ताज़ा खबर
 

COVID-19 संकटः अप्रैल में इस बार गिरा 3200 करोड़ का राजस्व, लंबे वक्त तक नहीं झेल पाएंगे Lockdown- बोले दिल्ली CM केजरीवाल

दिल्ली सीएम ने आगे कहा- डेढ़ महीना हो गया है। मुझे लगता है कि दिल्ली आज लॉकडाउन खोलने को तैयार है। पूरी दिल्ली रेड जोन में है। हमने केंद्र के सभी दिशा-निर्देश माने। पर दो बड़ी दिक्कतें आईं।

Coronavirus, COVID-19, Arvind Kejriwal, AAP, Delhi, New Delhi, India Newsपत्रकारों को संबोधित करते दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल।

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री और AAP संयोजक ने रविवार को साफ कर दिया कि दिल्ली अब और दिनों तक लॉकडाउन नहीं झेल पाएगी। रेड जोन घोषित की जा चुकी दिल्ली बंद होने के कारण सब कुछ बंद है और ऐसे में इस अप्रैल के महीने में राजस्व महज 300 करोड़ रुपए आया है। हर साल इस राजस्व की रकम 3500 करोड़ रुपए के आसपास हुआ करती थी। यानी इस साल अप्रैल में 3200 करोड़ रुपए के राजस्व का नुकसान हुआ है। मुख्यमंत्री ने ये जानकारी देते हुए कहा कि उनकी सरकार दिल्ली फिर से खोलने के लिए तैयार है, क्योंकि उनके आगे लोगों की तनख्वाएं देने और सरकार चलाने का संकट पनप सकता है।

प्रेस कॉनफ्रेंस में केजरीवाल बोले- दिल्ली सरकार लॉकडाउन के दौरान केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा निर्धारित सभी छूटों को लागू करेगी। दिल्ली सरकार के आवश्यक सेवाएं प्रदान कर रहे दफ्तर समस्त कर्मचारियों के साथ काम करेंगे, निजी कार्यालय 33 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ खुल सकेंगे। मॉल, सिनेमाघर, सैलून, बाजार काम्प्लेक्स, दिल्ली मेट्रो बंद रहेंगे, पर आवश्यक सामग्री वाली दुकानों में बिक्री जारी रहेगी।

Coronavirus in India LIVE Updates

उनके मुताबिक, “ई-कॉमर्स वेबसाइटों के माध्यम से आवश्यक सामान की आपूर्ति जारी रहेगी। सार्वजनिक स्थानों पर थूकते पाए गए लोगों के खिलाफ दिल्ली सरकार कड़ी कार्रवाई करेगी।”

उन्होंने आगे कहा- डेढ़ महीना हो गया है। मुझे लगता है कि दिल्ली आज लॉकडाउन खोलने को तैयार है। पूरी दिल्ली रेड जोन में है। हमने केंद्र के सभी दिशा-निर्देश माने। पर दो बड़ी दिक्कतें आईं। पहली- जनता की तकलीफ। लोगों की नौकरियां गईं। उद्योग, काम धंधे बंद हैं। लोग दिल्ली छोड़ कर जाएंगे। पूरी अर्थव्यवस्था गड़बड़ा गई है।

COVID-19 in Rajasthan LIVE Updates

बकौल केजरीवाल, “हम बहुत दिन इसे (Lockdown) बर्दाश्त नहीं कर पाएंगे। दूसरा- सारी अर्थव्यवस्था बंद है। सरकारी राजस्व आना बंद हो गया है। तनख्वाएं कहां से देंगे? सरकारें कैसे चलेंगी? अप्रैल में हर साल 3500 करोड़ रुपए का राजस्व आया करता था, पर इस साल सिर्फ 300 करोड़ का राजस्व आया है। ऐसे में तनख्वाएं कैसे दी जा सकती हैं?”

Bihar Coronavirus LIVE Updates

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना: 7 दिन में मर गए 500 लोग, 50 से 100 पहुंची रोज की संख्या, PIB नहीं दे रहा मौतों का आंकड़ा
2 कोरोना काल में ‘गुम’ हो गए बाकी बड़े संकट? पूर्व FM बोले- कभी न पता लगेगा कि कितने भूख से मरे, क्योंकि सरकारें कभी स्वीकारेंगी नहीं
3 6 साल में Bank of Baroda का NPA छह गुणा से अधिक तो Indian Bank के में चार गुना का इजाफा- RTI में खुलासा
ये पढ़ा क्या?
X