ताज़ा खबर
 

‘भारत माता की जय’ नहीं बोलने पर AIMIM विधायक महाराष्‍ट्र विधानसभा से निलंबित, पढ़ें पूरा घटनाक्रम

पठान की पार्टी के अध्‍यक्ष और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने रविवार को कहा था कि उनकी गर्दन पर छुरी भी रख दी जाएगी तब भी वह भारत माता की जय नहीं कहेंगे।
वारिस पठान बायकुला से विधायक हैं। वारिस पठान ने अक्‍टूबर 2014 में हुए चुनाव में कांग्रेस विधायक मधु चव्‍हाण को 1357 सीटों से हराया था। (source- facebook)

महाराष्‍ट्र विधानसभा में बुधवार को एआईएमआईएम नेता वारिस पठान को ‘भारत माता की जय’  न बोलने की वजह से सस्‍पेंड कर दिया गया। बीजेपी नेता आशीष शेलार ने बताया कि वारिस पठान को निलंबित करने का प्रस्‍ताव एकमत से विधानसभा में मंजूर हो गया। साउथ मुंबई के बायकुला से विधायक वारिस वकालत के पेशे से भी जुड़े हुए हैं। अब पठान पूरे बजट सेशन के दौरान विधानसभा सत्र में हिस्‍सा नहीं ले सकेंगे। संसदीय मामलों के मंत्री गिरीश बापट ने कहा, ” देश के महापुरुषों का अपमान करने और भारत माता की जय बोलने से इनकार करने के लिए पठान को सस्‍पेंड किया गया है।”

कैसे शुरू हुआ मामला
मामला उस वक्‍त शुरू हुआ, जब औरंगाबाद से एआईएमआईएम के एमएलए इम्‍त‍ियाज जलील विधानसभा में गवर्नर के अभिभाषण पर हो रही बहस के दौरान संबोधित कर रहे थे। जलील ने कहा कि सरकार को टैक्‍सपेयर्स का पैसा ‘महान हस्‍त‍ियों’ के स्‍मारक बनाने पर खर्च नहीं करना चाहिए। एक शिवसेना के एमएलए ने उन्‍हें रोकते हुए कहा कि जलील की पार्टी के नेता ओवैसी ने कहा हाल ही में कहा कि वे ‘भारत माता की जय’ नहीं बोलेंगे। इस पर पठान ने कहा, ”हम जय हिंद कहेंगे लेकिन भारत माता की जय नहीं। ऐसा कहने के लिए बाध्‍य नहीं किया जाना चाहिए। संविधान ऐसा नहीं कहता।” उनकी इस टिप्‍पणी के बाद सत्‍ताधारी बीजेपी और शिवसेना के सदस्‍यों के अलावा एनसीपी और कांग्रेस सदस्‍यों ने भी एआईएमआईएम विधायकों को सस्‍पेंड करने की मांग की।

रेवेन्‍यू मिनिस्‍टर एकनाथ खडसे ने कहा कि दोनों विधायकों को माफी मांगनी चाहिए लेकिन सदन में मौजूद अधिकतर पार्टियों के सदस्‍यों ने राजनीतिक विरोध को भुलाते हुए निलंबन की मांग की। बापत ने कहा कि वे एआईएमआईएम विधायकों को सदन से निलंबित करने से जुड़ा प्रस्‍ताव रखेंगे, जिस पर मंजूरी की जरूरत होगी। इसके बाद सदन की कार्यवाही 10 मिनट के लिए टाल दी गई। इसके बाद, शोरगुल के बीच कार्यवाही तीन बार और स्‍थगित हुई। कार्यवाही जब दोबारा से शुरू हुई तो गृह राज्‍य मंत्री रंजीत पाटिल ने पठान के निलंबन का प्रस्‍ताव रखा, जिसे सदन ने एकमत से मंजूरी दे दी। मंत्री ने कहा, ”पठान ने अभिव्‍यक्‍त‍ि की स्‍वतंत्रता के अधिकार का गलत इस्‍तेमाल किया है। उन्‍होंने संसदीय परंपराओं का उल्‍लंघन किया और भारत माता का अपमान किया।” मंत्री के मुताबिक, सदन की भावनाओं को ध्‍यान में रखते हुए यह प्रस्‍ताव पास किया।

बता दें कि पठान की पार्टी के अध्‍यक्ष और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने रविवार को कहा था कि उनकी गर्दन पर छुरी भी रख दी जाएगी तब भी वह भारत माता की जय नहीं कहेंगे। उनके बयान पर राज्‍यसभा सांसद जावेद अख्‍तर ने मंगलवार को सदन में कहा था कि वह तो भारत माता की जय बोलेंगे, क्‍योंकि यह उनका अधिकार है।जावेद अख्‍तर ने ओवैसी को मोहल्‍ले का नेता बताते हुए कहा था कि एक साहब कहते हैं कि वह भारत माता की जय नहीं बोलेंगे, क्‍योंकि संविधान में ऐसा नहीं लिखा है। तो संविधान में यह भी नहीं लिखा है कि शेरवानी-टोपी पहनें।

वारिस पठान के बारे में जान‍िए 

FotorCreated

READ ALSO: 

सदन में भारत माता की जय के नारे लगा और ओवैसी को मोहल्‍ले का नेता बता TWITTER ट्रेंड में आए Javed Akhtar

ओवैसी को नजमा का जवाब- कोई गर्दन पर छुरी भी रख दे तब भी बोलूंगी ‘भारत माता की जय’ 

‘भारत माता’ के बयान पर PIL दायर होने के बाद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा- जय हिंद

असदुद्दीन ओवैसी का आरएसएस प्रमुख को जवाब- नहीं बोलूंगा भारत माता की जय, क्या कर लोगे भागवत साहब

जावेद अख्‍तर का ओवैसी को जवाब, राज्‍यसभा में लगाए भारत माता की जय के नारे

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App