ताज़ा खबर
 

एग्जिट पोल में NDA की जीत बताने पर NDTV फाउंडर ने मांगी माफी, बताया कहां हुई गलती

एनडीटीवी के अलावा टुडेज-चाणक्‍य भी गलत एग्जिट पोल के लिए माफी मांग चुका है।
Author नई दिल्‍ली | November 9, 2015 16:21 pm
एनडीटीवी चैनल पर दिखाए गए एग्जिट पोल का नतीजा ये था। फोटो क्रेडिट एनडीटीवी।

NDTV के फाउंडर प्रणय रॉय ने बिहार चुनाव के नतीजे को लेकर पैदा हुए कन्‍यूफ्यूजन के लिए माफी मांगी है। रॉय के चैनल पर दिखाए गए एग्जिट पोल में बीजेपी की जीत का दावा किया गया था, लेकिन बिहार में प्रचंड बहुमत के साथ महागठबंधन जीत गया। एनडीटीवी के अलावा टुडेज-चाणक्‍य भी गलत एग्जिट पोल के लिए माफी मांग चुका है। उसने एनडीए को 155 सीटें मिलने की संभावना जताई थी। दूसरी ओर एनडीटीवी पर एग्जिट पोल को लेकर कराई गई डिबेट में मौजूद रहे वरिष्‍ठ पत्रकार शेखर गुप्‍ता ने ट्वीट कर बताया है कि चुनाव विश्‍लेषक और आम आदमी पार्टी से निकाले गए नेता योगेंद्र यादव ने कैसे उन्‍हें शर्मिंदगी से बचाया। शेखर गुप्‍ता ने एक स्लिप का स्‍क्रीन शॉट टि्वटर पर शेयर किया है, जो कि योगेंद्र यादव ने उन्‍हें दी थी। इसमें लिखा था- ”माई गुड सेंस : क्लियर कम्‍फरटेबल मेजोरिटी फॉर जीडीयू-आरजेडी-कांग्रेस” यानी बहुत महागठबंधन को मिलने वाला है।

पढ़ें, प्रणय रॉय का ओपन लेटर

“NDTV 30 साल से चुनावी विश्‍लेषण और कवरेज का हॉलमार्क है। एग्जिट पोल दिखाते वक्‍त हम आपको स्‍पष्‍ट तौर पर बताते हैं कि यहां पर गड़बड़ी है, जिसे सीरियसली नहीं लेना चाहिए। यह साल पूरी दुनिया के लिए एग्जिट पोल्‍स के लिहाज से बहुत खराब रहा है। यूके में पोल गलत साबित हुए, तुर्की में भी ऐसा और तो और पिछले यूएस इलेक्‍शन में ग्रेट गैलप पोल भी गलत साबित हो गया था। इससे पहले 32 साल पूर्व हमसे ऐसी गलती हुई थी। उस वक्‍त एनटी रामाराव ने आंध्रप्रदेश में तूफानी जीत दर्ज की थी। उसके बाद कभी हमने इतनी बड़ी गलती नहीं की। हालांकि, कई बार थोड़ी बहुत कमी रह गई, लेकिन इतनी बड़ी गलती नहीं हुई। हर बार की तरह इस बार भी हमने अपनी तरफ से कोशिश में कोई कमी नहीं रखी। हमने सैंपल साइज बड़ा रखने की कोशिश की, हर विधानसभा क्षेत्र में गए। पोल के लिए सैंपल हमने खुद ही लिया था और एजेंसी को दे दिया था। आमतौर पर ये एजेंसियां भरोसेमंद होती हैं, लेकिन इस बार उन्‍होंने गलती कर दी और ये सब हो गया।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.