ऑरेंज अलर्ट है।

    20:18 (IST)21 May 2020
    उत्तर 24 परगना में पेड़ गिरने से दो लोगों की मौत

    अधिकारियों ने बताया कि उत्तर 24 परगना जिले में एक पुरुष और एक महिला के ऊपर पेड़ गिर जाने से उनकी मौत हो गई। इसके अलावा हावड़ा में भी इसी प्रकार की घटना में 13 वर्षीय बच्ची की मौत हो गई। उन्होंने बताया कि करंट लगने के कारण हुगली और उत्तर 24 परगना जिलों में चार लोगों की मौत हो गई। अधिकारियों ने बताया कि कोलकाता के रीजेंट उद्यान क्षेत्र में एक महिला और उसके सात वर्षीय बेटे पर पेड़ गिर जाने से उनकी मौत हो गई जबकि बेहाला इलाके में करंट लगने से दो लोगों की मौत हो गई। उन्होंने बताया कि तूफान के कारण उड़कर आई किसी वस्तु के टकरा जाने से कोलकाता में एक अन्य व्यक्ति की मौत हो गई। पूर्वी मिदनापुर, हावड़ा, उत्तर और दक्षिण 24 परगना जिलों के साथ राज्य की राजधानी तूफान से सबसे अधिक प्रभावित रही।

    19:34 (IST)21 May 2020
    प बंगाल में एनडीआरएफ की अतिरिक्त टीमों की तैनाती

    एनडीआरएफ की ओर से पश्चिम बंगाल में अतिरिक्त टीमों की तैनाती की जा रही है, खासकर कोलकाता में, ताकि आवश्यक सेवाओं की बहाली के काम में तेजी लाई जा सके। इसके साथ ही भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) भी पश्चिम बंगाल में खाद्यान्न, विशेषकर चावल की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करेगा, जिससे तूफान के कारण असहाय महसूस कर रहे लोगों को तत्काल आवश्यक भरण-पोषण प्रदान किया जा सके। विद्युत मंत्रालय और दूरसंचार विभाग भी दोनों राज्यों में सेवाओं की शीघ्र बहाली में मदद करेंगे। बयान में बताया गया है कि इसी तरह रेलवे जल्द से जल्द अपना परिचालन फिर से शुरू करने की प्रक्रिया में है। उसे अपने बुनियादी ढांचे में भारी नुकसान का सामना पड़ा है।

    18:59 (IST)21 May 2020
    अगले 24-48 घंटे में ओडिशा में सामान्य होने लगेगा जनजीवन

    एनडीआरएफ के महानिदेश एसएन प्रधान ने कहा कि चक्रवात का सामना कर रहे राज्यों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक ऐसा लगता है कि ओडिशा के प्रभावित क्षेत्रों में सामान्य स्थिति की ओर जनजीवन के लौटने में 24-48 घंटे लगेंगे, जबकि पश्चिम बंगाल को कहीं अधिक नुकसान पहुंचा है। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में सर्वेक्षण किये जाने पर ही चक्रवात से हुए नुकसान का आकलन हो पाएगा।

    18:31 (IST)21 May 2020
    100 साल में पश्चिम बंगाल में आना वाला सबसे भीषण तूफान

    मौसम विभाग के अधिकारी के मुताबिक, पिछले 100 साल में पश्चिम बंगाल में आने वाला अम्फान सबसे भीषण चक्रवाती तूफान है। इस चक्रवात के दौरान 190 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं जिसने बुधवार को ओडिशा के तट से लेकर पश्चिम बंगाल तक तबाही मचाई और भारी बारिश हुई जिससे घर और खेत पानी में डूब गए।

    18:06 (IST)21 May 2020
    चक्रवात अम्फानः मौसम विभाग के सटीक पूर्वानुमान के कारण जन हानि कम हुई

    राष्ट्रीय संकट प्रंबधन समिति (एनसीएमसी) ने बृहस्पतिवार को चक्रवाती तूफान से बुरी तरह प्रभावित पश्चिम बंगाल और ओडिशा में राहत एवं बचाव अभियान की समीक्षा की, जहां भारतीय मौसम विभाग के सटीक पूर्वानुमान और एनडीआरएफ के जवानों की वक्त पर तैनाती की वजह से न्यूनतम जन हानि हुई। कैबिनेट सचिव राजीव गौबा की अध्यक्षता वाली एनसीएसमी ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा में राज्य तथा केंद्रीय एजेंसियों के साथ चक्रवात अम्फान की स्थिति की समीक्षा की।

    17:27 (IST)21 May 2020
    चक्रवात अम्फान काफी कमजोर हुआ, बांग्लादेश की ओर बढ़ा

    भारतीय मौसम विभाग ने बृहस्पतिवार को कहा कि चक्रवात अम्फान बांग्लादेश की ओर बढ़ गया है। इसने पश्चिम बंगाल में तबाही मचाई है जिसमें कम से कम 12 लोगों की मौत हुई है और झुग्गियां उड़ गई, हजारों पेड़ गिर गए तथा निचले इलाकों में पानी भर गया। विभाग ने कहा कि अगले दो से छह घंटे में चक्रवात गहरे दवाब के क्षेत्र और फिर दबाव के क्षेत्र में बदल जाएगा। यह दो चरण चक्रवात के और कमजोर होने का संकेत देते हैं।

