ताज़ा खबर
 

वाटरमैन राजेंद्र सिंह की शिकायत- मोदी ने गंगा के नाम पर भ्रष्टाचार बढ़वाया, कुछ नहीं किया

राजेंद्र सिंह ने गंगा के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की नीतियों का बखान किया। उन्होंने कहा कि उनके रहते गंगा पर तीन बांधों के काम 60 फीसदी पूरा हो चुके थे। लेकिन, फिर भी मनमोहन सिंह ने उसे रुकवा दिया।

भारत के वाटरमैन नाम से मशहूर सामाजिक कार्यकर्ता राजेंद्र सिंह ने गंगा नदी पर पीएम मोदी की नीतियों की आलोचना की है. (फोटो सोर्स: एक्सप्रेस आर्काइव)

दुनिया भर में वाटरमैन नाम से मशहूर मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित सामाजिक कार्यकर्ता राजेंद्र सिंह ने गंगा नदीं की हालत पर पीएम मोदी को निशाने पर लिया है। उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी पर गंगा के नाम पर भ्रष्टाचार बढ़ाने का आरोप लगाया। राजेंद्र सिंह ने कहा कि पीएम मोदी ने गंगा नदी के किनारे सिर्फ सुंदरीकरण करने का काम किया है। जबकि, नदी का स्वास्थ्य लगातार चिंता का विषय बना हुआ है। टेलिग्राफ के मुताबिक उन्होंने कहा कि गंगा के रक्त-संचार में समस्या है और मोदी सरकार उसके दांत का इलाज कर रही है। गंगा में प्रदूषण और बहाव क्षेत्र में अतिक्रमण गंभीर समस्या है। लेकिन, इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

राजेंद्र सिंह गंगा सद्भावना यात्रा के तहत पश्चिम बंगाल में हैं। वह 11 राज्यों से होकर बहने वाली गंगा नदी की 2,250 किलोमीटर की यात्रा कर रहे हैं। राजेंद्र सिंह ने कहा है कि पीएम मोदी ने बीते साढ़े चार साल में गंगा के लिए कुछ नहीं किया। उनकी सरकार ने गंगा के नाम पर सिर्फ बंटवारे की राजनीति की है। सिंह ने कहा कि सबसे बड़ी समस्या यह है कि प्रधानमंत्री और उनके समर्थक गंगा को हिंदुओं की नदी घोषित करने पर तुले हैं। यह बंटवारे की राजनीति है। गंगा सभी धर्मों के लोगों की है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री बनने से पहले मोदी ने खुद को गंगा का बेटा बताया था। नदी के कायाकल्प की बात कही थी। 3 महीने के भीतर काम को जमीन पर उतारने का वादा भी किया था। तब हमे भी उनसे काफी उम्मीदें थीं। लेकिन, साढ़े चार सालों में कुछ भी ठोस काम नहीं हो पाया। उन्होंने गंगा के नाम पर सिर्फ मंत्रालय बनाने का काम किया और इसके जरिए हजारों करोड़ रुपये के भ्रष्टाचार का मौका दिया। वहीं, गंगा की हालत आज भी दयनीय बनी हुई है। इस दौरान राजेंद्र सिंह ने गंगा के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की नीतियों का बखान किया। उन्होंने कहा कि उनके रहते गंगा पर तीन बांधों के काम 60 फीसदी पूरा हो चुके थे। लेकिन, फिर भी मनमोहन सिंह ने उसे रुकवा दिया। वह बोलते नहीं बल्कि करके दिखाते थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App