हम और इंतजार नहीं कर सकते, माल्या के खिलाफ अवमानना मामले में SC करेगा 18 को सुनवाई, बच्चों को ट्रांसफर किए थे 4 करोड़ डॉलर

यह मामला माल्या के अपने बच्चों को ट्रांसफर किए गए 4 करोड़ अमेरिकी डॉलर से जुड़ा है। माल्या ने ब्रिटिश कंपनी डिएगो से मिले चार करोड़ डॉलर अपने बच्चों को दिए थे।

VIJAY MALYA
किंगफिशर एयरलाइंस का मालिक विजय माल्या। (फोटोः इंडियन एक्सप्रेस)

विजय माल्या के खिलाफ अवमानना के मामले की सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट ने हामी भर दी है। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि वो 18 दिसंबर को इस मामले को देखेगा। अगर माल्या खुद पेश नहीं होते हैं तो उनके वकील उद्योगपति की तरफ से जवाब देंगे। कोर्ट ने एक अधिवक्ता को एमीकस क्यूरी बनाने का ऐलान करते हुए कहा कि वह इस मामले में इंतजार नहीं कर सकती।

यह मामला माल्या के अपने बच्चों को ट्रांसफर किए गए 4 करोड़ अमेरिकी डॉलर से जुड़ा है। माल्या ने ब्रिटिश कंपनी डिएगो से मिले चार करोड़ डॉलर अपने बच्चों को दिए थे। भारतीय स्टेट बैंक के नेतृत्व वाले बैंकों के समूह की ने अपनी याचिका में कहा था कि माल्या का यह कृत्य विभिन्न न्यायिक आदेशों का घोर उल्लंघन है। माल्या ने याचिका दायर कर सुप्रीम कोर्ट के मई 2017 के उस आदेश पर पुनर्विचार करने की मांग की थी, जिसमें उसे आदेश का उल्लंघन कर अपने बच्चों के खातों में चार करोड़ डॉलर ट्रांसफर के लिए अदालत की अवमानना का दोषी ठहराया गया था।

हालांकि, माल्या की पुनर्विचार याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था। 2017 में अदालत की अवमानना मामले में दायर माल्या की इस याचिका पर सुनवाई के बाद कोर्ट ने कहा कि इसमें कोई मैरिट नही हैं, जिस पर विचार किया जाए। उस दौरान अदालत ने अपनी रजिस्ट्री से पूछा था कि माल्या की पुनर्विचार याचिका पिछले 3 साल से संबंधित न्यायालय के समक्ष सूचीबद्ध क्यों नहीं की गई। रजिस्ट्री को उन अधिकारियों के नाम समेत सभी जानकारियां देने का निर्देश दिया गया था जिनके पास 3 वर्षों के दौरान पुनर्विचार याचिका की फाइल थी।

बैंक का 9 हजार करोड़ रुपये का कर्ज नहीं चुकाने का आरोपी माल्या अभी ब्रिटेन में रह रहा है। केंद्र की तरफ से आज सुप्रीम कोर्ट को बताया गया कि माल्या की प्रत्यर्पण प्रक्रिया अंतिम दौर में है। वह खुद भी ब्रिटेन की कोर्टों में अपील करते-करते आजिज आ चुका है। उसे वापस लाने की प्रक्रिया में कुछ गोपनीय चीजें चल रही हैं। जल्दी वो सब पूरी कर ली जाएंगी।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।