ताज़ा खबर
 

रेल पटरियों के बहने से हुआ हरदा ट्रेन हादसा: रेलमंत्री

रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने बुधवार को कहा कि मध्य प्रदेश में हरदा के समीप माचक नदी में अचानक आई बाढ़ के कारण रेल पटरियां बह गईं। जिससे दो ट्रेनें दुर्घटनाग्रस्त हो गईं..
हरदा के निकट दुर्घटनाग्रस्त ट्रेन (पीटीआई फोटो)

रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने बुधवार को कहा कि मध्य प्रदेश में हरदा के समीप माचक नदी में अचानक आई बाढ़ के कारण रेल पटरियां बह गईं। जिससे दो ट्रेनें दुर्घटनाग्रस्त हो गईं। इस हादसे में 12 लोगों की मौत हो गई एवं 25 अन्य घायल हो गए। उन्होंने कहा कि वे राहत एवं बचाव कार्यों के लिए स्वयं घटनास्थल पर जा रहे हैं। प्रभु ने संसद के दोनों सदनों में स्वत: आधार पर दिए अपने बयान में कहा कि घटना का प्रथम दृष्टया कारण भारी वर्षा के कारण अचानक आई बाढ़ बताया जा रहा है।

प्रभु ने कहा-उपलब्ध सूचना के अनुसार इस दुर्भाग्यपूर्ण हादसे में 12 यात्रियों की मौत हो गई है और 25 घायल हो गए। उन्होंने बताया कि राजेंद्रनगर मुंबई जनता एक्सपे्रस से अब तक 11 शव और मुंबई-वाराणसी कामायनी एक्सपे्रस से एक शव बरामद किए गए हैं। उन्होंने कहा कि हताहतों की वास्तविक संख्या का पता लगाया जा रहा है। बहरहाल मध्य प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने मृतकों की संख्या 24 बताई है।

प्रभु ने कहा कि सांविधिक जांच के आदेश दे दिए गए हैं। आयुक्त (सुरक्षा) इसकी जांच करेंगे। उन्होंने कहा कि सभी महत्वपूर्ण स्थलों पर हेल्पलाइन नंबर बनाए गए हैं। रेलवे को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में सभी एहतियात बरतने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि रेलवे प्रभावित हुए यात्रियों के बचाव के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। राहत एवं बचाव कार्यों का जायजा लेने के लिए वे रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा के साथ घटनास्थल पर जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मौके पर पहुंच गए हैं। चौहान ने रात भर राहत एवं बचाव कार्यों की निगरानी की। प्रभु ने हादसे का ब्यौरा देते हुए कहा कि ट्रेन संख्या 11071 डाउन मुंबई-वाराणसी कामायनी एक्सप्रेस व ट्रेन संख्या 13201 अप राजेंद्र नगर-मुंबई जनता एक्सपे्रस पश्चिम मध्य रेलवे के खंडवा इटारसी सेक्शन पर खिरकिया एवं भिरंगी के बीच मंगलवार रात करीब 11:30 पर पटरी से उतर गई। पटरी बह जाने के कारण कामायनी एक्सप्रेस के 11 कोच पटरी से उतर गए। उसी समय विपरीत दिशा से आ रही जनता एक्सपे्रस भी पटरी से उतर गई।

रेल मंत्री ने कहा कि दुर्घटना राहत चिकित्सा वैन के साथ दुर्घटना राहत ट्रेनों को इटारसी से फौरन रवाना कर दिया गया। जो सुबह दो बजकर 20 मिनट पर भिरंगी पहुंची। इसी प्रकार की एक अन्य वैन सुबह तीन बजकर 25 मिनट पर खिरकिया पहुंची।

प्रभु ने कहा कि प्रत्येक मृतक के निकट परिजन को दो लाख रुपए की अनुग्रह राशि दी जाएगी। इसी प्रकार गंभीर रूप से घायल व्यक्ति को 50 हजार रूपए और मामूली रूप से घायल व्यक्ति को 25 हजार रुपए दिए जाएंगे।

राज्यसभा में प्रभु के इस बयान से ठीक पहले सभापति हामिद अंसारी ने इस घटना में मारे गए लोगों के प्रति पूरे सदन की ओर से शोक व्यक्त किया। इसके बाद सदस्यों ने इस हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के सम्मान में कुछ पलों का मौन रखा।

इसके बाद संसदीय कार्य राज्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि रेल मंत्री सुरेश प्रभु सदन को मध्य प्रदेश रेल हादसे के बारे में अवगत कराएंगे। इसी बीच कांगे्रस के सदस्यों ने लोकसभा अध्यक्ष द्वारा गत सोमवार को कांगे्रस के 25 सदस्यों को पांच दिनों के लिए निलंबित करने के विरोध में सरकार के तानाशाही रवैये के विरोध में नारेबाजी शुरू कर दी।

नारेबाजी के बीच ही सदन के नेता अरुण जेटली ने प्रभु को खड़े होकर बयान देने की सलाह दी। इसके बाद प्रभु ने अपना बयान दिया। इसी बीच विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद को प्रभु के बयान के दौरान कांगे्रस के सदस्यों को शांत करवाते देखा गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App