    17:02 (IST)21 May 2020
    पांच लाख लोगों को शेल्टर होम में रहने की हिदायत

    राष्ट्रीय आपदा मोचन बल के महानिदेशक  एस.एन. प्रधान ने कहा कि प. बंगाल के प्रमुख सचिव ने बताया कि पांच लाख लोग जो शेल्टर होम में हैं उन्हें अभी भी शेल्टर में ही रहने की हिदायत दी गई है क्योंकि रास्तों में तारें, पेड़ गिरे हुए हैं और साथ ही उनके घर भी क्षतिग्रस्त हो गए हैं इसके लिए उनका घर जाना सुरक्षित नहीं: 

    16:34 (IST)21 May 2020
    रिकॉर्ड 18 घंटे में श्रेणी-1 से श्रेणी-5 के सुपर साइक्लोनिक तूफान में बदल गया अम्फान

    भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक चक्रवाती तूफान अम्फान रिकॉर्ड 18 घंटे में श्रेणी-1 से श्रेणी-5 के सुपर साइक्लोनिक तूफान में बदल गया। अम्फान बीते 20 वर्षों में पूर्वी तट से टकराने वाला दूसरा सबसे शक्तिशाली तूफान है। इससे पहले 1999 में ओडिशा में आए तुफान ने भारी तबही मचाई थी और इसमें 15 हजार लोगों की जान गई थी।

    14:45 (IST)21 May 2020
    ये इलाके बुरी तरह प्रभावित

    तूफान की रफ्तार से बंगाल के मिदनापुर, दक्षिण 24 परगना, उत्तर 24 परगना, हावड़ा, हुगली और ओडिशा के केंद्रपाड़ा, भद्रक, बालासोर, मयूरभंज, जाजपुर और जगतसिंहपुर सीधे प्रभावित हुए हैं। असम, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, पुडुचेरी, त्रिपुरा, मिजोरम, मणिपुर और जम्मू-कश्मीर में भी तूफान का ऑरेंज अलर्ट है।

    14:25 (IST)21 May 2020
    कोलकाता में सामान्य सेवाएं भी बुरी तरह प्रभावित हुई

    बचाव कार्य रात में 1:30 बजे शुरू हुआ, सरकार ने कहा कि शहर को वापस सामान्य होने में कम से कम 24 घंटे लगेंगे। शहर में कई निचले इलाकों में भी पानी के भरे होने की सूचना मिली है, जिससे कोरोनोवायरस प्रकोप के कारण नागरिकों के लिए जीवन कठिन हो गया है। कोलकाता में सामान्य सेवाएं भी बुरी तरह प्रभावित हुई हैं।

    14:09 (IST)21 May 2020
    मरने वालों की संख्या 24 पहुंची

    अम्फान से पश्चिम बंगाल में 12 लोगों की मौत हो गई। इसका असर पड़ोसी देश बांग्लादेश में भी देखने को मिला। समाचार एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस ने बांग्लादेश में 10 मौतों की सूचना दी है। इसके अलावा ओडिशा में एक जिसमें झोपड़ी की मिट्टी दीवार गिरने से दो लोगों की मौत हो गई। इसी के साथ इस आपदा से मरने वालों की संख्या 24 पहुंच गई है।

    13:52 (IST)21 May 2020
    6 लाख 58 हजार लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया

    अधिकारियों के अनुसार चक्रवात आने से पहले पश्चिम बंगाल और ओडिशा में कम-से-कम 6 लाख 58 हजार लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया था। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि इस महाविनाशकारी तूफान से दक्षिण बंगाल में भारी तबाही हुई है। कम से कम 10 से 12 लोगों की मौत हुई है। नुकसान कितना हुआ इसका अंदाजा लगाने में अभी कुछ दिन लगेंगे।

    13:41 (IST)21 May 2020
    उखड़े हुए पेड़ों से बाधित सड़कों को युद्धस्तर पर साफ किया जा रहा है

    ओडिशा के निचले तटीय इलाकों और कच्चे मकानों में रह रहे 1.41 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। इन लोगों को 2,921 आश्रय स्थलों में रखा गया है जहां उन्हें भोजन और अन्य सुविधाएं मुहैया करायी जा रही हैं। क्षतिग्रस्त इलाकों में उखड़े हुए पेड़ों से बाधित सड़कों को युद्धस्तर पर साफ किया जा रहा है। वहीं अगर बिजली की आपूर्ति बाधित होती है तो उसे जल्द से जल्द बहाल की जाएगी।

    Next Stories
    1 श्रमिक एक्सप्रेस: चिलचिलाती धूप में परिवार संग घंटों खड़े रहे प्रवासी मजदूर, फिर भी नहीं हुई कई की स्क्रीनिंग
    2 लद्दाख में भारत-चीन के बीच और बढ़ी तनातनी, भारतीय जवानों पर चीनी सीमा में घुसपैठ के आरोप, दोनों ने तैनात किए अतिरिक्त जवान