ताज़ा खबर
 

राजधानी के मौसम का हाल: 1.1 डिग्री तापमान के साथ दिल्ली में नए साल की सर्द शुरुआत

पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी से मैदानी इलाकों में गलन भरी ठंड पड़ रही है। उत्तर प्रदेश के अनेक इलाके पिछले 24 घंटे के दौरान जबर्दस्त शीतलहर की चपेट में रहे। लखनऊ दिल्ली से अधिक ठंडा रहा। जहां 0.5 डिग्री तापमान दर्ज किया गया।

Author नई दिल्ली | Updated: January 10, 2021 4:59 AM
crisisठंड से लोग बेहाल। फाइल फोटो।

साल के पहले दिन पहाड़ों पर जमकर हुई बर्फबारी से मैदानों पर भी अच्छी खासी ठंड बढ़ गई है। दिल्ली सहित पूरे उत्तर भारत में ठंड का प्रकोप बढ़ गया है। दिल्ली में 14 साल का रेकार्ड टूट गया और पारा गिरकर 1.1 डिग्री सेल्सियस पर आ गया है। वहीं लद्दाख के द्रास में पारा शून्य से 26.8 डिग्री नीचे गिर गया। देश के कई हिस्सों में ठंड के चलते कोहरे और शीतलहर का असर जारी है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आइएमडी) ने शीतलहर और कोहरे के मद्देनजर उत्तर प्रदेश में चेतावनी जारी की है। वहीं हरियाणा, दिल्ली, पंजाब, मध्य प्रदेश, बिहार, असम, मेघालय, नगालैंड, त्रिपुरा, मिजोरम, मणिपुर में आगे भी कोहरे के आसार हैं।

उत्तर भारत के जम्मू कश्मीर, उत्तराखंड व हिमाचल प्रदेश में साल के पहले दिन जमकर बर्फबारी हुई। इससे जहां सैलानी खुश हुए वहीं स्थानीय बाशिंदों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। नलों में पानी तक जम गया है। वहीं देश के एक बड़े हिस्से में शुक्रवार को घना कोहरा छाया रहा और कई इलाकों में तापमान शून्य डिग्री सेल्सियस से नीचे चला गया। पश्चिम भारत के राजस्थान और देश के मध्य हिस्से मध्य प्रदेश तक में शीत लहर की परिस्थितियां हैं। मौसम विभाग के अधिकारियों ने बताया कि केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के गुलमर्ग में न्यूनतम तापमान शून्य से -9.0 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। वहीं द्रास में तापमान -26.8 डिग्री रहा। यह केंद्र शासित प्रदेश में सबसे ठंडा स्थान रहा।

दूसरी ओर कश्मीर में भी शुक्रवार को ठंड का प्रकोप बढ़ गया और घाटी में कई स्थानों पर न्यूनतम तापमान जमाव बिंदु से नीचे चला गया। कुपवाड़ा में तापमान शून्य से 6.4 डिग्री सेल्सियस नीचे रहा। लद्दाख के द्रास में शून्य से 26.8 डिग्री नीचे, जम्मू कश्मीर की ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर में तापमान शून्य से 5.9 डिग्री सेल्सियस नीचे चला गया है। वहीं काजीगुंड में तापमान शून्य से 5.7 डिग्री सेल्सियस नीचे रहा।

हिमाचल प्रदेश में शुक्रवार को कई स्थानों पर तापमान शून्य डिग्री सेल्सियस से नीचे दर्ज किया गया। लाहौल-स्पीति जिले का प्रशासनिक केंद्र केलोंग -8.4 डिग्री के साथ प्रदेश का सबसे ठंडा स्थान रहा। वहीं कल्पा में न्यूनतम -0.6 डिग्री सेल्सियस तापमान रहा। मनाली और सोलन में क्रमश: शून्य से 1.6 और 0.7 डिग्री सेल्सियस कम तापमान रहा। मौसम वैज्ञानिकों ने तीन से छह जनवरी के बीच प्रदेश के मैदानी इलाकों में बारिश होने और ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी होने का पूर्वानुमान किया है।

उधर, पड़ोसी राज्य पंजाब व हरियाणा में भी हाड़ कंपा देने वाली ठंड से राहत नहीं मिलने जा रही है। दोनों राज्यों के कई हिस्सों में घना कोहरा छाया रहा और हरियाणा में मौसम की सबसे सर्द रात हिसार में दर्ज हुई, जहां तापमान -1.2 सेल्सियस दर्ज किया गया। चंडीगढ़ स्थित मौसम विभाग ने बताया कि पंजाब के भटिंडा में न्यूनतम तापमान शून्य से -0.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि अमृतसर में यह 2.2 और फरीदकोट में -02 डिग्री सेल्सियस रहा।

पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी से मैदानी इलाकों में गलन भरी ठंड पड़ रही है। उत्तर प्रदेश के अनेक इलाके पिछले 24 घंटे के दौरान जबर्दस्त शीतलहर की चपेट में रहे। लखनऊ दिल्ली से अधिक ठंडा रहा। जहां 0.5 डिग्री तापमान दर्ज किया गया। आंचलिक मौसम केंद्र की रिपोर्ट के अनुसार इस अवधि में मेरठ मंडल में दिन के तापमान में खासी गिरावट दर्ज की गई। इसके अलावा आगरा, इलाहाबाद, बरेली व झांसी मंडलों में भी अधिकतम तापमान सामान्य से कम रहे।

राजस्थान में कड़ाके की सर्दी जारी रही और 12 से अधिक जिलों में न्यूनतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री सेल्सियस से नीचे दर्ज किया गया। मध्यप्रदेश के अधिकांश हिस्सों में कड़ाके की ठंड जारी रही, जिससे अगले दो-तीन दिन राहत मिलने की संभावना नहीं है। मौसम विज्ञान विभाग (आइएमडी) भोपाल के वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक जीडी मिश्रा ने बताया कि पिछले 24 घंटे में प्रदेश के धार, ग्वालियर व दतिया जिलों में शीतलहर का प्रभाव रहा।

Next Stories
1 खगोलीय चमत्कारः आज सूरज के सबसे नजदीक होगी पृथ्वी, वर्ष 1246 में सूर्य के सबसे करीब आई थी; अब चार हजार साल बाद 6430 में दिखेगा ऐसा नजारा
2 किसानों ने दी सरकार को चेतावनी, चार को नतीजा न निकला तो उठाएंगे कड़े कदम
3 ‘कोरोना से भी ऊपर हैं जिन्होंने JNU में देश को तोड़ने का नारा लगाया’, Republic TV पर बोले रक्षा विशेषज्ञ
ये पढ़ा क्या?
X