ताज़ा खबर
 

वाशिंगटन पोस्ट की चिंता- विशाल जीत को हिंदू राष्ट्रवाद पर मैंडेट मानेंगे पीएम नरेंद्र मोदी, अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प भी रहेंगे चुप

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरी बार भारी बहुमत से सत्ता में आने के बाद वाशिंगटन पोस्ट ने चिंता जताई है। वेबसाइट के लेख के अनुसार पीएम मोदी इस विशाल जीत को आर्थिक सुधार के बदले हिंदू राष्ट्रवाद पर जनादेश मानेंगे।

जीत के बाद विजयी मुद्रा में पीएम नरेंद्र मोदी। ( फोटोः पीटीआई)

लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारी बहुमत से सत्ता में वापसी की है। पीएम मोदी की इस चमत्कारिक जीत से कई लोग बिल्कुल हैरान है। वाशिंगटन पोस्ट ने एक लेख में मोदी की जीत पर चिंता व्यक्त की है। लेख में कहा गया है कि भारत एक विशाल लोकतंत्र है लेकिन मोदी की जीत इसके (लोकतंत्र) के लिए ठीक नहीं है।

इसमें चिंता जताई गई है कि पीएम मोदी इस विशाल जनादेश को जरूरी आर्थिक सुधारों को बल देने की बजाय हिंदू राष्ट्रवाद के लिए जनादेश मानेंगे। वहीं, अमेरिका के साथ दोस्ताना संबंधों का फायदा उठा सकते हैं। अमेरिका भी भारत के करीबी संबंध बनाना चाहता है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी पीएम मोदी की प्रशंसा कर चुके हैं। ऐसे में वह अपनी तरफ से चुप्पी बनाए रख सकते हैं।

इसके अनुसार पीएम मोदी पांच साल पहले आर्थिक सुधार, भ्रष्टाचार मुक्त शासन जैसे मुद्दों के बल पर सत्ता में आए थे। वहीं, इस चमत्कारिक नेता का चुनाव में मुद्दा इस बार बिल्कुल ही बदला हुआ था। लेख कहता है कि पीएम मोदी को इस बार की जीत पूरी तरह से राष्ट्रवाद और सांप्रदायिकता के आधार पर मिली है।

इस बार का चुनाव प्रचार कश्मीर में आतंकी हमले के जवाब में परमाणु हमला करने जैसे बड़ी-बड़ी बातें की गई। जबकि यह साफ नहीं हो सका है कि बालाकोट में किए गए हवाई हमले में वायुसेना के विमानों ने पाकिस्तान में आतंकी शिविरों को नष्ट किया या नहीं। प्रधानमंत्री मोदी ने लोगों से हिंदू अंध राष्ट्रवाद की अपील की।

भाजपा ने इस बार ऐसे वादे किए जिससे देश के 18 करोड़ मुसलमानों में नाराजगी पैदा होगी। जैसे तोड़ी गई मस्जिद के स्थान पर राम मंदिर का निर्माण। वाशिंगटन पोस्ट ने परोक्ष रूप से साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का जिक्र करते हुए कहा है कि इस बार संसद में चुनी गई एक प्रतिनिधि पर आतंकी हमले का आरोप है जिसमें मुसलमान मारे गए थे। इतना ही नहीं इस सांसद ने महात्मा गांधी के हत्यारे को देशभक्त भी बताया था।

पॉपुलिज्म की तरफ बढ़ते मोदीः लेख में कहा गया है कि पीएम मोदी पॉपुलिज्म की तरफ बढ़ रहे हैं। इसे अर्थव्यवस्था को गति देने के उनके मिलेजुले रिकॉर्ड से देखा जा सकता है। उन्होंने नया दिवालिया कानून, जीएसटी जैसे कुछ महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं लेकिन दूसरे सुधारों को टाल दिया है।

इसमें भूमि और रोजगार से जुड़े सुधार शामिल हैं। पीएम ने हर साल 1 करोड़ रोजगार देने का वादा किया था। इसके करीब पहुंचने के बजा. विकास दर सुस्त पड़ गई और बेरोजगारी दर 6.1 फीसदी पर पहुंच गई। यह पिछले 45 सालों में सबसे अधिक है।

गैर-उदारवाद एजेंडा को आगे बढ़ायाः पीएम की तरफ से गैर उदारवार रवैये को आगे बढ़ाने की बात कही गई है। पीएम मोदी ने भारतीय मीडिया को नापसंद किया है। साथ उन्होंने पिछले पांच साल में एक भी औपचारिक प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं की। आलोचना करने वाले कुछ पत्रकारों और गैर सरकारी संगठनों पर दबाव बनाने व डराने की बात भी कही गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X
Next Stories
1 Election Results 2019: मंत्री पद पर एनडीए के सारे सहयोगी नरम, शिवसेना की भी अकड़ टूटी, रामविलास के बेटे की चमक सकती है किस्मत
2 बीजेपी को प्रचंड बहुमत मिलने के बाद आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत बोले- राम का काम होकर रहेगा
3 National Hindi News, 27 May 2019 Updates: 26 साल बाद सिक्किम को मिला नया CM, प्रेम सिंह गोले ने ली शपथ
ये पढ़ा क्या?
X